बुधवार, 19 दिसंबर 2012

आरोग्य प्रहरी

आरोग्य प्रहरी

बकरी के दूध से तैयार ब्ल्यू चीज़ न सिर्फ दिल के लिए अच्छा है अपने सोजिश और संक्रमण रोधी गुणों की

वजह से अंतड़ियों के लिए भी मुफीद रहता है .आर्थराइटीस और बुढ़ाने की प्रक्रिया को धीमा करता है .यह कमाल

 है इसमें मौजूद एक नीले हरे फफूंद का ,मोल्ड का जिसे कहा जाता है Penicillium roquefortie.इस

मोल्ड का पेंसिलिन से नजदीकी रिश्ता है तथा यह शरीर में हानिकार जीवाणुओं का मुकाबला  करता है .

इसमें संतृप्त वसा और कोलेस्टिरोल भी कमतर  रहता है गाय के  दूध के बरक्स .

लेकिन विटामिन A ,B ,केल्शियम आयरन और फोस्फोरस जैसे खनिज अपेक्षाकृत ज्यादा मात्रा में रहतें हैं .

सुपाच्य होने की वजह से यह उन लोगों को भी माफिक आता है जो Lactose intolerant हैं.

BLUE CHEESE PROTECTS AGAINST HEART DISEASE

Blue cheese -known for its mould and blue green veins -has anti -inflammatory properties that can

ward off heart diseases .The cheese goes through a process as it ripens that is good for the gut

,slowing arthritis and signs of ageing ,such as cellulite.

Blue cheese might look unusual, but it offers great health benefits. Blue cheese has a blue or blue-green mold running through it called Penicillium roqueforti. Surprised the name sounds like the common antibiotic? The mold is, in fact, related to penicillin and fights harmful bacteria in the body. In addition, blue cheese contains goat's milk rather than cow's milk, which is healthier in several ways. According to the American Dairy Goat Association, goat's milk has less saturated fat and cholesterol but is higher in vitamins A and B, calcium, iron and phosphorus. Consequently, it is easier to digest than cheese made from cow's milk, so it is often a better match for those who are lactose intolerant.

Read more: What Are the Health Benefits of Blue Cheese? | eHow.com http://www.ehow.com/list_6060211_health-benefits-blue-cheese_.html#ixzz2FTJZKCNv



Helps Prevent Diseases









  • Cheese can help prevent breast cancer and other conditions.

    The high calcium content of cheese helps prevent bone loss and migraine

    headaches. Additionally, calcium can reduce premenstrual syndrome symptoms

     during the second half of the menstrual cycle. Calcium also helps prevent blood clotting and

    breast cancer while promoting muscle contraction and regulating blood pressure. A French


    study claims that women who increased their calcium intake experienced a 50 percent
    reduction in breast cancer, and those who were pre-menstrual experienced a 74 percent reduction. One oz. of blue cheese provides 18.3 percent of the minimum daily calcium requirement.

Assists Growth in Girls






  • Healthy bones are essential to growth.

    According to a study in the "American Journal of Clinical Nutrition," young

    females experiencing rapid growth spurts associated with puberty benefit more

    from the calcium in dairy products such as cheese than from calcium supplements. At the conclusion of the study, girls who derived their calcium from cheese had higher "whole-body bone mineral density" and "cortical thickness of the tibia" than those taking calcium supplements. In other words, calcium from cheese better promotes growth and bone strength.


Read more: What Are the Health Benefits of Blue Cheese? | eHow.com http://www.ehow.com/list_6060211_health-benefits-blue-cheese_.html#ixzz2FTJqC66S


(2)पाचन क्षेत्र से विषाक्त पदार्थों (Toxins )को बाहर निकालने के लिए प्रात :एक ग्लास गुनगुने पानी में नींबू

 डालके पियें .

(3)रात को बढ़िया नींद लेने के लिए  एड़ी तथा तलुवों में देशी घी की मालिश  करके सोयें .कोई दूसरा करेगा तो

स्पर्श का सुख भी मिलेगा .बा-शर्ते कोई दिल के इतना करीब हो पैरों को भी हाथ  लगा  सके .

(4) अतिसार होने, दस्त की  शिकायत होने पर दिन भर   में    कम से कम दो बार एक चम्मच चाय की पत्ती

फांकने के बाद  ऊपर  से एक ग्लास ताज़ा पानी पियें .


भारत निर्माण

कैसा भारत निर्माण करना चाहतें हैं हम .शिक्षा सेहत को लेकर हमारे क्या विचार हैं धारणाएं हैं ?कुछ हैं भी या

नहीं .सात सौ सांसद है इस देश में और किसी को नहीं मालूम वह चाहते क्या हैं ?

सिर्फ वोट बैंक ?स्विसबैंक एकाउंट ?खुद अपनी और सिर्फ अपनी वी आई पी सुरक्षा .

दिल्ली के रंगा बिल्ला काण्ड के बाद आज भारत फिर विचलित है .उन्हें तो सातवें दिन फांसी दे दी गई थी .अब

सरकार हर मामले में इतना कहती है क़ानून को अपने हाथ में मत लो  .क़ानून को अपना काम करने दो .तुम

हस्तक्षेप मत करो .क़ानून

अपना काम


 करेगा .

यदि औरतों को आप हिफाज़त नहीं दे सकते तो रात बिरात उनके  बाहर न निकलने का क़ानून बना दो .या फिर

  उन्हें  घर से ले जाने और वापस छोड़ने का जिम्मा उनसे काम लेने वाले लें .शीला

दीक्षित ऐसी हिदायत एक मर्तबा दे भी चुकीं हैं .रात बिरात  घर से बाहर न निकलने की .जब घाव हो जाता है तो

सांसद मरहम तो लगाने आ जातें हैं

लेकिन ये क़ानून बनाने वाले ऐसी व्यवस्था नहीं कर पाते कि घाव ही  न हो .

किसी फिजियो की अंतड़ियां बलात्कारी क्षति ग्रस्त न कर सकें .

इस दरमियान इन्होनें हमारे सांसदों ने एक सामाजिक हस्तक्षेप को ज़रूर समाप्त करवा दिया यह कह कह कर:

किसी को भी कानून अपने हाथ में न लेने दिया जाएगा .

वह जो एक तिब्बत था वह चीन के हमलों से भारत की हिफाज़त करता था .ऐसे ही सामाजिक हस्तक्षेप एक

बफर था .काला मुंह करने वाले शातिर बदमाशों को मुंह काला करके जूते मारते हुए पेशी पे ले जाना चाहिए .जूते

 बहु बेटियों  से ही लगवाने चाहिए शातिर मांस खोरों को .ताकि इन्हें कुछ तो शरम आये .

.आज स्थिति बड़ी विकट है . सवाल बड़े गहरे हैं सामाजिक सरोकारों के औरत को सरे आम कुचलने वाले रफा

दफा

कर दिए जातें हैं कुछ ले देके छूट जाते रहें हैं .

व्यवस्था ने पुलिस को नाकारा बना दिया है अपनी खुद की चौकसी में तैनात  कर रखा है .ज़ेड सेक्युरिटी लिए

बैठें हैं सारे वोट खोर .बेटियाँ ला वारिश बना दी गई हैं  अरक्षित कर दी गईं हैं .खूंखार दरिन्दे छुट्टे घूम रहें हैं .अब

तो इन्हें भेड़िया कहना भेड़िये को अपमानित करना है .हैवानियत में ये सारी हदें पार कर गएँ हैं .

सारी संविधानिक संस्थाएं तोड़ डाली गईं हैं .संसद निस्तेज है .निरुपाय है .उसके पास भारत निर्माण का कोई

कार्यक्रम कोई रूप रेखा नहीं है .सी बी आई का काम सत्ता  पक्ष के इशारे पर माया -मुलायम मुलायम  को

संसद तक घेर   के लाना रह गया है     .

अब तो इस तालाब का पानी बदल दो सब कमल के फूल मुरझाने लगे हैं ,

सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं है ,लेकिन ये सूरत बदलनी चाहिए .


आरोग्य प्रहरी 

(1)हरी मटर की फलियाँ खेत से तोडके खाइये मिल जाएँ तो .इनमें रहता है एक

Carotenoid substance ,Lutein

पता चला है इसका सेवन सफ़ेद मोतिया (Cataract) के खतरे के वजन को कम करता है जिसमें उम्र दराज़ होने

पर आँख का लंस धुंधमय (Foggy)पड़ जाता है .

(2)Oregano is known to relieve menstrual cramps .Chew a few leaves three

times a day for relief.

अरेगनो (ओरिगैनम नाम का पौधा )बोले तो मरुवक पादप एक सुगन्धित पौधे के रूप में जाना जाता है जिसकी

ताज़ा सुखाई हुई पत्तियाँ स्वाद्वार्धक के रूप में पाक कला में प्रयुक्त होतीं हैं .

For centuries, fresh and dried leaves of oregano are commonly used for culinary purpose to add flavor in 

sauces and various food preparations, in many parts of the world like Italian, Mexican, Spanish, Turkish and 

Greek dishes. It has a warm and slightly bitter taste and it is a must ingredient of the Italian pizza sauce.

There are several species of Oregano plants but climate and soil composition has the most important effect 

on the flavor of the aromatic oil contained in the plants' leaves. Dried leaves seam to be more flavorful than green ones.

Oregano leaves and flowering stem has been used as medicinal herb since thousands of years back. You can 

grow Oregano in a container or a flower pot or you can buy Oregano oil from your local health food store.

Oregano oil is an important volatile oil obtained from the plant's leaves and contains precious chemical 

constituents like carvacrol, thymol, limonene, pinene, ocimene, calcium, magnesium, iron, copper, niacin, 

riboflavin and is also rich in vitamins. The plant is a powerful anti-microbial, anti-parasitic, a natural 

antibiotic and antioxidant, stimulant and mild tonic.

(3)Even a tiny stroke can up Alzheimer's risk

Blocking a single blood vessel in the brain can harm neural tissue ,alter behaviour and raise risk of 

Alzheimer's , a new study has claimed ,suggesting that even a tiny stroke can lead to disability .The study was 

published in the journal Nature Neuroscience.

दिमाग में खून जिन नालियों ब्लड वेसिल्स से होकर बहता है उनमें  से किसी एक में भी रुकावट  आजाने से स्नायुविक तंत्र के ऊतक 

क्षति ग्रस्त  हो सकतें हैं .व्यवहार व्यक्ति का असर ग्रस्त हो सकता है आल्जाईमार्स रोग के खतरे का वजन बढ़ सकता है . ब्रेन अटेक 

कितना भी मामूली हो अक्षमता पैदा करने की कूव्वत रखता है .दिल और दिमाग दोनों में खून की नालियां साफ़ सुथरी रहनी चाहिए 

.दिल से ही चलके  पहुंचता है दिमाग तक खून का थक्का .

(4)भला नहीं है स्मूदी (Smoothies)का सेवन मुक्तावली के लिए 

जहां तक दन्तावली का सवाल है चीनी आखिर चीनी ही है खट्टे रसीले फलों के साथ मिलके यह जो पेचीला रसायन रूप प्रस्तुत  करती 

है वह मुक्तावली के लिए भला नहीं है .ताज़े फल ही भले स्मूदी से .

MORE SUGAR IN SMOOTHIES THAN COLA 

Smoothies contain more sugar than a glass of cola (sugary drink),an investigation has revealed .

The fruit drinks are seen as a healthy alternative to fizzy pop but eight out of ten are sweeter than the same 

amount of Coco-Cola .A  company's pineapple, mango and passion fruit smoothi was put to the test and found

 to contain the most sugar -36.75 gm per 250 ml and the equivalent of seven teaspoons-while the same 

amount of Coke contains 26.5 g.

This was true for several drinks .

Dentist Paul Diss added :


"As far as tooth decay is concerned ,sugar is sugar .Combined with an acidic drink made of citrus fruit ,it can 

be particularly damaging to teeth ."

All 52 smoothies tested were higher in calories than 250 ml of Coke ,which has 105 calories.



Oregano-wild marjoram leaves and flowers

Oregano- medicinal uses











 .


2 टिप्‍पणियां:

दिगंबर नासवा ने कहा…

सुना है गांधी जी बकरी का दूध ही पिया करते थे ...
एक ही पोस्ट में विविध जानकारी, आक्रोश ओर समाज सेहत का चिंतन ...
राम राम जी ...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बीमारी के समय बकरी का दूध बड़ा लाभ देता है।