मंगलवार, 29 जनवरी 2013

दिल और दिमाग के लिए बुरा नहीं है अंडा


दिल और दिमाग के लिए बुरा नहीं है अंडा 

An egg a day doesn't up heart disease risk 

दिल और दिमाग के रोगों के जोखिम को नहीं बढ़ाता है अंडा .ब्रितानी 

चिकित्सा परिपत्र 'ब्रिटिश मेडिकल जर्नल 'में प्रकाशित एक अध्ययन से 

यह पुष्ट हुआ रोजाना एक अंडा खाने वालों के लिए न दिल के रोगों के 

खतरे का वजन बढ़ता है न ब्रेन अटेक का .

अलबत्ता अध्ययन में शामिल मधुमेह ग्रस्त उन लोगों में जो अंडे का 

ज्यादा सेवन कर रहे थे परिहृदय रोग (कोरोनरी आर्टरी डिजीज CAD)के 

खतरे का वजन बढ़ने और अंडे के अतिरिक्त सेवन में एक अंतर सम्बन्ध 

ज़रूर 

देखा गया है  .लेकिन साथ ही ब्रेन अटेक  की एक किस्म हेमोरेजिक स्ट्रोक 

(Hemorrhagic  stroke )के घटने का भी इल्म हुआ है .

दिल की बीमारियों के सन्दर्भ में अंडे की भूमिका की पड़ताल अनेक 

महामारी के फैलने और उन पर नियंत्रण  सम्बन्धी वैज्ञानिक अध्ययनों में 

की गई है .खासकर खुराकी कोलेस्ट्रोल के एक स्रोत के रूप में इसके रोल को 

बूझने के लिए एपिडीमियालाजिकल अध्ययन किये गएँ हैं .लेकिन क्या 

इसका सेवन कोरोनरी आर्टरी डिजीज और स्ट्रोक के खतरे को बढाता है 

इसका आज तक खुलासा नहीं हो सका  है .

"This meta-analysis identified no significant association between egg consumption and risk of coronary heart disease or stroke .Higher intake of eggs (up to one egg per day )was not associated with risk of coronary heart disease or stroke ," the study said.

फोर्टिस अस्पताल के डॉ अनूप मिश्रा साहब ने दो टूक कहा है इस अध्ययन 

से पता चलता है ,अंडे का रोज़ाना सेवन रोग मुक्त लोगों में दिल और 

दिमाग के रोगों के खतरे को नहीं बढाता है .आप अस्पताल के सेंटर आफ 

एक्सीलेंस फार डायबिटीज़ एंड मेटाबोलिक डिजीज (CDOC)के मुखिया हैं .

माहिरों के अनुसार अब अण्डों को विटामिन D और उच्च गुणवत्ता प्रोटीन 

का एक बेहतरीन स्रोत समझा जाता है .गौर तलब है एशियाइयों में इस 

विटामिन की कमी बेशी बनी रहती है .अलावा इसके प्रोटीन बहुल खुराक 

तौल घटाने  में भी कारगर सिद्ध हो सकती है ऐसा हालिया अध्ययनों से 

पुष्ट हुआ है .

इस अध्ययन से यह भी पुष्ट हुआ है ,बेशक  विकसित देशों में दिल की 

बीमारी का प्रकोप थोड़ा कम हुआ है लेकिन आज भी यह दुनिया भर में 

मौतों की एक बड़ी वजह बना हुआ है .गरीब और मंझौली  आमदनी वाले 

देशों में दिल की बीमारियों के मामले नाटकीय तौर पर बढ़ें हैं ,बढ़ रहें हैं 

.विकाशशील देशों में सन 2020 में दिल की बीमारियाँ  मौत की एहम वजह 

बन सकती हैं . LDL Choleterol का बढ़ा हुआ स्तर खतरे के वजन को 

बढाए रहता है .

सन्दर्भ -सामिग्री :-An egg a day doesn't up heart disease risk/TIMES TRENDS/THE TIMES OF INDIA ,MUMBAI ,JANUARY 29 ,2013,P17 

12 टिप्‍पणियां:

डॉ टी एस दराल ने कहा…

अंडे की प्रोटीन को स्टेंडर्ड प्रोटीन माना गया है। लेकिन इसके योक में मौजूद वसा कोलेस्ट्रोल को बढाती है। इसलिए हृदय रोगियों या जिनका कोलेस्ट्रोल ज्यादा रहता है , उन्हें सलाह दी जाती है कि अंडे का पीला भाग न खाएं।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दूध का ही सहारा है बस..

Anita ने कहा…

जिसे जो भाए वह वही खाए..

रविकर ने कहा…

अंडे से बढ़ता नहीं, दिल दिमाग का दर्द |
डंडे से बस में रहे, पर्दा बर्दा मर्द |
पर्दा बर्दा मर्द, लीक से नहीं भागता |
करे बयानी फर्द, होश में रहे जागता |
रविकर हो भयभीत, पास आता जो सन्डे |
दिवस करूँ व्यतीत, देखते डंडे अंडे ||

Kalipad "Prasad" ने कहा…

कोलेस्ट्रोल बढ़ाने वाले योक को छोड़ अंडा खाइए
New post तुम ही हो दामिनी।

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

अपुन तो शुद्ध शाकाहारी है,,,,

शालिनी कौशिक ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति विवाहित स्त्री होना :दासी होने का परिचायक नहीं आप भी जाने इच्छा मृत्यु व् आत्महत्या :नियति व् मजबूरी

शिवनाथ कुमार ने कहा…

हालांकि मैं तो शाकाहारी हूँ फिर भी अच्छी जानकारी ,,,,
मैं सोचूंगा मुझे अब क्या करना है :-)
सादर आभार !

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

No doubt the yellow portion of an egg is full of cholesterol,people having higher values of cholesterol in their blood, having higher B.P. may get angina. Therefore better to avoid it. Normal persons can take it as being told by Sharma ji with reference to the facts. Thank you for posting an important article.

madhu singh ने कहा…

सर JI ,आप के द्वारा प्रदत्त सूचना
उपयोगी तो है ही साथ ही साथ तमाम
LOGO की जिन्दगी को रोशन भी
करने वाली है ,सुन्दर

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

जानकारी युक्त पोस्ट ....