सोमवार, 5 अगस्त 2013

भाषा वर्तनी खाने लगी है। अपभ्रंश से आगे जाने लगी है

कलम की खुश्बू ,विवेक दोनों  गायब हैं - 

भाषा वर्तनी खाने लगी है

 मोबाइल की नै वर्तनी -

व्याकरण भुलाने लगी है।

उच्चारण शाश्त्र को डेनियल जान्स के

तड़पाने लगी है -

शेक्स्पीयर की आत्मा चिल्लाने लगी  है


अंग्रेजी- 

अब हिंगलिश से भी आगे जाने लगी है

स्लेंग्स की अम्मा अपनी खैर मनाने लगी है

भाषा वर्तनी खाने लगी है।

अपभ्रंश से आगे जाने लगी है। 

एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

रविवार, 4 अगस्त 2013


कलम की खुशबू

बहुत समय बाद कुछ लिखना चाहा 

तो कलम की जगह अपना मोबाइल उठाया

ज़िन्दगी की खिटपिट और मोबाइल की पिट पिट से तंग
बस कुछ शब्द ही जोड़ पाया

भौतिकता में उलझी ज़िन्दगी पे खुद से कई सवाल किए
और अपने ही सवालों के आगे खुद को निरुत्तर पाया

मन ढूँढ रहा था कलम की खुशबू 
और कोस रहा था मन ही मन तकनीक को भी

झुँझलाकर मैंने तैयारी कर ली सोने की
मोबाइल को लगाया साइलेंट मोड पर

पर ये मन लगा रहा अपने उधेड़बुन में
कि आखिर कलम की वो खुशबू कहाँ गयी ?

6 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर ।।

Anita ने कहा…

तकनीक कुछ देती है तो बहुत कुछ छीन भी लेती है..

Rajeev Ranjan Giri ने कहा…

सुंदर प्रतिक्रिया ...धन्यवाद।

ताऊ रामपुरिया ने कहा…

बहुत ही लाजवाब और सटीक.

रामराम.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सच कहा है, कलम बहुत कम उपयोग में आती है अब।

आशा जोगळेकर ने कहा…

दोनों प्रस्तुति सुंदर भाषा सचमुच अपना रूप ही खोने लगी है । और कलम ...हमारे जैसे पुराने लोग फिर भी इस्तेमाल कर लेते हैं ।