मंगलवार, 30 नवंबर 2010

बचपन में पैरा -सिटामोल का ज्यादा स्तेमाल आगे चलकर दमा और अन्य एलेर्जीज़ की वजह भी बन सकता है .

पैरा -सिटामोल इन चाइल्ड -हुड मे काज एस्मा ,एलर्जीज़ लेटर (di taaims of india ,mumbai ,navambar ३० ,२०१० ,prishthh १९ )।
" klinikal end eksperimental elarjee "में ek adhayayn praksshit huaa है .isme batlaayaa gyaa है bachapan में पैरा -सिटामोल का gaahe bagaahe स्तेमाल आगे चलकर दमा (एस्मा )EVM अन्य एलर्जीज़ की वजह भी बन सकता है .christchurch ,Newzealand में is adhayayan में ५०६ shishu(infants ) evm ९१४ baalkon(children ) ko shareek kiyaa gyaa ।
beshak is silsile में abhi aur shodh kaaray honaa chaahiye kyonki filvakt(filaal ) पैरा -सिटामोल का jvr niyantarn(fever control ) में स्तेमाल is se hone vaali bhavishay में kisi sambhaavit , elarji की tulnaa में ज्यादा nzr aa rhaa है .faayde ज्यादा dhikh rahen hain ।
yahi kahnaa है otago university wellington में kaarayrat profesar julian crane का .bakaul aapke dikkat पैरा स्तेमाल ke be -dhadak ,aur liberal स्तेमाल se judi है ।
is baat ke saakahsy hain isi str par kuchh galat ho rhaa है .kyaa ?iskaa sateek rekhaankan filaal mumkin nahin ho paa rhaa है .lekin kahin kuchh galat zaroor ho rhaa है .zaroorat iski jd tak jaane की है .

2 टिप्‍पणियां: