गुरुवार, 25 मई 2017

The Power Of The Moola Mantra (The Oneness ) मूल मंत्र की शक्ति (एकत्व )


The Power Of The Moola Mantra (The Oneness )
मूल मंत्र की शक्ति (एकत्व )
Whenever you chant the Moolamantra even without knowing the meaning of it ,that itself carries power .But when you know the meaning and chant with that feeling in your heart then the energy will flow million times more powerful .
जब भी आप मूल मंत्र का जाप करते हैं भले आपको इसका अर्थ- बोध (पता) न हो ,तब भी यह शक्ति लिए रहता है। शक्ति दायक होता है। और यदि मतलब भी इसका पता हो और हृदय उस भाव की अनुभूति और एहसास लिए हो तब ऊर्जा का यह परवाह दस लाख गुना हो जाता है।
The Mantra is like calling a name .Just like when you call a person he comes and makes you feel his presence ,the same manner when you chant this Mantra ,the supreme energy manifests everywhere around you .
यह किसी को नाम से बुलाने ,नाम बोलकर आवाहन करने के समान है। जैसे किसी व्यक्ति को पुकारने पर वह आ जाए और अपनी मौजूदगी का कराए ,ऐसे ही जब आप इस मंत्र को जपते हैं परमऊर्जा आपके गिर्द प्रकट होने लगती है।
As the universe is omnipresent ,the supreme energy can manifest anywhere and at any time .It is also very important to know that the invocation with all humility ,respect and with great necessity makes the presence stronger .
जैसे यह सृष्टि सब जगह मौजूद है (आकाश की तरह सबको आच्छादित किए है ,सब कुछ आकाश में मौजूद रहता है लेकिन आकाश लिपायमान नहीं होता किसी भी जड़ चेतन से अलिप्त ही रहता है ),यह परम ऊर्जा किसी भी जगह और और किसी भी समय (यानी स्थान और काल में कहीं भी कभी ही )प्रकट हो सकती है। महत्वपूर्ण यह जान ना भी बहुत ज़रूरी है ,इसका आवाहन पूरी विनम्रता ,आस्था ,आदर और ज़रूरियात के साथ करने पर इसका होना ,मौजूदगी , प्राकट्य भी प्रबलतर हो जाता है।
Mool Mantra
Om Sat Chit Anand Parabrahama,
Purushothama Paramatma ,
Sri Bhagvati Sametha ,
Sri Bhagvathe Namaha .
मूल मंत्र
ॐ सत चित आनंद परब्रह्मा
पुरुषोतमा परमात्मा
श्री भगवती समेत: (समेथा )
श्री भगवते (भगवथे ) नम :
हरी ॐ हरी ॐ हरी ॐ तत्सत ,हरी ॐ तत्सत
Om -
We are calling on the highest energy, of all there is .
ॐ -सबसे शक्तिमान परमऊर्जा का आवाहन कर रहें हैं हम
Sat -The Formless
सत -निराकार (अनंत ,अरूप ,सनातन अस्तित्व )
Chit -Consciousness of the universe
चित -सृष्टि का चेतन तत्व (अनंत ज्ञान स्वरूपा चेतना ,सब कुछ का ज्ञान रखने वाली )
Ananda -Pure love bliss and joy
आनंद -पवित्र प्रेम आह्लाद और ख़ुशी
Para Brahama -The supreme creator
परब्रह्मा -परम रचेता
Purushothama -Who has incarnated in human form to help guide mankind
पुरुषोतमा -जो मनुष्य रूप में मनुष्यता का मार्गदर्शन ,निदेशन करने के लिए प्रकट हुआ है।
Paramatma -Who comes to me in my heart and becomes my inner voice
whenever I ask
परमात्मा - जो मेरे हृदय में मेरी अंदरूनी(आंतरिक ) आवाज़ बन के कभी भी बुलाने पे आ जाता है।( मेरा हृदय ही जिसका वास है ,इसीलिए वह वासु है वासुदेव है )
Sri Bhagvate -The divine mother ,the power aspect of creation
श्री भगवते -दिव्यश्री माँ ,शक्ति स्वरूपा पहलू सृष्टि का (प्रकृति और पुरुष इसी से तो सृष्टि है )
Same Tha - Together within
समे था -एक साथ अंदर (और बाहर भी )
Sri Bhagvate-The father of creation which is unchangeable and permanent
श्री भगवते -सृष्टि पिता (मालिक ,मौला )
Namaha -I thank you and acknowledge this presence in my life . I ask for your guidance at all times
नम :(नमा :)-मैं तुम्हारा धन्यावाद (शुक्रिया ,साधुवाद )करता हूँ ,इस होने को ,आपकी मौजूदगी को मान्य पाता हूँ ,तस्दीक करता हूँ ,मानता हूँ। तुमसे पथ -प्रदर्शन मिलते रहने की हर दम मांग करता हूँ।
Om has hundred different meanings.It is said 'In the beginning was the supreme word and the word created everything .That word is Om '.If you are meditating in silence deeply ,you can hear the sound Om within .The whole creation emerged from the sound Om .
ॐ के अलग अलग सौ मायने -मतलब निकलते हैं। सृष्टि के आरम्भ में यही एक ध्वनि थी (जिसे अलग अलग धर्मों में बे -शक अलग अलग नामों से पुकारा गया है ). इसी एक ध्वनि से साड़ी सृष्टि ,सारा पसारा ,सारी कायनात उपजी ,पैदा हुई। यह एक शब्द ॐ है (सनातन वैदिक धर्म में ,कहीं ये ओअंकार है ,ओंकार ,प्रणव ,हुम् ,आमीन ,आमेन ,शालोम ,शिन ,मेम ,अलिफ़ ).यदि आप गहन अवस्था में डुबकी लगाए हैं ध्यान की आपको अपने अंदर यह ध्वनि ॐ सुनाई देगी। पूरी सृष्टि (ब्रह्माण्ड सारा )इसी से प्रसूत हुई है .
Sat Chit Ananda
सत चित आनंद (सच्चिदानंद )
Sat -The all penetrating existence that is formless ,shapeless ,omnipresent ,attributes less , and quality less aspect of the Universe . It is the Un -manifest . It is experienced as emptiness of Universe .......
सत -से अभिप्राय है सर्व -व्यापी अस्तित्व जो अरूप है ,जिसकी कोई आकृति -कोई मूरत नहीं है ,निराकार है,सब जगह मौजूद रहता है जो ,प्रत्येक काल में यकसां बना रहता है ,अपरिवर्तन शील (इसीलिए तो एक साथ सब जगह है ,आकार तो एक बार में एक ही जगह होगा ,छोटा या बड़ा अपना वही रूप लिए हुए ),निर्गुण है यानी तीनों गुणों सतो -रजो -तमो से परे ,यही ब्रह्म का निरंकार रूप है। निर्गुण कहा गया है इसे ही ,इसे कैसा भी कोई भी गुण देकर सीमित नहीं किया जा सकता है ,अनंत अस्तित्व है यह।
We could say it is the body of the Universe that is static .Everything that has a form and that can be sensed ,evolved out of this Un -manifest .It is so subtle that it is beyond all perceptions .......
हम कह सकते हैं ये ही है इस कायनात का बदन (देह ,शरीरा )जो थिर (स्थिर ,कायम रहता है सदा )है। हर आकारी चीज़ (आकार )इसी एक अव्यक्त से अभिव्यक्त हुआ है। यह इतना सूक्ष्म है जो हमारे बोध में नहीं आ पाता।
It can only be seen when it has become gross and has taken form .We are in the Universe and the Universe is in us .We are the effect and the Universe is the cause and the cause manifests itself as the effect.
स्थूल आकार ले लेने पर ही यह गोचर होता है दिखलाई देता है ,हम इस कायनात में हैं और कायनात हमारे अंदर है। हम कार्य(परिणाम ,प्रभाव ) हैं जिसका कारन यह सृष्टि है। और यह कारन ही प्रभाव में कार्य में हमारे होने में अभिव्यक्त हुआ है यानी कार्य -कारण दो हैं ही नहीं। तू मुझ में है,मैं तुझ में हूँ।
Chit -The pure consciousness of the Universe that is infinite ,Omni -present
manifesting power of the Universe
चित -सृष्टि की वह पावन ,निर -मल चेतना (ज्ञान -बोध )जो अनंत है। सर्वव्यापी है ,कायनात की ताकत (शक्ति स्वरूपा )होके प्रकट हुई है।
Out of this is evolved everything that we call Dynamic energy or force .It can manifest in any form or shape .It is the consciousness manifesting as motion , as gravitation , as magnetism ,etc......
इसी चित से सारा पसारा पसरा है सारी कायनात उपजी है ,इसे ही गत्यात्मक ऊर्जा या बल ,एक्टिव प्रिंसिपल भी कहा गया है ,यह किसी भी रूपाकार में प्रगटित हो सकती है। गति इसी गत्यात्मक चेतना का मूर्त रूप है ,परिणाम है। यह चेतना ही गति ,गुरुत्व (गुरुत्वाकर्षण )और चुम्बकत्व बन के प्रकट हुई है।
It is also manifesting as the actions of the body as thought force .It is the Supreme Spirit
विचार शक्ति (विचारणा बल )के रूप में यह हमारे (शरीर द्वारा किए गए )कर्मों के द्वारा भी प्रकट हो रहा है।
Ananda -This is the primordial characteristic of the Universe ,which is the greatest and most profound state of ecstasy that you can ever experience when you relate with your higher consciousness
आनंद सृष्टि का आदिम गुण (मूल बुनियाद है )यह परमानंद की सर्वोच्च अवस्था है चरम है आनंद का। इसका अनुभव आप तभी करते हैं जब उस उच्चतर चेतना से जुड़ते हैं।
Parabrahama -The Supreme Being in his Absolute aspect ; one who is beyond space and time .It is the essence of the Universe that is with form and without form .It is the Supreme Creator.
अपने परम (निरपेक्ष स्वरूप )में जो परम अस्तित्व है ,वह जो काल और अंतरिक्ष की सीमा से परे है ,जो अंतरिक्ष -काल से बद्ध नहीं है (अंतरिक्ष काल का भी जो सृष्टा है ).यही निराकार (निरंकार )स्वरूप है और साकार भी यही है।
सगुण मीठो खाँड़ सो निर्गुण कड़वो नीम ,
जाको गुरु जो परस दे ,ताहि प्रेम सो जीम।
Purushothama -This has different meanings .Purush means soul and Uthama means the supreme ,the Supreme spirit .It also means the supreme energy of force guiding us from the highest world.
पुरुषोत्तम -इसके अलग अलग अर्थ है ,परस्पर जुदा जुदा ,विभिन्न ,पुरुष का एक अर्थ है आत्मा (गीता में परमात्मा और आत्मा दोनों के लिए आया है अलग -अलग सन्दर्भों में ),उत्तम का अर्थ है सुप्रीम (सबसे ऊपर ,सबके ऊपर जिसके ऊपर कोई अन्य नहीं ,कुछ नहीं ); परम -आत्मा ,परम चेतन तत्व ।इसका एक अर्थ वह परम -ऊर्जा बाल भी लिया गया है ,वह परम शक्तिशाला ऊर्जा -बल जो हमें ऊंचे ते भी ऊंचे लोक से निर्देश दे रही है ,रास्ता दिखा रही है ,मार्ग -दर्शन कर रही है ,हमारा।
Purush also means Man ,and Purushothama is the energy that incarnates as an Avatar to help and guide Mankind and relate closely to the beloved Creation .
पुरुष का एक अर्थ पुरुष (लैंगिक संज्ञा ,आदमी या औरत ,मनुष्य मात्र )भी है और पुरुषोत्तमा (पुरुषोत्तम )वह ऊर्जा है जो मनुष्य रूप में पृथ्वी पर मानव मात्र की मदद और पथ -प्रदर्शक बन आती है। और जिसका करीबी रिश्ता रहता है हमारी सु-प्रिया कायनात से।
Paramatma -the supreme inner energy that immanent in every creature and in all beings ,living and non-living ......
परमात्मा -यह है वह परम आंतरिक ऊर्जा है जो जड़ और चेतन के कुदरती और अंदरूनी तौर पर संग है।
It's the indweller or the Antaryamin who resides formless or in any form desired .It's the force that can come to you whenever he wants to guide and help you .
यही हमारे हृदय प्रदेश में निवास करता है इसे ही अन्तर्यामी कहा गया है जो सब कुछ को देखता जानता है ,जो निराकार रूप में भी बना रहता है और वांच्छित हर स्वरूप -आकार में भी जिसकी मौजूदगी रहती है।जब चाहे अपनी कृपा हम पर आकर सकता है।
Sri Bhagvathi -the female aspect which is characterized as the Supreme Intelligence in action ,the Power (The Shakti ).It is referred to the Mother Earth (Divine Mother ) aspect of the creation .
Sametha -Together or in communion with .
Sri Bhagvathe - the Male aspect of the Creation which is unchangeable and permanent .
Namaha -Salutations or prostration to the Universe that is Om and also has the quality of Sat Chit Ananda , that is omnipresent , unchangeable and changeable at the same time .
The supreme spirit in a human form and formless ,the indweller that can guide and help in the feminine and masculine forms with the supreme intelligence . I seek your presence and guidance all the time .
This Mantra evokes the living God asking protection and freedom from all sorrow and suffering .It is a prayer that adores the great creator and liberator , who out of love and compassion manifests ,to protect us , in an earthly form .
This Moolmantra has given great peace and joy to the people all over the world ,who have chanted or even listened to it . It has the power to transport ones mind to the state of causeless love , and limitless joy .
The calmness that the mantra can give is to be experienced , not spoken about ....its the key with which any door to spiritual treasure can be opened . A tool which can be used to achieve all desires.
A medicine which cures all ills .The nectar that can set man free ! all auspiciousness and serenity is your simply by chanting or listening to this magnificent Moolmantra
The Moola Mantra Om Sat-Chit-Ananda Parabrahma Purushothama Paramatma Sri Bhagavathi Sametha Sri Bhagavathe Namaha Whenever you chant this Vedic Sanskrit Man...
YOUTUBE.COM

बुधवार, 24 मई 2017

कविता :देशभक्ति के रंग ----- कमांडर निशांत शर्मा।

कविता :देशभक्ति के रंग
----- कमांडर निशांत शर्मा।
तुझको मेरे मुझको तेरे प्यार का आभास हो,इंसान की इंसान से इंसानियत की आस हो।
कौम- औ- धरम के अफ़साने बहाने भूलकर , राम का रौज़ा रखूँ मैं ईद का उपवास हो।
देशभक्ति के जुनूं का रंग न कोई जात हो ,हिन्दू मुस्लिम सिख ईसाई हैं न एहसास हो।
सेज चंदन की मिले या हो नसीब दो गज़ ज़मीं ,इस वतन पे हो न्योंछावर अंतिम मेरी सांस हो।
खो रहा चैन -औ -अमन मज़हब ही मानो मर्ज़ हो ,राम में हो कुछ रहीम गीता कुरआन -ए -ख़ास हो।
मंदिर मस्जिद गिरजे गुरद्वारे ही जैसे रूठें हों ,मंदिर में 'अल्लाह हु अकबर 'गिरजे में अरदास हो।
मुझसे मेरा नाम औ ईमान तुम न पूछिए ,उत्तर -दाख्खिन पूरब पश्चिम हम वतन सब काश हों।
हाथ सिर और नज़रें तिरछी जो उठे मैं काट दूँ ,लहराए तिरंगा रक्त में लथपथ जो मेरी लाश हो।
६२३ ,आफिसर्स रेजिडेंशियल एरिया ,इंडियन नेवल अकादमी ,एज़िमला (कन्नूर )

प्रस्तुति :वीरेंद्र शर्मा (वीरुभाई )

रविवार, 13 नवंबर 2016

नोटों का मसला अंजाम नहीं आगाज़ है

नोटों का मसला अंजाम नहीं आगाज़ है

मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है ,

वही होता है जो मंजूर खुदा होता है।

ट्रम्प और मोदी ईश्वरीय योजना के तहत उस परिवर्तन का निमित्त बने हैं जो २०३४ तक मेरा युवाभारत देखेगा। पूरा विश्व देखेगा। मोदी के बाद अब जो भी आएगा करना उसे भी वही पड़ेगा जिसके होने के निमित्त मोदी बने हैं।

इस मौके पर स्वप्न दृष्टा भारत माता के गौरव एपीजे साहब की यादें ताज़ा हो उठीं  , २०२० तक जिस बड़े सपने के   होने की जो आशा उन्होंने भारत को एक विश्वशक्ति बनके उभरने की थी उस दिशा में देश आगे बढ़ने लगा है।

साक्षी भाव से प्रेक्षक  बने हम भी इस परिवर्तन को देखेंगे । आजकल ८० -८५ साल तक आदमी जी जाता है। ईश्वरीय विधान इस समय दुनिया में काम कर रहा है उसे ही साकार करने मोदी सोच के लोग आएं हैं।

आप हमें भी लाख गाली दे लें कहेंगे हम वही जो भारत के हित में है। हम भारत वासी तो तुलसी का पता तोड़ते वक्त ,पूजा के निमित्त वेलपत्र लेते वक्त भी इस जीव जगत से भी क्षमा मांगते हैं ,प्रकृति को खुद का हिस्सा मानते आएं हैं वही भारत का सनातन (प्रचलित रूप हिंदु मन ) ही वैश्विक योजना को मूरत देगा।

हमारे पर्वों पर धरती भारत से लेकर  ढ़ाका  तक खून से नहीं रंगती। हमारे लिए जड़ जंगम उसी ईश्वर की अभिव्यक्ति हैं।

इसलिए हम निश्चिन्त हैं :

चिंता ताकि कीजिये जो अनहोनी होय ,

इह मारग  संसार का ,नानक थिर नहीं कोय।

एक प्रतिक्रिया :

https://www.youtube.com/watch?v=h52oPQPi5xI

नोटों का मसला अंजाम नहीं आगाज़ है
मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है ,
वही होता है जो मंजूर खुदा होता है।
ट्रम्प और मोदी ईश्वरीय योजना के तहत उस परिवर्तन का निमित्त बने हैं जो २०३४ तक मेरा युवाभारत देखेगा। पूरा विश्व देखेगा। मोदी के बाद अब जो भी आएगा करना उसे भी वही पड़ेगा जिसके होने के निमित्त मोदी बने हैं।
इस मौके पर स्वप्न दृष्टा भारत माता के गौरव एपीजे साहब की यादें ताज़ा हो उठीं , २०२० तक जिस बड़े सपने के होने की जो आशा उन्होंने भारत को एक विश्वशक्ति बनके उभरने की थी उस दिशा में देश आगे बढ़ने लगा है।
साक्षी भाव से प्रेक्षक बने हम भी इस परिवर्तन को देखेंगे । आजकल ८० -८५ साल तक आदमी जी जाता है। ईश्वरीय विधान इस समय दुनिया में काम कर रहा है उसे ही साकार करने मोदी सोच के लोग आएं हैं।
आप हमें भी लाख गाली दे लें कहेंगे हम वही जो भारत के हित में है। हम भारत वासी तो तुलसी का पता तोड़ते वक्त ,पूजा के निमित्त वेलपत्र लेते वक्त भी इस जीव जगत से भी क्षमा मांगते हैं ,प्रकृति को खुद का हिस्सा मानते आएं हैं वही भारत का सनातन (प्रचलित रूप हिंदु मन ) ही वैश्विक योजना को मूरत देगा।
हमारे पर्वों पर धरती भारत से लेकर ढ़ाका तक खून से नहीं रंगती। हमारे लिए जड़ जंगम उसी ईश्वर की अभिव्यक्ति हैं।
इसलिए हम निश्चिन्त हैं :
चिंता ताकि कीजिये जो अनहोनी होय ,
इह मारग संसार का ,नानक थिर नहीं कोय।
एक प्रतिक्रिया :
Prime Minister Narendra Modi lays the foundation stone for New Green Field International Airport &…
YOUTUBE.COM
LikeShow more reactions
Comment


शनिवार, 12 नवंबर 2016

न था कुछ तो खुदा था ,कुछ न होता तो खुदा होता , डुबोया मुझको होने ने ,न होता मैं तो क्या होता।

न था कुछ तो खुदा था ,कुछ न होता तो खुदा होता ,

डुबोया मुझको होने ने ,न होता मैं तो क्या होता।


Diwan-E-Ghalib
Na Tha Kuch To Khuda Tha, Kuch Na Hota To Khuda Hota,
Duboyaa Mujh Ko Hone Ne, Na Hota Main To Kya Hota...
Translation:
1. When there was nothing, then God existed; if nothing existed, then God would exist.
2. 'being' drowned me; if I did not exist, then what would I be?
Meaning:
With what excellence he's given nonexistence priority over existence-- it's beyond praise. He says that when the world had not been born, then there was only the Lord himself. If this world of possibilities had not been engendered, then too there would have been only the Lord himself. Thus my existence, as it manifested itself, established me as a separate body, and that other body, having taken shape, ruined me. If I had not been born, and did not exist, then just think, what would I have been! That is, I would have been God.

बतलाते चलें आपको ये ग़ालिब साहब का आखिरी शैर था ,इस दौर तक आते आते वो ग़ालिब गायब हो चुका था जो कहता था -

हैं और भी दुनिया में सुखनबर बहुत अच्छे ,

कहते हैं के ग़ालिब का है अंदाज़े बयान और। 

यानी अपने को श्रेष्ठ क्या उस दौर का सर्वश्रेष्ठ ,चोटी  का,  शीर्ष शायर मानने का दम्भ साफ़ दिखलाई देता है इस शैर  में। 

(सुखनबर -कवि ,शायर ,तमाम किस्म के लिखाड़ियों के लिए प्रयुक्त होता है। )

उम्र के अंतिम पड़ाव तक आते आते वह ग़ालिब मर चुका था। उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ ,वह अस्तित्व और केवल अस्तित्व यानी इज़्नेस ,प्रेज़ेन्स (प्रीज़ेन्ट ),बीइंग होने को जान गए थे ,खुदा और बन्दे के बीच में यह अहम भाव आईनैस ,ही सबसे बड़ी रुकावट है।ये समय से बंधा अतीत ,भविष्य में भटकता मन ,जिसे फाल्स ईगो ने रचा है सबसे बड़ी बाधा हमारे अर्थ-पूर्ण अस्तित्व यानी बीइंग और माइंड जेनरेटिड फाल्स ईगो के बीच।  

तमाम गर्वोक्तियाँ अनकोंशश माइंड की ,फाल्स ईगो की उपज हैं। हर लिख्खाड़ मशहूरी चाहता है। मैं बहुत बड़ा लिखाड़ी हूँ ,खिलाड़ी हूँ ,बिग बोस ,बिग -बी हूँ। इसका नुक्सान यह है आदमी क्लॉक टाइम की गिरिफ्त के आगे बीइंग तक नहीं पहुँच पाटा पाता जो समय मुक्त है। 

मन हमारे अवचेतन मन की पैदावार है ,फसल है ,हमारी एब्सेंस की खबर है। मन अतीत और भविष्य में ही पनाह ढूंढता है। बीइंग की ,प्रीजेंस की अनदेखी करता है। जबकि भविष्य तो इसी अवचेतन से पैदा माइंड का प्रोजेक्शन मात्र है और भविष्य जब भी घटित होगा ,नाउ में ही घटित होगा। और अतीत वह तो हमारी याददाश्त का अल्पांश (ट्रेस आफ अवर मेमोरी )मात्र है ,उसे भी नाउ में रिट्रीवल के तहत जी हाँ नाउ में ही होना आना  पड़ता है। 
उम्र के आखिरी पड़ाव में ग़ालिब समझ गए थे नाउ (प्रेजेंट ,मोमेंट ,बीइंग )ही हमारा अस्तित्व है। मन तो हमारा नौकर है ,हम अपना मन नहीं हैं मन के मालिक हैं। तमाम कर्मेन्द्रियां ,ज्ञानेन्द्रियाँ ,मन और अहंकार के साथ बुद्धि को भी बहका लेतीं हैं ,बुद्धि रुपी सारथी  की लगाम पर मन कब्जा कर लेता है। मन हमेशा या तो अतीत में होता या भविष्य में सुकून ढूंढता है ,सपने सच होने का नखलिस्तान बुनता  है। 

तमाम शास्त्रों ने शरीर को झुठलाया है मुंह खोलकर कहा है -यु आर नाट योर बॉडी। जबकि शरीर हमारे होने की सबसे बाहरी परत है।पहला सच है। इसे समझने के बाद ही अंदर की यात्रा शुरू होगी। 

 इनर  बॉडी यानी अंदर की यात्रा करते ही मन गायब हो जाता है। आप सिर्फ अपने साँसों की धौंकनी में हर सांस की आवाजाही पे ध्यान टिकाइये मन वाष्प बनके उड़ जाएगा। शेष जो बचेगा वह आपका  बीइंग होगा। 

बीइंग समय शून्य है। हमेशा है और हमेशा रहेगा। अतीत और वर्तमान समय से बंधे हुए हैं।बीइंग ही आप हैं ब्रह्म है ,परमात्मा है।  

शुक्रवार, 11 नवंबर 2016

मोदी साहब के इस कदम का हिंदुस्तान ने दिल खोकर स्वागत किया है असुविधा के बावज़ूद लोग अंदर से खुश हैं

संजीव भाई आजका एडिट प्लेटर का विश्लेषण हमारे सामजिक मन की उथल पुथल को संग लिए आया। इस बाबत एक बात उल्लेख्य है सरकार ने BPL लोगों ,अन्य उपेक्षित वर्गों को ज़ीरो केश से एकाउंट्स खोलने की सुविधा दी थी। यही वक्त है जिनकी कोठियां हज़ार पांच सौ के नोटों से भरी पड़ी है वह इस वर्ग का आवाहन करे चांदनी चौक जैसे स्थानों पर जाकर जहां रोज़ रोटियां बांटी जाती हैं। बीस बीस हज़ार इन खाता धारियों को कमसे कम दें। बड़े आशीष मिलेंगे। घर के डोमेस्टिक हेल्प्स का हिंदुस्तान में बे -तरह शोषण होता आया है न उनकी साप्ताहिक छुट्टी न संतोष की पगार। ऊपर से डाट डपट। 

उन्हें दिल खोलकर दें जो असल में इनका घर चला रहीं हैं। आपके ही पड़ोस में ,सटे हुए नीति बाग़ में  भी में कई कई डोमेस्टिक हेल्प 24x7x365 आपको एक घर में मिलेंगे। लोगों के पास अकूत पैसा है। खान मार्किट में दूकानें हैं। तीर्थ यात्रा है यह उनके लिए। 

साथ ही अब तो अघोषित आय घोषित कर पहल करके आगे आएं ,४५%टेक्स दें और शेष राशि को मान्य (वाइट )बनाएं। 

मोदी साहब के इस कदम का हिंदुस्तान ने दिल खोकर स्वागत किया है असुविधा के बावज़ूद लोग अंदर से खुश हैं। रही बात ट्रम्प और अमरीका की ये तो भारत ही है जो ट्रम्प जैसी जवान बोलने वालों ,कट्टर पंथियों की गोद  में खेलने वालों रक्तरंगी लेफ्टियों को पचाता आया है ,बदजुबानी के लिए विख्यात मायावतियों  ,लालू सोच मुलायम सोच के छद्म सेकुलर पुत्रों की बकवास को बर्दाश्त करता आया है। अब मंजर बदल रहा है। आपके राष्ट्र प्रेम और संतुलित विश्लेषण को जो समाज की नव्ज़ से जुड़ा रहा है प्रणाम। 

एक प्रतिक्रिया एडिट प्लेटर हिंदी पर :

https://www.facebook.com/search/top/?q=edit%20platter%20%E0%A4%B9%E0%A4%BF%E0%A4%A6%E0%A5%80


My take on the day's top stories! Only on Edit Platter! 11th November, Friday
223 Views
Edit Platter हिंदी was live.
15 hrs
As I see it with Sanjeev Srivastava! 11th November, Friday

गुरुवार, 10 नवंबर 2016

होता है बस वो सखी जो भी होना होय , हंट किए कछु होय न लाख करे किन कोय।

चिंता ताकि कीजिये जो अनहोनी होय ,

लेख न मिटिए हे सखी ,जो लिखिआ करतार। 

होता है बस वो सखी जो भी होना होय ,

हंट किए कछु होय न लाख करे किन कोय। 

अलावा इसके एक बात और डोनाल्ड ट्रम्प पर लागू होती है जिनका दानवीकर कुछ वैसे ही किया गया है जैसा २०१४ से पहले हमारे अज़ीमतर प्रधानमंत्री मोदी का होता रहा है। 
नीचे लिखी पंक्तियाँ इसका खासा खुलासा करेंगी -

हर तरफ एतराज़ होता है ,

 मैं जहां रौशनी में आता हूँ। 

बहरसूरत वस्तुस्थिति का इतना निर्मम और बेलाग विश्लेषण एडिटपलेटर ही प्रस्तूत कर सकता है। डोनाल्ड ट्रम्प पहलवान रहें हैं पहलवान को कभी भी बुद्धि तत्व के लिए नहीं जाना गया है ,वो जो ठान लेता ठान लेता है फिर अच्छा बुरा होय सो होय। 

दुनिया और हमारी हवा पानी वैसे भी बदल ही रही है। 

विनाशकाले विपरीत बुद्धि -नागर बोध से ठसाठस अमरकियों के बारे में ऐसा कहना बड़ा मुश्किल है अमरीका सबसे पहले स्वहित का पोषक संरक्षक देश रहा है। अलबत्ता परिवर्तन तो शाश्वत ही माना कहा  गया है ओबामा अपनी भलमनसाहत के बा -वज़ूद बिना बघनखों के राष्ट्रपति दीखते थे ट्रम्प  के बारे में ऐसा आसानी से नहीं कहा जा सकेगा। सीनेट और प्रतिनिधि सभा उनकी जब में रहेगी ?

एक प्रतिक्रिया दिए हुए सेतु पर मौजूद प्लेटर पर :

https://www.facebook.com/shiv.kant.792

मंगलवार, 8 नवंबर 2016

करेंसी नोट वापसी का तीर किसे लगा ,कौन कौन मारा गया ?

करेंसी नोट   वापसी का तीर किसे लगा ,कौन कौन मारा गया ?

हमारा मानना है इस एक तीर से कई शिकार किये गए हैं। सबसे पहले तो वह हाफीज़ सईद मारा गया जिसने हवाला के मार्फ़त हिंदुस्तान में फेक करेंसी भेजकर भारत पर बड़ा आतंकी हमला करवाने  का मंसूबा बनाया था।

काश्मीर में बेहद की फेक करेंसी इस दौरान आ गई थी जिसके दम पर छोटे छोटे बच्चों से स्कूल जलवाए जा रहे थे। वो तमाम स्लीपर सेल्स मारे गए।

वो सलमान खुर्शीद मारा गया जो पाकिस्तान जाकर देश का सौदा करके आया था वह मणिशंकर अय्यर भी मारा गया जो पाक में कहकर आया था मोदी को हटाओ हमें लाओ।

आलू की फेक्ट्री लगाने वाले अब बैंगन की फेक्ट्री लगा लें।

वो राजनीतिक दल मारे गए जो लैप टॉप बांटते थे वोट खरीद के लिए अन्य कई और साधनों कम्बल ,शबाब और शराब का इस्तेमाल करते थे ,सब तबाह हैं आज। मायावतियां और मुलायम आलिया ,तमाम राजनीति के धंधे बाज़ तबाह हैं। रोना गरीब का हिंदुस्तान के आम आदमी का रो रहें हैं उस केजरबवाल के पास अब काला धन आना बन्द हो जाएगा, जिसका आंतरिक प्रदूषण दिल्ली के स्थूल प्रदूषण से बड़ा हो गया था। अब फिर वो एलजी को पकड़ेगा मोदी का रोना रोयेगा। रोवो भैया फूट फूट  के रोवो।

इसीलिए इनके भौंपू चैनलों पर गरीबों का क्या होगा ,किसी को अपनी बेटी की शादी करनी है वह अब क्या और कैसे करेगा ?वगैरहा वगैरहा की आड़ में अपनी हताशा निकाल रहे हैं।

इस एक खबर ने हिंदुस्तान में अमरीकी चुनाव की खबरों को दोयम दर्ज़े पे ला खड़ा किया है।

हम स्वयं यहां कैंटन (मिशिगन )में दो चुनाव बूथों पर प्रात :साढ़े नौ बजे (ईस्टर्न स्टेंडर्ड टाइम ) का मुआयना करके आये। लिखा था वोटिंग प्रीसिंक्ट ,यहां आप वोट कर सकते हैं नम्बर ३८ (ओल्ड चेरी हिल विलेज स्कूल ,जो फिलवक्त एक चर्च है ),नम्बर ३५ केंटन ह्यूमेन सर्विसेज़ सेंटर। वोटिंग  अहाता अंदर जाकर देखा यहां मैन्यूअल वोटिंग  है ,बस अपना वोट एक स्केनर में होते हुए एक केन के हवाले कर दें जिसमें एक स्केनर लगा होता है। कोई अफरा तफरी नहीं बूथ के बाहर ,कोई पुलिस नहीं। वही शालीन क्यू परस्पर वैसी ही दूरी बनाए हुए जैसी यहां के हवाई अड्डों पर चेक इन के दरमियान होती है।

फेसबुक पर आये ,इंडियन एक्सप्रेस की एक खबर फलेश हुई देखा भारत में हड़कंप मचा हुआ है। मचना चाहिए था हाफ़िज़ के घर में ,बड़े री-अल्टर्स के घरों में ,उनके घरों में जो भारत सरकार की उस योजना में शामिल नहीं हुए जिसमें काले को सफ़ेद धन में बदलने की व्यवस्था थी।

लो एक और खबर फलेश हुई है दलाल स्ट्रीट चीयर्स मोडीज़ स्टेप ,फॉर्गेटस वरीज़ आफ यूएस इलेक्शन्स।

चेतो  मेरे दोस्तों !ये कदम भारत  की सुरक्षा से जुड़ा है। हमारे लोकमंगल से जुड़ा है भारत की तरक्की से जुड़ा है। स्वागत करो तहेदिल से इस कदम का -ये काम वही कर सकता था -'जिसके आगे नाथ न पीछे पगा।'जो निष्कामता के साथ भारत के लिए काम कर रहा है बिना सुस्ताए। 

एडिट प्लेटर का विश्लेषण इस मुद्दे पर हर बार की तरह इस दफह भी मानवीय पहलु को साथ लिए आया ,बधाई एडिट प्लेटर यु आर ऑल्वेज़ पॉज़िटिव ,आपके लिए देश सबसे ऊपर रहा है।

https://www.facebook.com/EditPlatterHindi/