सोमवार, 23 अक्तूबर 2017

Kundalini Awakening Systems 1 (SEX)

Sex can be a doorway or a gate for the increased flow of Kundalini. When experienced with love and inside of a Tantric format it can be a very



Sex can be a doorway or a gate for the increased flow of Kundalini. When experienced with love and inside of a Tantric format it can be a very powerful event. Your conscious reality can become shattered. And you may find yourself in an unfamiliar place and this of course can encourage fear.
Sexual congress with a Kundalini active or interested person can activate a person very quickly and if done so with out any of the balances that we do here the person can become very extreme in their experience with the Kundalini and often fearful to the point of paranoia and psychosis. This may earn them a trip to visit the local psyche ward.
Sex can be one of the closest physical reflections of the divine two that are one. I would suggest that in the context of the Kundalini never have sex without love and without the understanding of what is occurring when you do have sex.
Sex isn't just for the creation of a new life. That is one of the functions. It is also used for the creation and installation of a new phase of existence in an extant life. i.e. the Kundalini upon the human being. Many who have a hard experience with the Kriyas have often been activated by a sexual experience. No conditioning or balances and wham! There they go. So it can be difficult.
My views on sex from where I am now are that it is to be experienced with in the parameters of love as a conscious celebration of the two that are one. Always. From a Kundalini perspective the male should retain his semen. He should not ejaculate and allow the semen to be reversed into the spinal channels and from there through out the body.
Not everyone has this happen though. Just like the Kriyas they are an individual experience and yours will not necessarily be mine. So it is also with the GFA. Genital Fluidic Ascendance. As the semen rises and connects to the spinal channels it gets circulated into the endocrine system and the nervous system. It can be an automatic function of the Kundalini and it feels as if there is a tugging of the Vas Deferens of the seminal conduits that connect to the testicle. I can actually feel it being reversed and circulated. So can anyone. It is odd at first but so are most of the Kundalini phenomena.
Women can feel it as a similar tugging and a pull. And up the feminine secretions go! So it is important to be open and allowing of these events to occur. For a man keep your semen. For a woman let the secretions be taken.

Sexual behaviors will be expressed

Kundalini and sexual expression are inextricably connected. An infused first and second chakra will hyper stimulate hormonal production and influence emotional and sexual behaviors. Yes the hormones are in the driver’s seat for a time until that aspect of the infusion process has been completed. Same with a decreased libido as an absence of hormonal hyper expression is just the other side of the coin.
Sexual behaviors will be expressed, and not always those of the common and accepted formats as, depending on the individual's emotional disposition and level of surrender or resistance, these can reflect areas of imbalance. And the behaviors will follow suit.
In the world of Kundalini expression normal experience can be extremely altered. Many experiences can carry a far different and unique meaning and or experience for the Kundalini infused person. Kundalini can blend realities and worlds and so it is best to have an open and inquisitive perspective to all of the phenomena and natural expressions of this force.
Infusion of Kundalini upon the personality and the emotions and yes the body, including the sexual aspects, are real and can determine, in very real ways, the level of expression that can be experienced in the day to day existence. It is healthy and necessary to discuss these subjects.
Having the Kundalini take away a libido is just as much an expressed phenomena of the infusion as having it intensified. Both aspects are commonly experienced and nothing is wrong. In society sometimes a personality will assert importance to the sexual functioning’s as a descriptor of ego based belief constructs that have very little to do with reality.
These will only have relevance for those holding on to the ego inside of the infusion which in and of itself can block certain expressions. Far better to move forward into the Kundalini and surrender all or as much as possible no matter how many taboo subjects are introduced or come up in the process. 

BDSM

The term "BDSM" is an abbreviation derived from the terms bondage, discipline, dominance and submission, sadism and masochism.
Sometimes those with an active second chakra will be lead by their appetites into new levels of sensual expression. I counsel against this in that it can bring a painful experience which is the point I know but also for the discarnate attachments that can also manifest. Entities flock to these types of control games and self abuse.
An active second chakra is a powerful experience and if we allow our passions and appetites to control us we can become ensnared in the narcissistic aspects of searching always for the next horizon of physical pleasure. Often to the degradation of the spiritual and ethical pursuits. Though please do not feel I am making a value judgment here. I have experienced an overactive and very vibrant second chakra activation and one can become driven by the need to satisfy this never ending hunger.
So if you are feeling the urge to hurt yourself as a path way towards sexual excitement I counsel you to do some aerobics instead. If you are feeling pulled to participate in some dangerous or hurtful sexual expressions I counsel against falling prey to the ego in this way. Do not follow these desires if you can at all help it - and you can.

Have sex

But always with the thought and intention of reaching into the heart of God. See that representation inside the eyes of your partner. The touch, taste, smell, and sight of God is joined with you. You are and they are two aspects of the one being.

Always give for the honor and pleasure of Goddess/God connected to you. You give for them. With tantra let it be a ceremony of flesh for the exaltation of spirit in flesh for the disappearance of flesh into the blending of the consciousness of God/Goddess & Goddess/God.

Kundalini is the culmination of that gift. Whether or not it has been sought that way.

Don’t have sex....



If the Kundalini in you takes away your libido. Do not try to influence the Kundalini with regards to the physical expression of passion. Do not take drugs to bypass a Kundalini induced period of sexual abstinence.

Remember your surrender.

Do not masturbate from boredom. Allow other activities that are not sexual based to fill your days and nights. Kundalini has its agenda and this is a fact. Whether or not you understand this agenda isn’t the issue. Remember your surrender and do not abrogate it.

When having sex....


Keep the eyes in the upward position.

The partner who is the Shiva allows the partner who is the Shakti to "dance upon the platform that is the Shiva."

The Shiva is still and allows the dance to be given.

The Shakti is expressive and her dance is for love of God upon whom she is dancing. Pleasure is a mere by product.

Shiva does not orgasm. He takes her essences into his body and nurtures them there.

Shakti does orgasm and she gives of her copious love into the Shiva flowing it to him as he accepts in stillness.


blessings all - chrism

"Sex can be one of the closest physical reflections of the divine two that are one. I would suggest that in the context of the Kundalini never have sex without love and without the understanding of what is occurring when you do have sex."
chrism

Kundalini Awakening Systems 1: Sex



Sex can be a doorway or a gate for the increased flow of Kundalini. When experienced with love and inside of a Tantric format it can be a very powerful event. Your conscious reality can become shattered. And you may find yourself in an unfamiliar place and this of course can encourage fear.
Sexual congress with a Kundalini active or interested person can activate a person very quickly and if done so with out any of the balances that we do here the person can become very extreme in their experience with the Kundalini and often fearful to the point of paranoia and psychosis. This may earn them a trip to visit the local psyche ward.
Sex can be one of the closest physical reflections of the divine two that are one. I would suggest that in the context of the Kundalini never have sex without love and without the understanding of what is occurring when you do have sex.
Sex isn't just for the creation of a new life. That is one of the functions. It is also used for the creation and installation of a new phase of existence in an extant life. i.e. the Kundalini upon the human being. Many who have a hard experience with the Kriyas have often been activated by a sexual experience. No conditioning or balances and wham! There they go. So it can be difficult.
My views on sex from where I am now are that it is to be experienced with in the parameters of love as a conscious celebration of the two that are one. Always. From a Kundalini perspective the male should retain his semen. He should not ejaculate and allow the semen to be reversed into the spinal channels and from there through out the body.
Not everyone has this happen though. Just like the Kriyas they are an individual experience and yours will not necessarily be mine. So it is also with the GFA. Genital Fluidic Ascendance. As the semen rises and connects to the spinal channels it gets circulated into the endocrine system and the nervous system. It can be an automatic function of the Kundalini and it feels as if there is a tugging of the Vas Deferens of the seminal conduits that connect to the testicle. I can actually feel it being reversed and circulated. So can anyone. It is odd at first but so are most of the Kundalini phenomena.
Women can feel it as a similar tugging and a pull. And up the feminine secretions go! So it is important to be open and allowing of these events to occur. For a man keep your semen. For a woman let the secretions be taken.

Sexual behaviors will be expressed

Kundalini and sexual expression are inextricably connected. An infused first and second chakra will hyper stimulate hormonal production and influence emotional and sexual behaviors. Yes the hormones are in the driver’s seat for a time until that aspect of the infusion process has been completed. Same with a decreased libido as an absence of hormonal hyper expression is just the other side of the coin.
Sexual behaviors will be expressed, and not always those of the common and accepted formats as, depending on the individual's emotional disposition and level of surrender or resistance, these can reflect areas of imbalance. And the behaviors will follow suit.
In the world of Kundalini expression normal experience can be extremely altered. Many experiences can carry a far different and unique meaning and or experience for the Kundalini infused person. Kundalini can blend realities and worlds and so it is best to have an open and inquisitive perspective to all of the phenomena and natural expressions of this force.
Infusion of Kundalini upon the personality and the emotions and yes the body, including the sexual aspects, are real and can determine, in very real ways, the level of expression that can be experienced in the day to day existence. It is healthy and necessary to discuss these subjects.
Having the Kundalini take away a libido is just as much an expressed phenomena of the infusion as having it intensified. Both aspects are commonly experienced and nothing is wrong. In society sometimes a personality will assert importance to the sexual functioning’s as a descriptor of ego based belief constructs that have very little to do with reality.
These will only have relevance for those holding on to the ego inside of the infusion which in and of itself can block certain expressions. Far better to move forward into the Kundalini and surrender all or as much as possible no matter how many taboo subjects are introduced or come up in the process. 

BDSM

The term "BDSM" is an abbreviation derived from the terms bondage, discipline, dominance and submission, sadism and masochism.
Sometimes those with an active second chakra will be lead by their appetites into new levels of sensual expression. I counsel against this in that it can bring a painful experience which is the point I know but also for the discarnate attachments that can also manifest. Entities flock to these types of control games and self abuse.
An active second chakra is a powerful experience and if we allow our passions and appetites to control us we can become ensnared in the narcissistic aspects of searching always for the next horizon of physical pleasure. Often to the degradation of the spiritual and ethical pursuits. Though please do not feel I am making a value judgment here. I have experienced an overactive and very vibrant second chakra activation and one can become driven by the need to satisfy this never ending hunger.
So if you are feeling the urge to hurt yourself as a path way towards sexual excitement I counsel you to do some aerobics instead. If you are feeling pulled to participate in some dangerous or hurtful sexual expressions I counsel against falling prey to the ego in this way. Do not follow these desires if you can at all help it - and you can.

Have sex

But always with the thought and intention of reaching into the heart of God. See that representation inside the eyes of your partner. The touch, taste, smell, and sight of God is joined with you. You are and they are two aspects of the one being.

Always give for the honor and pleasure of Goddess/God connected to you. You give for them. With tantra let it be a ceremony of flesh for the exaltation of spirit in flesh for the disappearance of flesh into the blending of the consciousness of God/Goddess & Goddess/God.

Kundalini is the culmination of that gift. Whether or not it has been sought that way.

Don’t have sex....



If the Kundalini in you takes away your libido. Do not try to influence the Kundalini with regards to the physical expression of passion. Do not take drugs to bypass a Kundalini induced period of sexual abstinence.

Remember your surrender.

Do not masturbate from boredom. Allow other activities that are not sexual based to fill your days and nights. Kundalini has its agenda and this is a fact. Whether or not you understand this agenda isn’t the issue. Remember your surrender and do not abrogate it.

When having sex....


Keep the eyes in the upward position.

The partner who is the Shiva allows the partner who is the Shakti to "dance upon the platform that is the Shiva."

The Shiva is still and allows the dance to be given.

The Shakti is expressive and her dance is for love of God upon whom she is dancing. Pleasure is a mere by product.

Shiva does not orgasm. He takes her essences into his body and nurtures them there.

Shakti does orgasm and she gives of her copious love into the Shiva flowing it to him as he accepts in stillness.


blessings all - chrism

"Sex can be one of the closest physical reflections of the divine two that are one. I would suggest that in the context of the Kundalini never have sex without love and without the understanding of what is occurring when you do have sex."
chrism

रविवार, 22 अक्तूबर 2017

What are Chakras and their alignmnets ?(Hindi )


क्या हैं ये कुण्डलिनी चक्र ?

संस्कृत भाषा में चक्र शब्द का अर्थ है चक्का या वील ये चक्र और कुछ नहीं हैं मात्र ऊर्जा बिंदु हैं मेरुदंड या रीढ़ पर कुछ ख़ास जग़हों  पर रेखांकित ,वैसे ही जैसे डीएनए की कुंडली पर सुनिश्चित स्थानों पर गुणसूत्र बैठे हैं। 

भारत धर्मी समाज में सम्मानीय स्थान प्राप्त हमारे ऋषियों मुनियों ने बतलाया था विविध वर्णी स्पेक्ट्रम के रंगों की मानिंद ऐसे सात नर्तनशील चक्र  हमारे शरीर तंत्र में मौजूद हैं।इनका यह नर्तन (spin or rotation )उसी दिशा में है जिसमें घड़ी की सुइयां घूमतीं हैं (clock waise ).हमारे शरीर का एक सशक्त स्रावी तंत्र हैं इनमें  से कई चक्र। 

यह महज़ इत्तेफाक है या कुछ और इन चक्रों  के बीच जो परस्पर अंतर है अंतराल है इंटरवल है दूरी है वह हमारी शरीर रचना के स्रावी -तंत्र केंद्रों (endocrine centers  )के बीच के अंतराल से मेल खाती  है। मैच करती  है। वैसा ही है। 

क्या है इनकी अवस्थिति और वर्ण ?
Location and their Color

यूं शरीर की ७२००० नाड़ियाँ जहां -जहां आकर मिलतीं हैं वहां -वहां ये ऊर्जा केंद्र मौजूद हैं लेकिन यहां हम उन प्रमुख सात चक्रों का ही उल्लेख कर रहें हैं जो हमारे शरीर  के केंद्रभाग  के ही गिर्द है। 
'That are located along the center of the body '.

(१ )पहला चक्र मूलाधार (the Root Chakra ):हमारे प्रजनन अंगों (गुदा और अंडकोष या फिर गुदा और योनि )के बीच बतलाया गया है। यही हमारी रीढ़ का आधार ,वक्ष बांस (cocciyx or tail bone of the back )है। यही केंद्र  है हमारे प्रजनन क्षेत्र और प्रजनन अंगों का। 

इसकी आभा रक्तिम ,रक्त वर्णी (लाल )बतलाई गई है। 

(२ )दूसरा Belly Chkra या अधिष्ठान चक्र है यह हमारे पेड़ु में स्थित है नाभि से थोड़ा नीचे उदर का यही निचला भाग है जो पहले चक्र मूलाधार और नाभि के बीच पड़ेगा। 

इसका आधार भी रीढ़ (मेरुदंड ).यह लंबर रीजन के गिर्द अवस्थित है। लंबर रीजन छाती (थोरासिक रीजन  )और सेक्रम के बीच इसकी अवस्थिती बतलाई गई है। sacrum कमर के पीछे की तिकोनी हड्डी होती है जिसे त्रिकास्थि भी कह देते हैं। 

चिकित्सा विज्ञान की भाषा में कहे तो यह L1 के गिर्द है। (लंबर रीजन मोटी भाषा में कमर का निचला हिस्सा या है यह L1 से L5 तक का क्षेत्र है। जिनका प्रोलेप्स  डिस्क से पाला पड़ा है वह जानते हैं क्या चीज़ है ये लंबर रीजन। भगवान् आप सबको बचाये रहे स्लिप या प्रोलेप्स डिस्क से। 

इस बेली -वील को नारंगी (ORANGE )बतलाया गया है। 

(३ )तीसरा चक्र Solar Plexus (स्नायु गुच्छ या सौर -जालक ,सौर -जाल )कहलाया है। 

यह स्टर्नम (छाती के बीचों -बीच की हड्डी )के बस थोड़ा सा नीचे लेकिन नाभि के ठीक ऊपर का क्षेत्र है जहां यह तीसरा चक्र मौजूद है। 

मेरुदंड पर इसकी अवस्थिति eighth thoracic vertebra है। जिसे रीढ़ का आठवाँ जोड़ भी कह सकते है। 

इस चक्र का संबंध हमारे अधिवृक्क (गुर्दों से सम्बंधित adrenal ),आमाशय (stomach )और अग्नाश्य (pancreas )से जोड़ा गया है। 

एड्रिनेलिन (इसे स्ट्रेस हॉर्मोंन भी कहा गया है )बनाने के लिए एड्रिनल ग्लेंड तथा इन्सुलिन हारमोन तैयार करने के लिए हमारी अग्नाशय  ग्रंथि सुविख्यात रहीं हैं। 

ज़ाहिर है हमारे स्रावी -तंत्र(endocrine system ) के ये चक्र चौकीदार रहे हैं जो हमारे भाव -अनुभव मनोभावों का संचालन किये रहते हैं। 

इस चक्र को  पीत वर्ण(पीला रंग ) मिला है कृष्ण के पीताम्बर सा। 

(४ )चौथा अनाहत या Heart Wheel कहा गया है।यह ब्रेस्टबोन के बीचों -बीच अवस्थित है। दोनों स्तनों के बीच इसकी अवस्थिति रहती है। कमर के पीछे इसकी अवस्थिति पहला थोरासिक वर्टिब्रा(वक्ष बांस ) है। 

इस चक्र का संबंध हमारे थाइमस (Thymus gland बाल्य ग्रंथि ),हृदय और रक्तसंचरण तंत्र से है।प्रेम यहीं  उपजता है राग- अनुराग- विराग भी। 

इसका रंग गुलाबी है। 

(५ )पांचवां Throat Chkra (कंठ चक्र ,विशुद्धि चक्र )कंठ -गढ़ा pit of throat में रहता है। इसकी अवस्थिति हमारी गर्दन के अग्रभाग में आगे की ओर  गर्दन के आधारीय भाग में रहती है। इस भाग को  होलो आफ दी कॉलर बॉन भी कहा जाता है। 

इसका सम्बन्ध थाईरॉइड ग्रंथि ,फेफड़ा (lungs )और ENT यानी ईअर -नोज़ और थ्रोट (कान -नाक -गला या कंठ  )से जोड़ा गया है। थाईरॉइड ग्रंथि का अधिक या जरूरत से कम सक्रीय रहना ही 'हाइपर' और 'हाइपो -थाइरोइड्जम 'की वजह बनता। 

हाइपर में चयअपचयन की दर के बढ़ने से भूख जल्दी -जल्दी और बहुत तेज़ लगती है व्यक्ति अधिक खाता है और फिर भी पतला होता जाता है। 

'हाइपो' में इसके विपरीत कैलोरी बर्न करने की रफ़्तार घट जाती है ,मेटाबोलिक रेट कम हो जाने से मरीज़ खाता भी कम है लेकिन फिर भी उसका वेट बढ़ जाता है। 

इस चक्र को  रंग अलॉट किया गया है -हल्का नीला (लाइट ब्ल्यू ). 

To be more precise about the Throat Chakra :


(Fifth Chakra) The Throat chakra is located in the front at the base of the neck, at the 

hollow of the collarbone, with its spiral rooted in the third cervical vertebras at the 

back, the spine at the base of the skull. This chakra corresponds to the Thyroid, 

Lungs, Ears, Nose and Throat.

(६  )छटा चक्र आज्ञा चक्र है जिसे 'थर्ड -आई- चक्र' भी कहा गया है। यह हमारी दोनों ब्रोज़ (भवों )के 

बीच

 अवस्थित है।कमर में  रीढ़ की  पहली स्रविअकल - वर्टिब्रा (ग्रीवा कशेरुक )के पास है इसकी 

अवस्थिति। 

इस चक्र का सम्बन्ध हमारे नेत्रों के अलावा पीयूष ग्रंथि (pitiuitary gland ) से भी जोड़ा गया है। 

आकार में मटर के दाने भर है ये ग्रंथि जिसे हमारे शरीर की मास्टर ग्रंथि कहा जाता है। मस्तिष्क के

 आधारीय भाग में होती है यह ग्रंथियों की भी नियामक ग्रंथि। यह खुद भी अनेक हारमोन तैयार करती 

है 

जो हमारे शरीर में चलने वाली अनेक प्रक्रियाओं को चलाये रहने में मददगार रहते हैं तथा शेष ग्रंथियों 

को भी हारमोन बनाने के 

लिए ज़रूरी उत्तेजन या उकसावा देती है। 

इसका रंग गहरा नीला या INDIGO बतलाया गया है। 

(७ )सातवां चक्र  The Crown  सब से ऊपर शीर्ष  चक्र है (सिरोपरी है )जिसकी अवस्थिति कपाल के

ऊपर सतह पर बतलाई गई है। इसे ब्रह्मरन्ध्र या सहस्रार चक्र भी कहा  गया है। 

इस ग्रंथि का संबंध Pineal gland और Pituitary gland से भी जोड़ा गया है। 
इसे पीनियल -पिंड ,एपिफीसिस -सेरीब्री या तीसरा- नेत्र भी कहा गया है। यह पृष्ठवंशी मस्तिष्क में स्थित एक लघुतर अंत :स्रावी (endocrine gland )  ग्रंथि है। 

यह सेरोटॉनिन  से पैदा मिलेटोनिन को पैदा करती है। 

यह हमारे जागने -सोने मौसमानुकूल हमसे हरकतें करने करवाने का काम  

करवाती  है। पाइन शंकु सी बित्ता भर चावल के दाने सी ,आकार की ग्रंथि है ये 

पीनियल ग्लेंड। 

हमारी खोपड़ी का एक्सरे उतारने पर यह साफ़ देखी  जा सकती है। 


पीनियल ग्लेंड :It is a small endocrine gland in the brain; situated 

beneath the back part of the corpus callosum; secretes 

melatonin

सातवें क्राउन चक्र या सहस्रार चक्र का रंग पपल या 

जामुनी (PURPLE)बतलाया गया है।बैंगनी भी कह देते हैं इस रंग को बैंजनी 

भी। 

विशेष :कुण्डलिनी शब्द के भौतिक और पारभौतिक मतलब निकाले जा सकते हैं। /कुंड' धातु (root word )से बना है यह शब्द 'कुण्डलिनी'। इस 'धातु' का शब्दिक अर्थ निकलता है 'बेसिन' या 'सोर्स'। 

इस दृष्टिकोण से सोचें तो कुण्डलिनी पृथ्वी के आदिम (पृथ्वी के भी निर्माण से पूर्व का कच्चा माल )तत्वों का मिश्र है।कुण्डलिनी देवी को आरध्या समझा गया है। ये आपको गुणात्मक रूप से ऊर्ध्वगमन भी करा सकती है अधोगमन भी याने गर्त में भी गिरा सकती है। यौन शक्ति की देवी है 'कुण्डलिनी'।यही सृष्टि का संचालन किये है।    

CHAKRA ALIGNMENTS(कुण्डलिनी चक्रों का संरेखण (मार्गरेखा ))

कुण्डलिनी चक्रों का संरेखण (मार्गरेखा )

क्या हैं ये कुण्डलिनी चक्र ?

संस्कृत भाषा में चक्र शब्द का अर्थ है चक्का या वील ये चक्र और कुछ नहीं हैं मात्र ऊर्जा बिंदु हैं मेरुदंड या रीढ़ पर कुछ ख़ास जग़हों  पर रेखांकित ,वैसे ही जैसे डीएनए की कुंडली पर सुनिश्चित स्थानों पर गुणसूत्र बैठे हैं। 

भारत धर्मी समाज में सम्मानीय स्थान प्राप्त हमारे ऋषियों मुनियों ने बतलाया था विविध वर्णी स्पेक्ट्रम के रंगों की मानिंद ऐसे सात नर्तनशील चक्र  हमारे शरीर तंत्र में मौजूद हैं।इनका यह नर्तन (spin or rotation )उसी दिशा में है जिसमें घड़ी की सुइयां घूमतीं हैं (clock waise ).हमारे शरीर का एक सशक्त स्रावी तंत्र हैं इनमें  से कई चक्र। 

यह महज़ इत्तेफाक है या कुछ और इन चक्रों  के बीच जो परस्पर अंतर है अंतराल है इंटरवल है दूरी है वह हमारी शरीर रचना के स्रावी -तंत्र केंद्रों (endocrine centers  )के बीच के अंतराल से मेल खाती  है। मैच करती  है। वैसा ही है। 

क्या है इनकी अवस्थिति और वर्ण ?
Location and their Color

यूं शरीर की ७२००० नाड़ियाँ जहां -जहां आकर मिलतीं हैं वहां -वहां ये ऊर्जा केंद्र मौजूद हैं लेकिन यहां हम उन प्रमुख सात चक्रों का ही उल्लेख कर रहें हैं जो हमारे शरीर  के केंद्रभाग  के ही गिर्द है। 
'That are located along the center of the body '.

(१ )पहला चक्र मूलाधार (the Root Chakra ):हमारे प्रजनन अंगों (गुदा और अंडकोष या फिर गुदा और योनि )के बीच बतलाया गया है। यही हमारी रीढ़ का आधार ,वक्ष बांस (cocciyx or tail bone of the back )है। यही केंद्र  है हमारे प्रजनन क्षेत्र और प्रजनन अंगों का। 

इसकी आभा रक्तिम ,रक्त वर्णी (लाल )बतलाई गई है। 

(२ )दूसरा Belly Chkra या अधिष्ठान चक्र है यह हमारे पेड़ु में स्थित है नाभि से थोड़ा नीचे उदर का यही निचला भाग है जो पहले चक्र मूलाधार और नाभि के बीच पड़ेगा। 

इसका आधार भी रीढ़ (मेरुदंड ).यह लंबर रीजन के गिर्द अवस्थित है। लंबर रीजन छाती (थोरासिक रीजन  )और सेक्रम के बीच इसकी अवस्थिती बतलाई गई है। sacrum कमर के पीछे की तिकोनी हड्डी होती है जिसे त्रिकास्थि भी कह देते हैं। 

चिकित्सा विज्ञान की भाषा में कहे तो यह L1 के गिर्द है। (लंबर रीजन मोटी भाषा में कमर का निचला हिस्सा या है यह L1 से L5 तक का क्षेत्र है। जिनका प्रोलेप्स  डिस्क से पाला पड़ा है वह जानते हैं क्या चीज़ है ये लंबर रीजन। भगवान् आप सबको बचाये रहे स्लिप या प्रोलेप्स डिस्क से। 

इस बेली -वील को नारंगी (ORANGE )बतलाया गया है। 

(३ )तीसरा चक्र Solar Plexus (स्नायु गुच्छ या सौर -जालक ,सौर -जाल )कहलाया है। 

यह स्टर्नम (छाती के बीचों -बीच की हड्डी )के बस थोड़ा सा नीचे लेकिन नाभि के ठीक ऊपर का क्षेत्र है जहां यह तीसरा चक्र मौजूद है। 

मेरुदंड पर इसकी अवस्थिति eighth thoracic vertebra है। जिसे रीढ़ का आठवाँ जोड़ भी कह सकते है। 

इस चक्र का संबंध हमारे अधिवृक्क (गुर्दों से सम्बंधित adrenal ),आमाशय (stomach )और अग्नाश्य (pancreas )से जोड़ा गया है। 

एड्रिनेलिन (इसे स्ट्रेस हॉर्मोंन भी कहा गया है )बनाने के लिए एड्रिनल ग्लेंड तथा इन्सुलिन हारमोन तैयार करने के लिए हमारी अग्नाशय  ग्रंथि सुविख्यात रहीं हैं। 

ज़ाहिर है हमारे स्रावी -तंत्र(endocrine system ) के ये चक्र चौकीदार रहे हैं जो हमारे भाव -अनुभव मनोभावों का संचालन किये रहते हैं। 

इस चक्र को  पीत वर्ण(पीला रंग ) मिला है कृष्ण के पीताम्बर सा। 

(४ )चौथा अनाहत या Heart Wheel कहा गया है।यह ब्रेस्टबोन के बीचों -बीच अवस्थित है। दोनों स्तनों के बीच इसकी अवस्थिति रहती है। कमर के पीछे इसकी अवस्थिति पहला थोरासिक वर्टिब्रा(वक्ष बांस ) है। 

इस चक्र का संबंध हमारे थाइमस (Thymus gland बाल्य ग्रंथि ),हृदय और रक्तसंचरण तंत्र से है।प्रेम यहीं  उपजता है राग- अनुराग- विराग भी। 

इसका रंग गुलाबी है। 

(५ )पांचवां Throat Chkra (कंठ चक्र ,विशुद्धि चक्र )कंठ -गढ़ा pit of throat में रहता है। इसकी अवस्थिति हमारी गर्दन के अग्रभाग में आगे की ओर  गर्दन के आधारीय भाग में रहती है। इस भाग को  होलो आफ दी कॉलर बॉन भी कहा जाता है। 

इसका सम्बन्ध थाईरॉइड ग्रंथि ,फेफड़ा (lungs )और ENT यानी ईअर -नोज़ और थ्रोट (कान -नाक -गला या कंठ  )से जोड़ा गया है। थाईरॉइड ग्रंथि का अधिक या जरूरत से कम सक्रीय रहना ही 'हाइपर' और 'हाइपो -थाइरोइड्जम 'की वजह बनता। 

हाइपर में चयअपचयन की दर के बढ़ने से भूख जल्दी -जल्दी और बहुत तेज़ लगती है व्यक्ति अधिक खाता है और फिर भी पतला होता जाता है। 

'हाइपो' में इसके विपरीत कैलोरी बर्न करने की रफ़्तार घट जाती है ,मेटाबोलिक रेट कम हो जाने से मरीज़ खाता भी कम है लेकिन फिर भी उसका वेट बढ़ जाता है। 

इस चक्र को  रंग अलॉट किया गया है -हल्का नीला (लाइट ब्ल्यू ). 

To be more precise about the Throat Chakra :


(Fifth Chakra) The Throat chakra is located in the front at the base of the neck, at the 

hollow of the collarbone, with its spiral rooted in the third cervical vertebras at the 

back, the spine at the base of the skull. This chakra corresponds to the Thyroid, 

Lungs, Ears, Nose and Throat.

(६  )छटा चक्र आज्ञा चक्र है जिसे 'थर्ड -आई- चक्र' भी कहा गया है। यह हमारी दोनों ब्रोज़ (भवों )के 

बीच

 अवस्थित है।कमर में  रीढ़ की  पहली स्रविअकल - वर्टिब्रा (ग्रीवा कशेरुक )के पास है इसकी 

अवस्थिति। 

इस चक्र का सम्बन्ध हमारे नेत्रों के अलावा पीयूष ग्रंथि (pitiuitary gland ) से भी जोड़ा गया है। 

आकार में मटर के दाने भर है ये ग्रंथि जिसे हमारे शरीर की मास्टर ग्रंथि कहा जाता है। मस्तिष्क के

 आधारीय भाग में होती है यह ग्रंथियों की भी नियामक ग्रंथि। यह खुद भी अनेक हारमोन तैयार करती 

है 

जो हमारे शरीर में चलने वाली अनेक प्रक्रियाओं को चलाये रहने में मददगार रहते हैं तथा शेष ग्रंथियों 

को भी हारमोन बनाने के 

लिए ज़रूरी उत्तेजन या उकसावा देती है। 

इसका रंग गहरा नीला या INDIGO बतलाया गया है। 

(७ )सातवां चक्र  The Crown  सब से ऊपर शीर्ष  चक्र है (सिरोपरी है )जिसकी अवस्थिति कपाल के

ऊपर सतह पर बतलाई गई है। इसे ब्रह्मरन्ध्र या सहस्रार चक्र भी कहा  गया है। 

इस ग्रंथि का संबंध Pineal gland और Pituitary gland से भी जोड़ा गया है। 
इसे पीनियल -पिंड ,एपिफीसिस -सेरीब्री या तीसरा- नेत्र भी कहा गया है। यह पृष्ठवंशी मस्तिष्क में स्थित एक लघुतर अंत :स्रावी (endocrine gland )  ग्रंथि है। 

यह सेरोटॉनिन  से पैदा मिलेटोनिन को पैदा करती है। 

यह हमारे जागने -सोने मौसमानुकूल हमसे हरकतें करने करवाने का काम  

करवाती  है। पाइन शंकु सी बित्ता भर चावल के दाने सी ,आकार की ग्रंथि है ये 

पीनियल ग्लेंड। 

हमारी खोपड़ी का एक्सरे उतारने पर यह साफ़ देखी  जा सकती है। 


पीनियल ग्लेंड :It is a small endocrine gland in the brain; situated 

beneath the back part of the corpus callosum; secretes 

melatonin

सातवें क्राउन चक्र या सहस्रार चक्र का रंग पपल या 

जामुनी (PURPLE)बतलाया गया है।बैंगनी भी कह देते हैं इस रंग को बैंजनी 

भी। 

विशेष :कुण्डलिनी शब्द के भौतिक और पारभौतिक मतलब निकाले जा सकते हैं। /कुंड' धातु (root word )से बना है यह शब्द 'कुण्डलिनी'। इस 'धातु' का शब्दिक अर्थ निकलता है 'बेसिन' या 'सोर्स'। 

इस दृष्टिकोण से सोचें तो कुण्डलिनी पृथ्वी के आदिम (पृथ्वी के भी निर्माण से पूर्व का कच्चा माल )तत्वों का मिश्र है।कुण्डलिनी देवी को आरध्या समझा गया है। ये आपको गुणात्मक रूप से ऊर्ध्वगमन भी करा सकती है अधोगमन भी याने गर्त में भी गिरा सकती है। यौन शक्ति की देवी है 'कुण्डलिनी'।यही सृष्टि का संचालन किये है।