मंगलवार, 7 जून 2011

दोहे :मध्य रात पीटने लगे ,बाल वृद्ध लाचार .

"दोहे "
बाबा को पहना दीनि ,कल जिसने सलवार ,
अब तो बनने से रही ,वह काफिर सरकार ।
मध्य रात पिटने लगे ,बाल वृद्ध लाचार
मोहर लगी थी हाथ, पे हाथ करे अब वार ।
है कैसा ये लोकमत ,है कैसी सरकार ,
चोर उचक्के सब हुए, घर के पहरे दार ।
और जोर से बोल लो, उनकी जय जयकार ,
सरे आम लुटने लगे ,इज्ज़त कौम परिवार,
संसद में होने लगा ,ये कैसा व्यापार ,
आंधी में उड़ने लगे ,नोटों के अम्बार
जब से पीजा पाश्ता ,हुए मूल आहार ,
इटली से चलने लगा , सारा कारोबार ।
(ज़ारी ...)

3 टिप्‍पणियां:

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

जो हुआ सच में अफसोसजनक है..... सटीक दोहे

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

गहरी चोट की है आपने।

---------
बाबूजी, न लो इतने मज़े...
चलते-चलते बात कहे वह खरी-खरी।

Anuraag ने कहा…

सेनापति जिसका दिग्विजय और राहूल राजकुमार,
सरेआम हैं कर रहे खुद का बंटाधार