शुक्रवार, 18 जनवरी 2013

खानपान से जुड़ी है हमारी कई बीमारियों की नव्ज़ (तीसरी क़िस्त )

खानपान से जुड़ी  है हमारी कई बीमारियों की नव्ज़ (तीसरी  क़िस्त )

EAT RIGHT BE HEALTHY 

ACNE (कील मुहांसे )

संशाधित चीज़ें खाते रहने से शरीर का इन्सुलिन स्तर बढ़ जाता है नतीजा होता है इन्फ्लेमेशन (रोग 

संक्रमण के कारण शरीर की एक अवस्था जिसमें वह लाल ,तकलीफदेह और सूजन युक्त हो जाता है )और 

ब्रेकआउट (त्वचा रोग का फुट पड़ना  ).

अलावा इसके खुराक में ओमेगा थ्री फेट्स का असंतुलन होना भी कील मुहांसों को भडका सकता है .

ओमेगा थ्री फेट्स इन्फ्लेमेटरी रसायनों के प्रभाव को निष्प्रभावी कर देते हैं .


FOOD SOLUTIONS


खुराक ऐसी लीजिए जिसमें शक्कर कम हो ,प्राकृत अवस्था में मोटे अनाजों 

का बाहुल्य हो .खाद्य रेशें और फल और तरकारियाँ हों .

ओमेगा थ्री बहुल अखरोट ,अलसी के बीज (Flaxseeds /linseeds),पालक 

,स्ट्राबेरीज आदि को अपनी रोजमर्रा की खुराक  में जगह दीजिये .







4 टिप्‍पणियां:

शालिनी कौशिक ने कहा…

सुन्दर प्रयास कलम आज भी उन्हीं की जय बोलेगी ...... आप भी जाने @ट्वीटर कमाल खान :अफज़ल गुरु के अपराध का दंड जानें .

शालिनी कौशिक ने कहा…

सुन्दर प्रयास कलम आज भी उन्हीं की जय बोलेगी ...... आप भी जाने @ट्वीटर कमाल खान :अफज़ल गुरु के अपराध का दंड जानें .

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

सारा काम पाचनतंत्र पर आधारित होता है.इसलिए स्वास्थ्य पूरी तरह खानपान पर निर्भर होता है. बहुत बढ़िया ढंग से की गयी आपकी प्रस्तुति सराहनीय है.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

मोटा खाना है, सूक्ष्म सोचना है।