गुरुवार, 6 दिसंबर 2012

राजनीति के ये रंगे सियार


राजनीति के ये रंगे सियार 

ये माया और मुलायम अलि  दोगले हैं हाई ब्रीड  उपज हैं राजनीति की, क्रोस ब्रीड  हैं .भाषण में इनके लिए प्रत्यक्ष विदेशी पूँजी निवेश 

भारत को गुलाम बनाने की साजिश  है और व्यवहार में ये 

इसके साझीदार हैं .चर्च की एजंट के दल्ले हैं .रंगे सियार है ये राजनीति के .ये दोनों केंद्र की रोबोटिया सरकार की रखैलें हैं जिनकी नाक में 

CBI  नकेल डाली गई है .संसद से भागे रहने वाले यह पलायनशील राजनीतिक भगौड़े हैं .

वोट न करने का पलायन करने का अपने लिए यह अधिकार सुरक्षित रखे हुए हैं इस या उस नियम के तहत जब जनता की बारी आती है 

ऐसे भगौड़ों को वोट न करने का अधिकार मांगने की ,यही लोग नाक भौं सिकोड़ते हैं .सरयू तट पर इनका विसर्जन करना ज़रूरी है .

 संसद का कीमती वक्त  जाया करने वाले इन राजनीतिक वर्ण संकरों के लिए सौ फीसद हाजिरी लाजिमी रखी जानी चाहिए बहुत हो गई 

कूद फांद इन संसदीय  शाखा मृगों  की संसदीय कूप में .


Mayawati Pictures & Photos

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट -रंगे सियार् पर .http://zealzen.blogspot.in/

Images for PICTURES OF MULAYAM SINGH YADAV ...

 - Report images
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

5 टिप्‍पणियां:

पूरण खंडेलवाल ने कहा…

ये तो शुरू से ही ऐसे ही हैं इनकी कथनी और करनी में सदैव फर्क रहा है !!

Arvind Mishra ने कहा…

यह प्रत्याशित था -जनता ही फैसला करेगी अब!

Kailash Sharma ने कहा…

यह सब अप्रत्याशित नहीं था..राजनीति का खेल..

Rohitas ghorela ने कहा…

आपका गुस्सा जायज है विरेंद्र जी ..आखिर ऐसे छीछालेदार राजनीती में आ कैसे जाते हैं।

मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है
http://rohitasghorela.blogspot.in/2012/12/blog-post.html

madhu singh ने कहा…

rajniti,vo bhi etni ochi,ram hi bachaye,ese ram ram hi kaho bhayee