सोमवार, 25 फ़रवरी 2013

Antibiotic made from human sweat may cure TB

Antibiotic made from human sweat may cure TB

माहिरों के अनुसार एंटीबायटिक्स केवल डॉक्टरी नुस्खे पर ही उपलब्ध नहीं हैं ,खुद हमारा शरीर ऐसे अनेक पदार्थ तैयार करता है जिनमें जीवाणु ,विषाणु ,फफूंद ,तरह तरह के ज़रासिमों से मुकाबला करने की क्षमता कुदरती तौर पर पाई जाती है .साइंसदानों के मुताबिक़ इन  कुदरती रोगाणुनाशी पदार्थों की कार्यप्रणाली हमें मालूम है जिसका फायदा उठाकर संक्रमणरोधी अनेक दवाएं तैयार की जा सकती हैं .साइंसदानों के मुताबिक़ ये दवाएं परम्परागत एंटीबायटिक दवाओं के बरक्स ज्यादा कारगर, असरकारी, साबित होंगी .

एक ऐसी ही जीवाणु रोधी दवा हमारे पसीने से तैयार की जा सकती है .इसका इस्तेमाल तपेदिक की एक खतरनाक स्ट्रेन  के अलावा कई सुपरबग्स से पैदा संक्रमण के खिलाफ भी किया जा सकेगा .

माहिरों के अनुसार जब हमें पसीना आता है तब हमारी चमड़ी एक रसायन Dermcidin तैयार करती है .चमड़ी के कट फट जाने ,किसी कीट दंश से पैदा संक्रमण का मुकाबला तरह तरह के ज़रासिमों से बचाव करता है यह रासायनिक पदार्थ .

साइंसदानों ने इस रासायनिक यौगिक की पूरी एटमी संरचना की पड़ताल की है .इसी से यह इल्म हुआ कि क्यों यह पदार्थ सुपरबग्स के खिलाफ ज़ारी जंग में एक कारगर रणनीतिक अस्त्र  साबित हो सकता है .

इसी से तपेदिक की एक खतरनाक दवा रोधी किस्म के कामयाब इलाज़ की उम्मीद बंधी है .

इस प्रकार के कोई १ ७ ० ० किस्म के एंटीबायटिक्स के बारे में साइंसदानों को जानकारी है .इन सबकी विस्तृत कार्य प्रणाली अभी बूझी जानी  बकाया है .यह जानकारी बहु -उपयोगी साबित हो सकती है .

साथ में सेहतनामा पढ़िए :


सेहतनामा 

(१ )खून साफ़ करती है मूली .इसे एक बेहतरीन Detoxifier,शरीर से विषाक्त अवांच्छित पदार्थ निकालने में मदद गार समझा जाता है .

(२)जो लोग रोज़ नाश्ता करते हैं उनके ध्यान लगाने की अवधि ,अटेंशन स्पेन में इजाफा हो जाता है .दिन भर इनका ऊर्जा स्तर ,दम ख़म भी बना रहता है .

(३)DRIVING WITH A COLD IS LIKE DRUNKEN DRIVING 

Driving when you feel groggy with a heavy cold can be as hazardous as drunken driving ,because of slow reaction times, says a study.The study shows that alertness was reduced by a third in cold sufferers and the effects did not seem to be altered by the severity of the cold .

सर्दी जुकाम की चपेट में आने पर जब बदन गिरा गिरा सा रहता हो ,आप बीमार बीमार सा महसूस करते हों ,गाड़ी चलाने के खतरे वैसे ही पैदा हो जातें हैं जैसे शराब पीने  के बाद गाड़ी  चलाने पे हो जातें हैं . जागरूकता के स्तर और चेतन्य चौकस बने रहने में एक तिहाई की गिरावट आ जाती है अध्ययनों से यह पुष्ट हुआ है .

(४)Fish oil ,aspirin can cure arthritis

A combination of fish oil and aspirin could be the key to beating a host of devastating chronic diseases including arthritis , a new breakthrough study has found.Researchers found that the two work together to combat the inflammation responsible for a host of illness ,including heart disease ,cancer and arthritis.

मच्छी का तेल और एस्पिरिन दोनों का योग एक दम से तबाही लाने वाले चंद रोगों में यथा दिल की बीमारी ,कैंसर ,तथा आर्थराइटिस जैसे रोगों में रोगों की पूर्व अवस्था  इन्फ्लेमेशन से पार पाने ,मुकाबला करने में जादुई साबित होता है .

पढ़ाकू बच्चों का संग साथ कुशाग्र बनाता है बच्चों को

(५ )अंग्रेजी का मुहावरा है जिसका तर्जुमा (हिंदी अनुवाद )कुछ यूं है 

:आदमी 

को उसकी सोहबत से जाना है ,उन किताबों  की मार्फ़त जाना जाता जो 

उसने पढ़ी हैं .हमारा रिकार्ड रहा है हमारे तमाम मित्र हमसे बेहतर रहें हैं 

हर क्षेत्र में  उनके संग का रंग कुछ न कुछ हम पर भी चढ़ा होगा .अब 

यही बात साइंसदान कह रहें हैं अपनी आजमाइशों के आलोक में .

आपके बच्चे को संग साथ यदि अपने से अकादमिक तौर पर बेहतर 

बच्चों का मिलेगा तब आपका बच्चा भी अकादमिक तौर पर आगे 

आयेगा .अपने प्रज्ञासंपन्न ,हुनरमंद हमउम्रों का रंग  उस पर भी चढ़ेगा 

.इसीलिए बहुत एहम होने चाहिए माँ बाप के लिए बच्चे के यार दोस्त 

सहपाठी ,हमजोली .उन्हें जानना चाहिए किन बच्चों के संग उसकी दांत 

काटी रोटी है .पढ़ाकू बच्चों का संग साथ कुशाग्र बनाता है बच्चों को . 

Intelligent friends can make children smarter 

Children who hang out with like -minded academic achievers are smarter as it boosts their brainpower , a new study claims .Parents need to understand their children's friends have more of an impact on their attitude to study than they think ,child psychologist Dr Michael Carr -Gregg said ."You are who you hang out with .If you have an average kid and they associate with others who love learning and going to school ,that will definitely become contagious ,"the Daily Telegraph quoted Carr -Gregg assaying .He said academic children would even go to the extreme of pretending to be dumb in order to fit in with their friends.

सन्दर्भ -सामिग्री :-SHORT CUTS /THE TIMES OF INDIA ,MUMBAI ,FEBRUARY 25,2013,P15 


4 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

पसीना भी उपयोगी हो सकता है..बहुत ही रोचक शोध..

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

क्या बात बताई आपने | मुझे तो ज़रुरत से ज्यादा पसीना आता है बचपन से ही | अब लगता है के उसका आना व्यर्थ नहीं है | बहुत उपयोगी जानकारी के लिए धन्यवाद् | आभार


Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page

रविकर ने कहा…

बढ़िया जानकारी-
सुन्दर प्रस्तुति |
आभार आदरणीय ||

. ने कहा…

आशा है ये शोध उपयोगी साबित हों....