सोमवार, 17 दिसंबर 2012

स्वास्थ्य प्रहरी

स्वास्थ्य प्रहरी 

स्वास्थ्य मंत्रालय के एक अध्ययन के अनुसार एक करोड़ छ :लाख भारतीयों की जांच से पता चला है कि  भारत


में 7%लोग मधुमेह से ग्रस्त हैं .6.1%उच्च रक्त चाप से .जिन राज्यों के  लोगों को सेहतमंद होना चाहिए था

वहीँ पर मधुमेह और उच्च रक्त चाप के ज्यादा मामले मिलें हैं जबकि इन राज्यों के लोग भौतिक रूप से ज्यादा

सक्रीय रहतें हैं भौगोलिक कारणों से मसलन सिक्किम में मधुमेह की दर भारत भर में सर्वाधिक 14%दर्ज हुई है



जबकि हिमाचल प्रदेश में उच्च रक्त  चाप से 14.2 %लोग पीड़ित हैं भारत भर में इसका उच्च रक्त चाप के

मामलों में  दूसरा नंबर है .जम्मू


काश्मीर में मधुमेह की दर 8.9 %रही है जबकि उत्तरा खंड के 8%लोग उच्च रक्त चाप से ग्रस्त पाए गए हैं .

अंतर राष्ट्रीय मधुमेह संघ (International Diabetes federation (IDF) के अनुसार भारत भर में तीन करोड़

तीस लाख मर्द तथा दो करोड़ नब्बे लाख औरतें मधुमेह से ग्रस्त  हैं .

20-79साला चौवालीस लाख लोग ऐसे हैं जिन्हें मधुमेह रोग तो  है लेकिन इन्हें इसका इल्म ही नहीं है अपने ही

रोग से ये लोग बे -खबर बने हुए हैं .

2011 में मधुमेह से कुल दस लाख लोगों की मृत्यु हुई .परम्परा गत धारणा के विपरीत ग्रामीण भारत के लोग

इस बीमारी से ज्यादा ग्रस्त हैं (कुल तीन करोड़ चालीस लाख )जबकि शहरी  क्षेत्रों में इसका प्रकोप अपेक्षाकृत

इससे

 कम (दो करोड़ अस्सी लाख )रहा है .

31.3 मधुमेह ग्रस्त लोग उच्च रक्त चाप से भी ग्रस्त पाए गए हैं .

पता चला मधुमेह  से ग्रस्त लोगों में 57% लोग रत्ती भर भी कसरत नहीं करते हैं किसी भी प्रकार का भौतिक

व्यायाम

या मशक्कत   नहीं करतें हैं .जबकि कसरत न करना एक जोखिम तत्व है इन बीमारियों के लिए .

38 %के परिवारों में मधुमेह का पूर्व वृत्तांत (इतिहास )मिला ,फेमिली हिस्ट्री मिली है .मधु मह रोग के साथ

औसतन 6.6साल गुज़ारने केबाद सौ के पीछे एक मामले में पेचीलापान देखा गया ,9.7साल के ऐसे मामले बढ़के

 सौ के पीछे 6 हो गए .

जिन राज्यों में उच्च रक्तचाप की दर ज्यादा है वह क्रमश :इस प्रकार हैं :

 आंध्र प्रदेश (13.3%),उड़ीसा (9%),छत्तीस गढ़ (8.4%),गुजरात (6.7&).

मधुमेह की कमतर दर वाले राज्य हैं :

मध्यप्रदेश  (2.9%),असम (3.7%),छत्तीसगढ़ (3.9),हरियाणा   (4%),झाड़खंड (4.6%),उत्तराखंड (5.7%),उत्तरप्रदेश (5.9%).

मधुमेह के मामलों में सिक्किम के बाद जहां सर्वाधिक मामले दर्ज़  हैं जिन 

राज्यों का  नम्बर  आता है वह इस 

प्रकार हैं :

तमिलनाडु (11.7%),कर्नाटक (10.3%),पश्चिम बंगाल (9.8%),केरल (9.3%),उड़ीसा (9%),जम्मू काश्मीर

(8.8%),पंजाब (8.5%),आंध्रप्रदेश (8.3%).

खबर सेहत की  

(1)  फूल  गोभी  विटामिन K  और ओमेगा -3 वसीय  अम्लों  का बढ़िया  स्रोत है .इन्फ्लेमेशन से बचाव करता है .

(2)Asparagus is a good source of tryptophan , an important amino acid that the body uses to make

serotonin ,which helps you sleep better .

शतावर ,शतावरी ,नागदौन या अस्परेगस एक लम्बे हरे सफ़ेद ताने वाला पादप है इसे सब्जी के रूप में पकाके

खाया जाता है .इसमें मौजूद रहता है एक महत्वपूर्ण अमीनों अम्ल ट्रिपटोफैन जिसका इस्तेमाल हमारा शरीर

सिरोटोनिन  बनाने में करता है .यह एक ऐसा न्यूरोट्रांसमीटर है जो ऊतकों में व्यापक रूप से वितरित रहता है

चोट लगने पर उस स्थान की ब्लड वेसिल को सिकोड़ लेता है तथा हमारी भाव दशा , संवेगों का विनियमन

करता है .

(3)BABIES LEARN BETTER WHEN SITTING UP

Rearchers found that something as simple as the body position of babies while they learn plays a

critical role in their cognitive development .The ability to sit up unsupported has a profound effect on
the ability to learn about objects.



हम असली गांधी वादी हैं

हमें तो कोई भी लात मार जाए हम पैर पकड़  लेते हैं गुस्सा नहीं करते नरेन्द्र मोदी की तरह .हम शांत रहतें हैं .

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मालिक ने जैसे ही समझौता एक्सप्रेस में हुए बम ब्लास्ट की बात की हमने फट

  इसके तीसरे मुजरिम राजेन्द्र चौधरी को मध्य प्रदेश के नागदा में गिरिफ़्तार कर लिया .हमारे गाल पे कोई भी

 चाटा  मार जाए हम मोदी की तरह गुस्सा नहीं करते .पैर पकड़ लेते हैं .

हम स्वाभिमानी हैं .आतंकियों को भी माफ़ कर देतें हैं .भले वह हमारे .........को मार जाएँ ,.....हम शांत   रहतें हैं .



रहमान मलिक  हुक्म करें और किस किस को पकड़ना है हमारी नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी फट पकड़ लेगी .

मेहमाँ जो हमारा होता है वह जान से प्यारा होता है .क्या हुआ हमारे पिताजी और दादी को आतंकवादी मार गए

हम गुस्सा नहीं करते उन्हें बिरयानी परोस्तें हैं .

अब यह कहानी तो किसी से छिपी नहीं है गोत्र दादा से चलता है और वह कौन थे ?

(श्री फ़िरोज़ गांधी )

हम असली गांधी वादी हैं .







4 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

स्वास्थ्य जागरण बेला है,
निर्धन तन्त्र अकेला है।

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.
आपका ब्लॉग देखा मैने और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.
http://madan-saxena.blogspot.in/
http://mmsaxena.blogspot.in/
http://madanmohansaxena.blogspot.in/
http://mmsaxena69.blogspot.in/

दिगम्बर नासवा ने कहा…

दोनों बीमारियाँ खतरनाक हैं ...
फूल गोभी .... बहुत सी अच्छी चीज़ें हैं इसमें ... ओर सही कहा आपने हम सच्चे अहिंसा-वादी हैं ... लगता है कुछ फरक नहीं पड़ता भारत देश में ...
राम राम जी ...

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...