रविवार, 17 फ़रवरी 2013

आरोग्य प्रहरी

आरोग्य प्रहरी 

(1)बुढापे के रोग अल्जाइमर्स के बढ़ने की  रफ़्तार को कम प्रोटीन युक्त 

खुराक कम कर सकती है 


रिसर्चरों  ने अल्जाइमर्स ग्रस्त चूहों को जब कम प्रोटीन युक्त खुराक पे रखा तो उनकी बोध सम्बन्ध क्षमता में अपने ही उन साथियों के बरक्स सुधार देखने को मिला जिन्हें लो प्रोटीन खुराक मुहैया नहीं करवाई गई थी .क्षति ग्रस्त हो चुकी एक प्रोटीन 'Tau protein 'भी इनके दिमाग में कमतर स्तर लिए मिली .अल्जाइमर्स  ग्रस्त रोगियों के  दिमाग में इसी प्रोटीन का स्तर बढ़ जाता है .

(2)दही या योगर्ट का नियमित सेवन आपके रोग प्रतिरक्षण को बढ़ा सकता है .क्योंकि दही में मौजूद रहता है दोस्त बेक्टीरिया(good pro bacteria) जो रोग प्रतिरक्षण कोशाओं को उत्प्रेरित करता है .

(3)ग्लास चीनी  मिट्टी (मृत्तिका शिल्प )और स्टील के बने पात्र प्लास्टिक से बने ऐसे ही पात्रों से जिनका इस्तेमाल खाद्य  सामग्री और पीने के पानी के भंडारण में किया जाता है बेहतर रहते हैं सेहत के लिहाज़ से .

(4) अमरूद और संतरा विटामिन C का प्राचुर्य लिए रहते हैं इनके सेवन से न तो जुकाम को बढ़ावा मिलता है और न ही इन का सेवन जुकाम की वजह ही बनता है आम धारणा के विपरीत .

(5)आर्थराइटिस  के दर्द में राहत  के लिए साइकिल चलाइये तैराकी 

कीजिए .

(6)नाक ज़बर्जस्त तरीके से बह रही हो भयंकर जुकाम की चपेट में हों आप ,आधा लीटर दूध में पांच बताशे ,एक छुआरा तथा एक छोटी इलायची  डालकर  उबालें .जब यह मिश्र घटके आधा रह जाए ,गर्म- गर्म पी जाएँ .आजमा के तो  देखें जनाब  .




(7)भिन्डी एक बेहतरीन विरेचक पदार्थ है ,Laxative है अल्सर्स और irritable bowels syndrome  में फायदा पहुंचाता है .

Irritable bowels syndrome:

यह एक उदर एवं आंत्र सम्बन्धी विकार है जिसमें उदर एवं आंत्र क्षेत्र के  प्रकार्य में बदलाव आते हैं .यह क्षेत्र शरीर के खोखले अंगों की एक ट्यूबनुमा श्रृंखला है जो मुड़ती  तुड़ती मुख विवर से गुदा तक चली आती है .यही वह क्षेत्र है जहां खाई पचकर सरलीकृत रूपों में टूटती हैं .भोजन नाली ,आमाशय ,पक्वाशय (ड्यूओडी नम  ),छोटी एवं बड़ी आंत ,मलाशय और गुदा इसके किरदार हैं .

यह स्थिति आईबीएस बीमारी न होकर लक्षणों का एक समूह है जिसमें प्रमुख है उदर शूल ,ऐंठन (मरोड़ ),अतिसार और कब्जी .इनका प्रगटीकरण जब तब होता रहता है शमन भी .

(8)पुरानी खांसी की शिकायत में राहत मिल सकती है .खूब पानी पीजिये (8-10ग्लास रोजाना ).पानी का अतिरिक्त सेवन बलगम को पतला करता है .

(9)चमड़ी को चमकदार बनाए रखने के लिए किवी खाइये जब भी मिले जहां भी मिले .कमसे कम तीन मर्तबा सब्जी और फलों (गाज़र ,बंद गोभी ,किवी )का सेवन आपकी त्वचा को कांति प्रदान करता है .त्वचा को ताम्बई  बनाने का कुदरती तरिका है यह .




s for kivi pictures

 - Report images





Irritable bowel syndrome* (IBS) is a functional gastrointestinal (GI) disorder, meaning that the symptoms are caused by changes in how the GI tract works. The GI tract is a series of hollow organs joined in a long, twisting tube from the mouth to the anus—the opening where stool leaves your body. Food is digested, or broken down, in the GI tract.
The digestive tract, with labels: esophagus, stomach, duodenum, small and large intestines, colon, rectum, and anus
The GI tract is a series of hollow organs joined in a long, twisting tube from the mouth to the anus.
*See the Pronunciation Guide for tips on how to say the underlined words.
IBS is not a disease. IBS is a group of symptoms that occur together. Symptoms can come and go repeatedly without signs of damage to the GI tract. The most common symptoms of IBS are abdominal pain or discomfort, often reported as cramping, along with diarrheaconstipation, or both.


11 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

विटामिन सी -
शुद्ध जल और गठिया का दर्द-
दूध बतासे छुआरा और इलायची -
सर्दी का सटीक इलाज-
आभार भाई जी ||

Rajendra Kumar ने कहा…

अल्जाइमर एक गंभीर रोग है,अच्छी जानकारी पेश की है,अन्य जानकारी भी बहुत ही लाभप्रद है,

Lokesh Singh ने कहा…

दूध बताशा इलायची ,गरम करो एक संग ।
आधा जब हो जाए तो ,पियें जले ना अंग ।
पियें जले ना अंग ,फायदा ले मौसम का ।
हो जुकाम काफूर ,है नुस्खा बड़े काम का।
कहते सुन लोकेश , घरेलू सुंदर नुस्खा ।
हमने कई बार इसे है आजमा रक्खा ।

Asha Saxena ने कहा…

बहुत उपयोगी जानकारी दी है आपने |
आशा

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

वाह!
आपकी यह प्रविष्टि दिनांक 18-02-2013 को चर्चामंच-1159 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

शालिनी कौशिक ने कहा…

सार्थक जानकारी भरी पोस्ट कैग [विनोद राय ] व् मुख्य निर्वाचन आयुक्त [टी.एन.शेषन ]की समझ व् संवैधानिक स्थिति का कोई मुकाबला नहीं .

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

बेहतरीन जानकारी के लिए दिल से आभार हैं हम..

madhu singh ने कहा…

सर जी ,रोग हरण के सुन्दर और
व्यावहारिक सभी सुझाव सराहनीय हैं

Rohitas ghorela ने कहा…

Apke blog par hamesha bahut achchi jankari milti hai... jinhe main hamesha learn karna chahta hu par Time ki kilt hone ki vajah se esa kar nhi pa rha hun..

2nd grade teacher exam ke baad main aapke blog par continue rahuga.

meri pahli gajal  गज़ल 1 par aapke sujhav sadar aamntrit hain.

DINESH PAREEK ने कहा…

बहुत अच्छी जानकारी आभार
मेरी नई रचना
फरियाद
एक स्वतंत्र स्त्री बनने मैं इतनी देर क्यूँ
दिनेश पारीक

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

ताउ प्रोटीन बहुत आवश्यक है..