शनिवार, 29 दिसंबर 2012

अतिथि कविता :हम जीते वो हारें हैं -डॉ .वागीश मेहता


अतिथि कविता :हम जीते वो हारें हैं -डॉ .वागीश मेहता


                                 हम जीते वह हारे हैं
                              ...................................

दिशा न बदली दशा न बदली ,

हारे  छल बल सारे हैं ,

वोटर ने मारे फिर जूते ,

कैसे अजब नज़ारे हैं .



                            (1)
                 पिछली बार पचास पड़े थे ,

                 अबकी बार पड़े  उनचास ,

                  जूते वाले हाथ थके हैं ,

                   हाईकमान को है विश्वास ,

                   बंदनवार सजाये हमने ,

                  हम जीते वह हारे हैं ,

                  कैसे अजब नज़ारे हैं .

                              (2) .

                ऊपर का सन्देश यही है ,

                कहना तो सौ टेक सही है ,

                दो और दो होते हैं पांच ,

                गणना में कोई कमी नहीं है ,

                चारों खाने चित्त पड़े हैं ,

                हरगिज़ हम न हारे हैं ,

               कैसे अजब नज़ारे हैं .


                        (3)

              जब से मंदबुद्धि के पाले ,

              घर के रहे न घाट हवाले ,

             दूर से दूध -धुले से लगते ,

             कालिख पोते चैनल वाले ,

            झूठ और सच से क्या लेना ,

            गिरवीं मस्तिष्क हमारे है ,

             कैसे अजब नज़ारे हैं .

                    (4)

            सेकुलर का मतलब है संसद ,

            और सीट के मायने मसनद ,

            एक बार गर हाथ लगे तो ,

            फिर क्या औरत ,इज्ज़त अस्मत ,

            पांच साल में क्या क्या करना ,

            सीखे करतब सारे हैं ,

             कैसे अजब नज़ारे हैं .


            प्रस्तुति :वीरूभाई (वीरेंद्र शर्मा )


             लेवल :गुजरात चुनाव ,  चिदंबरम ,कांग्रेस की हार ,मान मत मान

               
                   

1 टिप्पणी:

madhu singh ने कहा…

दिशा न बदली दशा न बदली ,

हारे छल बल सारे हैं ,

वोटर ने मारे फिर जूते ,

कैसे अजब नज़ारे हैं .