गुरुवार, 17 जनवरी 2013

खुराक को संतुलित रखने के लिए


खुराक को संतुलित रखने के लिए 

Colour your plate right 

विविध रूपा बहुरंगी बनाइए अपनी खुराख को .फल और तरकारियाँ तमाम 

किस्म के रंजक (Pigments)ही नहीं लिए हैं स्वास्थ्यकर पुष्टिकर तत्व भी 

संजोये हैं .जितना गहरा रंग उतना ही अधिक एक ख़ास पोषक तत्व फल 

और तरकारियाँ लिए हैं . 

आलूचा /आलूबुखारा /प्लम ,बैंगन (ओबशीन ,एग प्लांट )अपनी बैंगनी 

(बैंजनी )रंगत उन रासायनिक यौगिकों  Phytochemicals 

की वजह से लिए हैं जिनको anthocyanins तथा resrveratrol कहा जाता है .

phyto का मतलब होता है पादप .ये दोनों पादप रासायनिक यौगिक बुढ़ापे 

को मुल्तवी रखते हैं ,रक्त चाप को कम रखते हैं तथा शरीर की यकृत रोगों 

(liver diseases )से हिफाज़त करते हैं .

संतरी  (नारंगी ) रंगी संतरा ,किन्नू ,विलायती गाज़र (नारंगी गाज़र 

)betacarotene ,तथा beta cryptoxanthin प्रचुरता में लिए हैं .ये दोनों तत्व 

हमारी चमड़ी और आँखों को तंदरुस्त रखते हैं . आर्थरायटिस से भी बचाए 

रहतें हैं .

पीतवर्णी केला और भुट्टा carotenoids से भरपूर हैं .एक तरफ ये तत्व 

हमारी रोग रोधी प्रणाली को पुष्ट करतें हैं दूसरी तरफ दिल को स्वस्थ 

रखते हैं .

स्वेत वर्ण लहसुन ,प्याज ,फूलगोभी ,खुम्बी /मशरूम /छत्रक  

(mushrooms)विटामिन C के बढ़िया स्रोत हैं .जीवाणुतथा फफूंद  नाशी 

यौगिक (antibiotic ,antifungal compounds)लिए  हैं .कोशाओं को नष्ट 

होने से बचाते हैं .लड़ाका स्वेत रुधिरकणिकाओं को तंदरुस्त रखतें  हैं .

टमाटर ,तरबूज (टमाटर और तर्बूज़िया रंग के अन्य फल तरकारियाँ 

)एंटीओक्सिडेंट lycopene से युक्त हैं .एक अंदरूनी सन स्क्रीन का काम 

करते हैं ये तत्व .सन बर्न से बचाते हैं .अस्थिभंग बोले तो 

ओस्टियोपोरोसिस से  भी  बचाते हैं .

ग्रीन पीज़ (छोटी बड़ी मटर की फलियाँ ),ब्रोक्कली ,पालक संयुक्त हैं 

:sulforaphane ,isothiocyanate और indoles से .ये तत्व यकृत को 

उत्तेजन प्रदान कर कैंसर पैदा करने वाले तत्वों को लगाम लगाए रहतें हैं .

तो ज़नाब इंद्रधनुषी बनाइये अपनी खुराख .कलर कोड दीजिये हफ्तावार 

सलाद /खुराख को .






7 टिप्‍पणियां:

Kalipad "Prasad" ने कहा…

वीरेंद्र जी आप बहुत खोजबीन करके बड़ी उपयोगी जानकारी लाते हैं .भौतिक शास्त्र के साथ साथ जीव विज्ञानं को भी अपना लिया . हार्दिक बधाई.
New post कुछ पता नहीं !!! (द्वितीय भाग )
New post: कुछ पता नहीं !!!

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

बहुविध उपयोगी नुख्से.ये प्राकृतिक चिकित्सा जैसा ही है.आपकी एक और उपलब्द्धि. साधुवाद.

रविकर ने कहा…

बढ़िया है भाई जी |
आभार ||

Reena Maurya ने कहा…

जानकारी हेतु आभार।।।।।
:-)

Kailash Sharma ने कहा…

बिल्कुल सच कहा है...स्वास्थ्य के लिए खाने की प्लेट का सामान सभी रंगों से सजा तो होना ही चाहिए...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रंगभरी सलाह..

डॉ टी एस दराल ने कहा…

वाह , सही कहा। रंग बिरंगे फल हमारे जीवन को रंगों से भरपूर , सुन्दर और स्वस्थ बनाते हैं।
सुन्दर , सार्थक पोस्ट के लिए आभार।