रविवार, 22 अप्रैल 2012

कोणार्क सम्पूर्ण चिकित्सा तंत्र -- भाग तीन


कोणार्क सम्पूर्ण चिकित्सा तंत्र -- भाग तीन

डॉ. दाराल और शेखर जी के बीच का संवाद बड़ा ही रोचक बन पड़ा है, अतः मुझे यही उचित लगा कि इस संवाद श्रंखला को भाग --तीन के रूप में " ज्यों की त्यों धरी दीन्हीं चदरिया " वाले अंदाज़ में प्रस्तुत  कर दू जिससे अन्य गुणी जन भी लाभान्वित हो सकेंगे |

वीरेंद्र शर्मा
~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*
डॉ टी एस दराल ने कहा
seems to be unrealistic.
18 अप्रैल 2012 5:05 am
THE HEALER ने कहा

Dr. T.S. Daral,

 " seems to be unrealistic." 

Thanks for being skeptical... 

I would have commented the same as yours, had I been one of the readers, like you.

But I would appreciate more if you could be more specific in your skeptical areas...

I don't say that I would convince you but surely I would try my best to be most honest, realistic and factual also, as well.

Thanks again for your interest shown.

Regards,
SHEKHAR GEMINI
18 अप्रैल 2012 8:26 am
ब्लॉगर डॉ टी एस दराल ने कहा
वीरुभाई जी , इस विषय में तर्क वितर्क में पड़ना शायद उचित नहीं होगा . हमारा देश ही श्रद्धा , विश्वास और भक्ति भावना पर चल रहा है . लेकिन फेथ हीलिंग में हम तो विश्वास नहीं कर सकते . यहाँ बताये गए रोगों के तीन कारण तो सही हैं . लेकिन अनुवांशिक / जेनेटिक defects को कैसे सही किया जा सकता है , यह मेरी समझ से बाहर है . 
संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल ज़रूरी है वर्ना यह लाइफ threatning हो सकता है . ऐसी स्थिति में किसी को यह सलाह नहीं दी जा सकती की वह कोई विकल्प का सहारा ले . 

लाईफ स्टाईल मोडिफिकेशन तो सबके लिए ज़रूरी है . लेकिन यह बस स्वस्थ रहने में सहायक होता है , उपचार नहीं . बताये गए अधिकतर रोगों को कंट्रोल तो किया जा सकता है लेकिन उल्मूलन नहीं . कुछ रोग सेल्फ लिमिटिंग होते हैं , कुछ सायकोलोजिकल , कुछ खाली मन का वहम . 
अंत में यही कह सकता हूँ --गुड़ ना दे , गुड़ जैसी बात तो करे . लेकिन अफ़सोस स्वास्थ्य के मामले में यह कहावत फिट नहीं बैठती . 
पता नहीं ये पोस्ट आपने क्यों लिखी ! 
कृपया अन्यथा न लें . न ही शेखर जी से कोई शिकायत है .
20 अप्रैल 2012 11:09 pm
 हटाएं
SHEKHAR GEMINI ने कहा…

डॉ टी एस दराल क़ी सेवा में प्रस्तुत सादर
प्रतिवेदन :

n  इस विषय में तर्क वितर्क में पड़ना शायद उचित नहीं होगा हमारा देश ही श्रद्धा, विश्वास और भक्ति भावना पर चल रहा है. लेकिन फेथ हीलिंग में हम तो विश्वास नहीं कर सकते.” 

è  बिलकुल सही कहा जनाब ने... ' फेथहीलिंग ' या ' प्लेसिबो इफेक्ट ' को चिकित्सा  पद्धति का दर्ज़ा   नहीं दिया जा सकता... हाँ, ये मरीज़ की  हौसला-अफ़ज़ाई के लिए अच्छे हैं |

n  लेकिन अनुवांशिक / जेनेटिक defects को कैसे सही किया जा सकता है, यह मेरी समझ से बाहर है.

è  हुज़ूर को याद दिला दूँ कि आज जेनेटिक्स पर सर्वाधिक शोध-कार्य चल रहा है और जेनेटिक-कोड के साथ ख़ासी छेड़खानी भी क़ी जा रही है | इस नाचीज़ ने भी इस दिशा में कुछ ठोस उपलब्धि हासिल कर ली है, इसमें आपत्ति-जनक क्या है...?

क्या समस्त शोध-कार्य अमेरिका व पश्चिमी जगत पर जाकर समाप्त हो जाते हैं..?

ऐसा क्यूँ है कि हमारी खोजों पर संदेह करने का अधिकार सिर्फ़ पश्चिमी देशों को या उन जैसी सोच  रखने वाले  अन्य लोगों को तो है, लेकिन  नयी खोज व शोध के नाम पर जो कुछ भी ( चाहे वो कचरा ही क्यूँ न हो ) पश्चिम से आता है, उसे हम बिना किसी संदेह के, बिना  skeptical  हुए सर-माथे से लगा लेते हैं |

और साथ ही स्थानीय शोध-कार्य को सिरे से ही नकारने क़ी पूरी कोशिश करते हैं, उसे अपनी बात वैज्ञानिक आधार पर प्रमाणित करने की भी सुविधा देने में ख़ासी कंजूसी  बरतते  हैं |

n  संक्रमण के लिए एंटीबायोटिक्स का इस्तेमाल ज़रूरी है वर्ना यह लाइफ threatening हो सकता है. ऐसी स्थिति में किसी को यह सलाह नहीं दी जा सकती कि वह कोई विकल्प का सहारा ले. 

è  और जहाँ एंटीबायोटिक्स भी किसी संक्रमण को काबू करने में आंशिक या पूर्णतः नाकामयाब रहे तो ? तो  क्या वहाँ भी " किसी को यह सलाह नहीं दी जा सकती कि वह कोई विकल्प का सहारा ले.” ...???

ऐसे एक नहीं, हज़ारों उदहारण दिए जा सकते हैं, जहाँ एंटीबायोटिक्स कई एक संक्रमणों  पर पूरी तरह से नाकामयाब रही है अथवा उसके कारण हुईं प्रतिक्रियाएं व पार्श्व प्रभावों ने मरीज़ के स्वास्थ्य पर बुरी तरह से नकारात्मक असर डाला है |

तो क्या ऐसी अवस्था में भी हमें ऐलोपथी या उसकी तथाकथित जीवन-रक्षक ( अथवा स्वास्थ्य - भक्षक...???) दवाओं की अंध-भक्ति करनी चाहिए...?

n  लाईफ स्टाईल मोडिफिकेशन तो सबके लिए ज़रूरी है . लेकिन यह बस स्वस्थ रहने में सहायक होता है , उपचार नहीं.”

è  बज़ा फ़रमाया..!

n  बताये गए अधिकतर रोगों को कंट्रोल तो किया जा सकता है लेकिन उल्मूलन नहीं.

è  सिर्फ़ ऐलोपथिक नज़रिए  से.. और ऐलोपथिक नज़रिया चिकित्सा जगत में न पहला है और न ही अंतिम... हाँ लोगों को इसके सम्मोहन  जाल  तथा ' एकमात्र जीवन रक्षक औषधि ' वाले दृष्टिकोण से बाहर आकर भी देखने क़ी ज़रुरत है |

n  कुछ रोग सेल्फ लिमिटिंग होते हैं , कुछ सायकोलोजिकल , कुछ खाली मन का वहम .
अंत में यही कह सकता हूँ --गुड़ ना दे , गुड़ जैसी बात तो करे . लेकिन अफ़सोस स्वास्थ्य के मामले में यह कहावत फिट नहीं बैठती.

è  रोग की इन तीनों ही अवस्थाओं में " --गुड़ ना दे , गुड़ जैसी बात तो करे.." वाली कहावत बहुत  हद तक कारगर सिद्ध हुयी है |

हाँ, स्वास्थ्य ( या बीमारियों के..? ) के बाकी मामलों में सिर्फ़ गुड़ वाली बात से काम नहीं  चल सकतासमुचित दवाओं का सेवन तथा पथ्य एवं उचित परिचर्या परमावश्यक हो जाती  है |

n  पता नहीं ये पोस्ट आपने क्यों लिखी ! “

è  लेख-लिखी को वीरुभाई जानें ..!!!

n  कृपया अन्यथा न लें . न ही शेखर जी से कोई शिकायत है.”

è  अंत में, आप से भी ( और आप सब विज्ञ जनों से से भी )  गुज़ारिश है कि मेरे प्रतिवेदन को कृपया अन्यथा न लें  और न ही इसे किसी भी अर्थ मेंमेरी तरफ से किसी के भी प्रति, किसी भी प्रकार की शिकायत समझा जाए...!

शेखर जेमिनी के प्रणाम 









18 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

बेहद रोचक चर्चा।
हम अपने जीवन में भी देखते हैं, कई बार चमत्कार ही हमें बचा लेता है। इसलिए किसी अल्टरनेट थेरापी से परहेज क्यों?

रविकर फैजाबादी ने कहा…

श्रम साध्य कार्य ।

आभार वीरू भाई ।।

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

बहुत सुन्दर वाह!
आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 23-04-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-851 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

इसे पढ़कर चिकित्सा के बारे मे कुछ समझें या न समझें लेकिन एक सबक तो लिया ही जा सकता है कि असहमति पर आपस में संवाद कैसे हो ! जहां नकारते वक्त विनम्र रहना चाहिए वहीं आलोचना पढ़कर, शांत हो, अपनी बात रखनी चाहिए।

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
डॉ टी एस दराल ने कहा…

लगता है , इस विषय पर बहुत रोचक और महत्त्वपूर्ण चर्चा होने वाली है । लेकिन अभी तो इतना ही कि दुनिया में चमत्कार कोई नहीं होते । चमत्कार तभी तक होता है जब तक हम जड़ तक नहीं पहुँच जाते ।
बाकि चर्चा दिन में करेंगे ।

डॉ टी एस दराल ने कहा…

वीरुभाई जी , इस विषय पर बहुत दिनों से एक पोस्ट लिखने की सोच रहा था . इस पोस्ट पर अन्य ब्लोगर्स के विचार जानकर ही कुछ कहना चाहूँगा ताकि पता चले की हमारे नॉन मेडिकल मित्र इस बारे में क्या सोचते हैं .

veerubhai ने कहा…

सर्वथा अप्रत्याशित और चमत्कार पूर्ण घटनाएं भी घटतीं हैं .जिस मरीज़ की बचने की कोई उम्मीद नहीं होती ,प्रोग्नोसिस बहुत पूअर होती है उसे भी बचाने की भरसक कोशिश की जाती है इसी उम्मीद में कि चिकित्सा क्षेत्र में भी चमत्कार होतें हैं .चिकित्सा नीतिशाश्त्र का यह हिस्सा है .आखिर तक जी जान से कोशिश की जाती है ज़िन्दगी को बचाने की .

आदमी आस का पल्लू नहीं छोड़ता .आस छोड़ जाती है आदमी को निस्संग .टर्मिनल केसिज में यही होता है लेकिन इन मामलों में भी जीवन को बचाया जा सका है बारहा .इसी मोड़ पर आदमी रुख करता है वैकल्पिक चिकित्सा का .जब दवा से भी बढ़के दुआ हो जाती है इसलिए मानो न मानो चमत्कार तो होते हैं .

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

बहुत बढ़िया परिचर्चा को खूबसूरती के साथ पेश किया है आपने!...कोणार्क चिकित्सा पद्धति पर इतनी विस्तृत जानकारी यहीं उपलब्ध हुई है!...आभार!

SM ने कहा…

excellent debate

veerubhai ने कहा…

लेकिन विमर्श यहाँ 'सम्पूर्ण चिकित्सा '/लोक चिकित्सा पर हो रहा है .चमत्कार पर नहीं .कहीं विषयांतर तो नहीं हो रहा है ?

Arvind Mishra ने कहा…

आज पूरी दुनिया में वैकल्पिक चिकत्सा पद्धतियों के पक्ष में एक माहौल बन रहा है ...कारण ऐलोपैथी के आनुषांगिक प्रभाव या कुछ बीमारियों में उसकी कारगरता जाहिर न हो पाने के कारण ..
आयुर्वेद और दीगर चिकित्सा पद्धतियों की अपनी खूबी तो है -हाँ उनकी क्रिया पद्धति क्या है उस पर अनुसंधान जरुरी है -उन्हें एक सिरे से नकारना वैज्ञानिक पद्धति के विपरीत होगा .....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

स्वस्थ और रोचक चर्चा ... दो डाक्टर और विषय के जानकारों के बीच का संवाद कितना दिलचस्प हो जाता है ... खास कर जब सामान्य भाषा में वार्तालाप हो रहा हो ...
अच्छा लगा जी ... राम राम जी ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

अरे वाह टिप्पणियों से भी पोल्ट तैयार कर ली!
बहुत उम्दा और सार्थक प्रस्तुति!

Kailash Sharma ने कहा…

अपने विषय के दो विशेषज्ञों द्वारा बहुत स्वस्थ और रोचक चर्चा..

सतीश सक्सेना ने कहा…


डॉ दराल के प्रति श्रद्धा के साथ साथ कुछ निवेदन करना चाहता हूँ....

वैकल्पिक चिकित्सा को एक साथ ख़ारिज करना उचित नहीं है...

विश्व में पुरातनकाल से,अन्य चिकित्सा सिस्टम कामयाब होते रहे हैं, वह और बात है कि एलोपैथिक चिकित्सा में प्रगति बहुत तेजी से हुई और अन्य जगह न केवल शोध कार्य बेहद कम हुआ बल्कि इस लाइन में अनपढ़ और लुटेरे भी थैला लेकर बाज़ार में आ गए !

इन थैला डाक्टरों ने आम पब्लिक का बहुत नुकसान किया है ...

मगर विश्व के सुदूर क्षेत्रों में जहाँ एलोपैथी पंहुच ही नहीं पायी वहां इलाज़ कारगर कैसे हुआ है....

आज भी जिन कष्टों का अलोपैथी में इलाज़ नहीं है उन्हें वैकल्पिक चिकित्सा सिस्टम से अक्सर आराम मुक्त होते देखा जा सकता है !

अगर आजमाइश करना हो तो मैं हाज़िर हूँ ??

राम राम ...

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

एक स्‍वस्‍थ और सार्थक चर्चा।

सतीश सक्सेना ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.