सोमवार, 12 नवंबर 2012

WEEP AND WIN

WEEP AND WIN 

The next time you are called weeping willow ,remember that crying can bust 

stress and improves your immunity 

OBAMA DOES TOO 

The trauma of Hurricane Sandy and an exhuasting presidential campaign left 

American president Barack Obama and New Jersey governor Chris  Christie 

holding back their tears this week .He was addressing a crowd of 20 ,000 at final 

campaign rally in Des Moines ,Iowa on Monday ,when his voice cracked .Then

last week ,an emotional Obama broke down again while thanking his team of 

volunteers and staff for their work that won him the second term.

बचपन से सुनते पढ़ते आयें हैं "Laughter is the best medicine".खुल कर हंसना ,न सिर्फ

 हमारे दिल ओ दिमाग के लिए अच्छा है 

हमारे रोग प्रतिरक्षण तंत्र की मजबूती के लिए भी उतना ही मुफीद है .घाव अपेक्षाकृत जल्दी 

भरते हैं हंसोड़ के .तनाव काफूर हो जाता है 

.अब हालिया अध्ययनों से पता चला है जो दवाब ग्रस्त होने पे थोड़ा रो लेते हैं वह तंदरुस्त रहते 

हैं बरक्स उनके जो अपने ज़ज्बातों को पी

 जाते हैं दबा जाते हैं .कम खाना तो ठीक लेकिन गम खाना ठीक नहीं है .रो लीजिए मरों  को 

.वरना गम आपको मार जाएगा .

University of Minnesota ,US,में हाल ही में संपन्न एक अध्ययन में बतलाया गया है ,रोना 

88.8 फीसद लोगों का मूड (दिलो दिमाग 

और मन )दुरुस्त कर देता है .स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने की प्रक्रिया को प्रेरित करता है ,रोग रोधी 

तंत्र और रोगप्रतिरक्षण को पुख्ता करता 

है .क्रोध और दवाब के स्तर में कमीबेशी लाता है .रो लीजिए किसी ने सताया है तो .आपको कोई 

कमज़ोर समझे तो समझे .आप खुद से 

प्रेम कीजिए ,जी करे तो जी भरके रोइए ,फूट फूट के रोइए .

पहले तो रुदाली रखीं जाती थीं इस एवज .स्यापा इसीलिए अच्छा समझा जाता है तेरह दिन की 

गमी  भी .

रूदन अन्दर न रुके .

प्रोफ़ेसर विलियम फरे कहतें हैं जो इस अध्ययन के सूत्रधार भी हैं हम सब कुछ रो देते हैं 

अभिव्यक्त  हो जातें हैं रो कर इसीलिए बेहतर 

भी 

महसूस करने लगते हैं .सब कुछ तो रो दिया जो अंदर था .बचा क्या अब परेशान होने को .

दवाब के समय पैदा सब  रसायन रुदन में बह गए आंसू बनके .ये आंसू मेरे दिल की जुबां हैं ,मैं 

रो दूं तो रो दें आंसू ,मैं हँस  दूं तो हँस  दें 

आंसू .

अन्दर रह गए आंसू तो घुटन होगी अन्दर का दवाब बढ़ जाएगा .दिल के दौरे के खतरे का वजन 

भी बढ़ जाता है दिमाग का कुछ हिस्सा 

क्षति ग्रस्त भी हो सकता है नुक्सान उठा सकता है .पुरुष होने की हेंकड़ी में मत रहिये दबाइए 

मत रुदन को .कमजोर नहीं समझे जायेंगे 

आप .आज के सन्दर्भ में संवेदन शील ही समझे जायेंगे .

"The human ability to cry has a survival value ."

जब हम दुखी होतें हैं अन्दर से संवेगों आवेगों से भरे होतें हैं ,हमारे आंसू तब ज्यादा मेंग्नीज़  

और पोटेशियम साथ लिए आतें हैं 

.इमोशनल टीयर्स हैं ये .इनकी केमिस्ट्री अलग है . 

मेंगेनीज़ एक ऐसा पुष्टिकर तत्व है जो बेड कोलेसट्रोल के स्तर को कम करने में सहायक रहता 

है .पोटेशियम हाई ब्लड प्रेशर को कम 

करता है .रोने पर (आवेगपूर्ण भावुक रुदन )ये दोनों खनिज तत्व ज्यादा बनते हैं .

अलावा इसके सम्वेगपूर्ण अश्रुओं में (इमोशनल टीयर्स )में एक हारमोन प्रोलेकटिन होता है 

(prolactin ).यही हारमोन हमारे दवाब को 

कम करता है .दवाब युक्त सोच को दिशा देता है रास्ता देता है बाहर आने का .

रोते वक्त हम सांस भी गहरी खींचते हैं .इस Deep breathing से भी अन्दर का दवाब कम होता 

है .स्ट्रेस लेवल कम होता है .रोग 

प्रतिरक्षण तंत्र मज़बूत होता है .

दवाब के क्षणों में हम सांस भी उथली ही खींचते हैं ऐसे में स्ट्रेस हारमोन की बन आती है दबा के 

इसका स्राव होने लगता है ;स्ट्रेस हारमोन 

कोर्टीसोल का स्तर बढ़ने लगता है ,और इसी के साथ बे -चैनी भी बढ़ जाती है ,एन्ग्जायटी बहुत 

बढ़ जाती है .

दूसरी तरफ लम्बी गहरी सांस इसी होरमोन के स्तर को कम करती है इसके उत्पादन को स्राव 

को कम करती है ,दवाब को कम करती है 

अन्दर के .

रोना हमें पीछे मुड़के  देखने ,चिंतन करने कहाँ क्या गलत घट रहा है हमारे साथ किस तल पर 

बूझने का मौक़ा देता है .रुदन हमें इत्तला 

देता है कहीं कुछ गड़बड़ है हमारे संबंधों में या वर्क प्लेस पर .हमें हमारा जॉब माफिक नहीं  आ 

रहा है .कामकाजी माहौल भी चिढ़ा  रहा 

है .

अगर रुदन को दबा लिया तो दबेगा नहीं कटुता में और भी वृद्धि हो जायेगी अन्दर अन्दर .क्रोध 

भी बढेगा आपके अन्दर जो किसी समय 

फूटेगा ज्वालामुखी बनके .हालात बद से बदतर हो जायेंगे .

मर्दों को बचपन से सिखाया जाता है मर्द रोते नहीं हैं रोना झींखना औरतों का काम है ,यह सीख 

ही उलटी है .रोना एक स्वाभाविक प्रक्रिया 

है .एक अभिव्यक्ति है .

Crying is seen as weak and feminine .

औरतों के लिए यह कमोबेश मान्य रहा है स्वीकार्य भी हालाकि प्रोफेशनल नहीं है रोना आपको 

गलत और अदक्ष समझा जा सकता है वर्क

 प्लेस पर .चिंता न करें अपने विश्वास पात्र को लेकर दफ्तर से बाहर आ जाएँ रो लें कह दें सारी  

दास्ताँ .और फिर मस्त रहें .घुटे न अन्दर 

अन्दर .

3 टिप्‍पणियां:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

बात तो अच्‍छी है पर रोते हुए अब अच्‍छा भी तो नहीं लगता

madhu singh ने कहा…

bahut hi sundar aur gyanvardhak,upyogi prastutimdeepawali ki hardik shubhkamnao ke sath

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मन की रातें बह जाने दो,
अँसुअन को कुछ कह जाने दो।