शुक्रवार, 28 सितंबर 2012

"डिश"के लक्षण मिलने पर आप कहाँ जाइएगा मेडिकल हेल्प के लिए ?

     "डिश"के लक्षण मिलने पर आप कहाँ जाइएगा मेडिकल हेल्प के लिए ? 

(चौथी किश्त )

   ज़ाहिर है सबसे पहले आप अपने पारिवारिक डॉ .या फिजिशियन /काया चिकित्सक के पास ही जाइएगा .आरम्भिक मूल्यांकन और अपने अनुभव के आधार पर वह आपको रेफर कर सकतें हैं :

(१)Rheumatologist:संधिवात या गठिया रोगों का माहिर 

(2)Physiatrist :भौतिक चिकित्सा का माहिर ,फिजियो 

(3)Orthopedic surgeon:विकलांग चिकित्सा ,अस्थियों या मांसपेशियों की क्षति /चोट और सम्बन्धी रोगों की चिकित्सा .

(4)Neurologist: स्नायु रोग -विशेषज्ञ,स्नायु /तंत्रिका विज्ञानी को दिखाने के लिए  

घर से क्या -क्या तैयारी करके जाइयेगा ,डॉ .के पास वक्त कम रहता है और बहुत सी बातें आप ज़बानी बताते समय भूल भी सकतें हैं .इसलिए -

(१)लिख लीजिएगा कौन -कौन से लक्षण कबसे सिर उठाए हुएँ हैं . 

(२)यदि किसी और बीमारी का इलाज़ पहले से ज़ारी है तो कौन कौन सी दवाएं ,विटामिन ,सम्पूरण आप कब से ले रहें हैं लिखके ले जाइए .

(३)असर ग्रस्त हिस्से को पहुँचने वाली संभावित चोट के बारे में भी याद कीजिए .लिख लीजिए अपना अनुमान .और संभावित वजहें .आप 

(४)  आप की जो भी जिज्ञासाएं हों ,लिख ले जाइए .

(५)इससे अधिक से अधिक जानकारी आप कमसे कम समय में अपने डॉ .को दे सकेंगें .

(६)डिश के बारे में अकसर लोग ये सवाल पूछ्तें हैं ,आप भी पूछ सकतें हैं ,जो आप पे लागू होतें हों .

(अ )मेरे इन प्रगटित लक्षणों  की सर्वाधिक संभावित वजह क्या हो सकती है ?

(आ )क्या इसके अलावा कुछ और भी वजहें हो सकतीं हैं डिश की चपेट में आने की ?

(इ)कौन कौन से परीक्षण मुझे करवाने चाहिए ?

(ई )What  treatment approach do you recommend ?

(उ )खुद अपने स्तर पर मैं क्या कर सकता /सकतीं हूँ ?रोग प्रबंधन और केयर में ?

(ऊ )क्या मुझे अपनी कुछ गतिविधियाँ बंद करनी चाहिए ?

(ए)कितने अंतर से मेरा आपके पास पुनर -आकलन के लिए आना ज़रूरी रहेगा ?

(ऐ) इलाज़ की इस रणनीति के कामयाब न रहने पर अगला कदम आप का क्या होगा ?

(ओ )मेरे साथ फिलवक्त ये ये बीमारियाँ और चस्पां हैं ,मेरे लिए इन सबके प्रबंधन के लिए सर्वोत्तम रणनीति क्या रहेगी ?

(औ )क्या मेरी बीमारी के बारे में आपके पास कुछ ब्रोशर्स हैं ?कोई ख़ास वेब साइटें ?

(अं)इस बातचीत के दरमियान जो बात डॉ .की समझ में न आये बे -झिझक हो पूछिए .

आपका माहिर भी आपसे बहुत कुछ पूछ सकता है .मसलन कबसे ये लक्षण  आप देख रहें हैं .क्या ये पहले से उग्र और बदतर हुए  हैं समय बीतने के साथ ?क्या आपको सुबह के वक्त ज्यादा तकलीफ होती है ?क्या असर ग्रस्त जोड़ के संचालन में आपको दिक्कत आ रही है ?खाद्य और पेय निगलने में तो दिक्कत नहीं है ?

किस चीज़ से आपको फायदा मिलता महसूस होता है ?

किसी और मेडिकल कंडीशन की रोग निदानिक पुष्टि हुई है ?

फिल वक्त आप नुसखे और बिना नुसखे से मिलने वाली कौन कौन सी दवाएं ,विटामिन संपूरक ले रहें हैं ?

कील मुंहासों या फिर चमड़ी के अन्य रोगों के लिए तो आप दीर्घावधी से चिकित्सा तो नहीं लेते रहें हैं .

Have you ever had an accident or injury that might have caused the trauma to the affected area.?

डॉ .के पास पहुँचने से पहले अपोइन्टमेंट से पहले यदि तकलीफ चल रही है तब आप माहिरों  के अनुसार निम्न उपाय अपना सकतें हैं .

(१)हीटिंग और कूलिंग पैड्स का स्तेमाल कर सकतें है
(२) बिना नुसखे के मिलने वाली दर्द नाशक दवाओं का इस्तेमाल कर सकतें हैं .मसलन Acetamenophen ,tylenol ,या नॉन इस्टीरोइदल एंटी-इन्फ्ले -मेट्री ड्रग्स (NSAIDS )मसलन इबु -प्रोफेन ,Advil ,Motrin ,आदि ),Naproxen (Alve,others )भी  काम कर सकतीं हैं 

But in any case avoid NSAIDS if you have a history of allergy to these medications or a history of gastrointestinal bleeding..  

4 टिप्‍पणियां:

Manu Tyagi ने कहा…

नगीने छुपे पडे हैं खानो में

mahendra verma ने कहा…

अनमोल जानकारी।
इस श्रृंखला को मैं एक फाइल में सहेज रहा हूं।
क्या इसके इलाज में योग और व्यायाम सहायक हो सकते हैं ?
आभार।

Amrita Tanmay ने कहा…

बड़े काम की जानकारी..आभार..

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक, एक नया क्षेत्र, मेरे लिये।