रविवार, 27 मई 2012

ईस्वी सन ३३ ,३ अप्रेल को लटकाया गया था ईसा मसीह को सूली पर

ईस्वी सन ३३ ,३ अप्रेल को लटकाया गया था ईसा मसीह को सूली पर 

Quake study says Jesus was crucified on April 3,33 AD/TIMES TRENDS/THE TIMES OF INDIA ,MUMBAI ,MAY 26,2012,P19

मृत  सागर(Dead sea ) से बावस्ता भूकंपीय सक्रियता से जुड़े  एक अध्ययन के अनुसार  उस घडी पल छिन तारीक का ठीक ठीक पता चल गया है जिस दिन ईसा मसीह को सूली पर लटकाया गया था .रिसर्चरों के अनुसार वह शुक्रवार का दिन था तारीक थी अप्रेल तीन ईस्वी सन ३३ .बाइबिल  के नए संस्करण न्यू टेस्टामेंट में भी इसी तिथि का उल्लेख है .


डिस्कवरी न्यूज़ चैनल के अनुसार विशाल और विश्वाश्नीय भू -गर्भीय आंकड़ों के अलावा इस आशय के लिखित दस्तावेज़ी साक्ष्य भी मौजूद हैं .

इस निष्कर्ष पर पहुँचने से पूर्व भू -वेत्ताओं ने भूकम्पों की  एक ४,००० साला कालानुक्रम में पड़ताल की है .यह पड़ताल मृत सागर के सबसे ऊपरी (19 feet )परतदार (पतली तहों वाले ,स्तरित ,laminated sediments)अवसादों की की गई है .

नवीनतर अध्ययन ने अपना पूरा ध्यान यरूशलम से कुल १३ मील की दूरी पर मृत सागर की भू -कम्पीय हलचलों पर केन्द्रित रखा है .इस पड़ताल में भू -विज्ञानों के जर्मन शोध केंद्र के साइंसदानों ने शिरकत की है .
इस एवज मृत सागर के नजदीकी तट बंध     Ein Gedi Spa  पर  साइंसदानों  ने  डेरा  डाले   रखा  है  . 

Supersonic geophysical  के नाम चीन भू -शाष्त्री जेफरसन विलियम्स भी इस अभियान में शरीक रहें हैं . 

भू -विज्ञान के छात्र जानतें हैं अवसादों  मे हर साल कुछ परतें पड़ जातीं हैं जिन्हें Varves कहा जाता है .कुल मिलाकर तीन केन्द्रीय भागों (Cores)पर नजर रखी गई है . 

इस  क्षेत्र  में  आये  भूकम्पों  में  से  कमसे  कम  दो  ने पृथ्वी के केन्द्रीय भाग क्रोड़(आंतरक ,अभ्यंतर या कोर )को असर ग्रस्त किया था .इनमे से एक शक्तिशाली भू -कंप (जलजला )ईसा के जन्म से भी २६ वर्ष पूर्व तथा दूसरा जन्म के  २६ -३६ वर्ष बाद आया था .

The latter period occured during "the years when Pontus Pilate was procuretaor of Judea and when the earthquake of the Gospel of Matthew is historically constrained ,"said Williams .

आप  जानतें  हैं  बाइबिल  की ऐसी चार पुस्तकें हैं जिनमे से एक में ईसा के जीवन और उनकी शिक्षाओं का बखान किया गया है .यही इसोपदेश है .गास्पल  है .इन्हीं में से एक किताब का नाम मेथ्यु(Gospel of Matthew) था .

प्राचीन रोम में एक कानूनी और आर्थिक शक्ति संपन्न एक प्राधिकारी (प्रशाशक ,प्रबंधक )होता था जिसे प्रोक्युरेटर कहा जाता था . 

गुड  फ्राइडे  (Good friday)

विलियम आश्वश्त है उस विधायक तिथि और दिन के बारे  में जब ईसामसीह को सूली पर लटकाया गया .कीलित किया गया क्रोस पर .अलबत्ता ईस्वी सन (उस विधायक बरस )  को लेकर सवाल रहे आयें हैं .

दस्तावेज़ी संकेत 

विज्ञान पत्रिका नेचर में Colin Humphreys और उनके साथी Graeme Waddington का एक शोध पत्र इस बाबत छपा था .विलियम्स उसका भी हवाला देतें हैं .इसमें भी इस और इसी  विधायक तिथि का ज़िक्र  है .   

खगोलीय गणनाओं से भी यही तिथि पुष्ट होती है तथा यहूदियों का केलेंडर भी इसकी गवाही देता है .सर्वाधिक शुद्ध साल ईस्वी सन ३३ ही आता है .अलबत्ता ३ अप्रेल की तारीक को लेकर तो वैसे ही मतैक्य रहा है .

12 टिप्‍पणियां:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

नई जानकारी

Sanju ने कहा…

Very nice post.....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.

आचार्य परशुराम राय ने कहा…

बहुत ही अथेंटिक जानकारी आपने दी है।

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

क्या बात है!!
आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 28-05-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-893 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

अत्यन्त रोचक जानकारी..

Ayodhya Prasad ने कहा…

महत्वपूर्ण जानकारी देने के लिये आभार ..

डॉ टी एस दराल ने कहा…

नई बात पता चली । उस समय ईसा की उम्र कितनी रही होगी ?

dheerendra ने कहा…

मेरे लिये नई जानकारी,,,,रोचक प्रस्तुति,,,के लिये आभार,,,,,,

RECENT POST ,,,,, काव्यान्जलि ,,,,, जिस्म महक ले आ,,,,,

SM ने कहा…

रोचक प्रस्तुति

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

नई जानकारी देने के लिये आभार.

Sawai Singh Rajpurohit ने कहा…

दूसरा ब्रम्हाजी मंदिर आसोतरा में जिला बाडमेर राजस्थान में बना हुआ है!.....
पढ़े इस लिक पर

दिगम्बर नासवा ने कहा…

नई और महत्वपूर्ण जानकारी ... इसा के बारे में खोजी खबर ...
राम राम जी ...