शनिवार, 17 नवंबर 2012

अच्छी चीज़ों में बुरी चीज़ें मिलाई ही क्यों जाएँ ?

अच्छी चीज़ों में बुरी चीज़ें मिलाई ही क्यों जाएँ ?

Pepsi's  fat fighting soda : Too good to be true ?

पेय निगम "पेप्सी "ने एक "स्पेशल सोडा "स्पेशल पेप्सी के नाम से जापानी बाज़ार में इस दावे के साथ

उतारा है कि

इसका सेवन खून में घुली चर्बी को कम करता है .पाचन में मददगार साबित होता है .क्योंकि इसमें हैं मौजूद

खाद्य रेशे .

कठोर स्क्रूटनी का मुकाबला करना पड़ेगा इस जापानी निगम को अमरीकी खाद्य एवं दवा नियंत्रण संस्था

FDA का .आये जरा इनका उत्पाद अमरीकी बाज़ार में .अव्वल तो FDA अस्वास्थ्यकर खाद्यों /पेय में बिला

वजह

पुष्टिकर तत्व मिलाने के उसूलन खिलाफ है ऊपर से इस निगम के अपने पेय में बारे में बढ़े दावे विज्ञापनी

ज्यादा हैं हकीकत में सेहत को चौपट ही करने वाले साबित होंगें .क्या होगा यदि विज्ञापन के मायाजाल में 

लोग चर्बी उतारने के लिए इसका नियमित सेवन करने लगें आइये देखतें हैं .

बेशक फल और तरकारियों के माध्यम से यदि रेशा बहुल खाद्य खुराक में शामिल हो तो न सिर्फ पाचन में

मददगार सिद्ध होवें ,खून में घुली चर्बी भी कम करें ,दिल के रोगों से भी करें हिफाज़त .

स्पेशल पेप्सी (स्पेशल सोडा) के बारे में बतलाया गया है यह चर्बी की ज़ज्बी (चर्बी के अवशोषण )का शमन

करता है ,और भोजन के बाद अन्हेल्दी फैट ट्राईग्लीसराइड्स के स्तर को बढ़ने से रोकता है .

इसीलिए इसे हेल्दी सोडा क़हा गया है .

बस इससे ज्यादा और कुछ भी नहीं बतलाया गया है इस सोडा की बाबत .

लगता है जापान में एक चलन सा आगया है एक Dextrin trend लोकप्रिय हो रहा है पहले "foshu beer "और

अब फोशु सोडा जिसे जापान सरकार की स्वास्थ्यकर पेय के रूप में हिमायत प्राप्त है .

2006 में जापान में चूहों पर एक अध्ययन किया गया जिसके तहत इन्हें dextrin के साथ साथ फैट भी दिया

गया .पता चला इन्होनें चर्बी की ज़ज्बी कमतर की .लेकिन इस अध्ययन को होमोसेपियंस तक नहीं लाया

गया .एक्सटेंड भी नहीं किया गया .

हकीकत यह है रेशा बहुल dextrin का बाहुल्य आपको बीमार बना सकता है .

अध्ययनों से पुष्ट हुआ है इसके अल्पावधि सेवन से भी अल्पावधि के लिए ही पेट दर्द अफारा गैस बनने की

शिकायत हो सकती है .इसके दीर्घावधि जोखिमों का जायज़ा लिया जाना अभी बाकी है .

माहिरों के अनुसार जब तक जापानी पेय निगम इनके खंडन के लिए अध्ययन नहीं प्रस्तुत करता उसके

सारे दावे गफलत भरे और बोगस (जाली )समझे जाएँ .

सन्दर्भ सामिग्री :http://edition.cnn.com/2012/11/16/health/pepsi-fat-fighting-soda/index.html?hpt=he_c2

(ज़ारी )


अच्छी चीज़ों में बुरी चीज़ें मिलाई ही क्यों जाएँ ?(दूसरी क़िस्त )

अमरीकी खाद्य एवं दवा विनियमन संस्था FDA खाद्य पदार्थों में मनमाने तरीके  से विवेकहीनता के साथ

पुष्टिकर तत्व मिलाये जाने की हामी नहीं है .

ताज़े खाद्य उत्पादों यथा गोस्त ,मुर्गियों आदि के मांस में भी ,मत्स्य उत्पादों में भी अलग से पुष्टिकर तत्व

मिलाये जाने के पक्ष में नहीं है .

न ही यह संस्था नाश्ते के लिए तैयार किये गए अल्पाहारों में ही पुष्टिकर तत्व मिलाये जाने का समर्थन

करती है .

Candies और Carbonated beverages पुष्टिकृत किये जाने की भी पक्षधर नहीं है FDA.

अमरीका में तमाम सोडा कमपनियों को चीनी से लदे पेय के बाबत बढ़चढ़के दावे करने से बाज़ आने के लिए

कहा  गया है .

CSPI recently sued "7 UP,S"parent company Dr Pepper Snapple Group for making specious health claims about its Cherry Antioxident ,Mixed Berry Antioxident ,and Pomegranate Antioxident varities arguing that drinkig a soda with a small amount of Vitamin E is not as healthy as consuming antioxidents from fruits ,as the company implied.

(The company decided to discontinue the line.)

2008 में FDA ने  कोको कोला कम्पनी को एक पत्र लिख कर पूछा किस आधार पर वह डाईट कोक को अब

"डाईट कोक प्लस" कह रही है ?इस प्लस का मतलब क्या है ?

माहिरों के अनुसार खाद्य रेशे लेने ही हैं तो इनका सर्वोत्तम स्रोत खाद्य पदार्थ ही हैं .रेशा बहुल खाद्यों का

सेवन कीजिए रेशों से फायदा लेने के लिए न की किसी बरगलाने वाले फाबर युक्त पेय से .

कोला पेय आखिर सोडा ही है .दालों मोटे अनाजों ,फलियों से प्राप्त रेशों का इनसे प्राप्त कथित रेशे भला

क्या


 मुकाबला करेंगे ?

'
"Whole grains ,vegetables ,barley ,beans ,lentils have significant positive effects ,like lowering blood glucose ,and some of that will make you feel more full .It is also more satisfying to chew and swallow  real food rather than to drink a beverage ."-says Vandana sheth , a registered dietitian in the Los Angeles area

and spokesperson for The Academy of Nutrition and Dietetics.

बताना लाजिमी है  रोजाना खाने के साथ सोडा गटकना मोटापे ,मधुमेह ,दिल के रोगों और हाइपरटेंशन को

ही और उग्र बना रहा है .

"Adding a fibre to a drink made from caffeine ,caramel coloring ,phosphoric acid ,sugar and high fructose corn syrup does't make it healthy ,"says Alissa Rumsey, a dietitian at New York Presbyterian Hospital and spokesperson for the New York State Dietetic Association .

अगर लोगों  को यह मुगालता है कि सोडा (जापानी  स्पेशल पेप्सी )पीकर वह वजन कम कर लेंगे तो बतला

दें वह


अधिक केलोरीज़ ही भाकोसेंगे .ज्यादा से ज्यादा पेप्सी पीयेंगे .

This story was originally published on TIME.com


Pepsi's Fat-Fighting Soda: Too Good to Be True?





3 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

उत्कृष्ट प्रस्तुति रविवार के चर्चा मंच पर ।।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हल्दी सोडा..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

स्वयं ही निर्णय लेना चाहिए .... अपने उत्पाद को बेचने के लिए लोग दावे तो कराते ही रहते हैं , पर सच्चाई क्या होती है यह जानना और सम्झना ज़रूरी है