सोमवार, 19 सितंबर 2011

मौलाना साहब की टोपी मोदी के सिर .

मौलाना साहब की टोपी मोदी के सिर .

एक मौलाना साहब पहुंचे मोदी के उपवास स्थल .पहनानी चाही नरेंद्र दामोदर मोदी साहब को अपनी टोपी .मोदी साहब ने आदर जतलाए हुए हाथ जोड़ दिए .कहा आपका सिर बुलंद रहे हौसले बुलंद रहे . मौलाना साहब ने मोदी साहब को यह सुनकर अपनी शाल ओढा दी ।
कोंग्रेसी भड़क गए कहने लगे मोदी धर्मांध हैं ,मोदी और इनका गुजरात साम्प्रदायिकता फैलातें हैं ,एक मुसलमान की टोपी का अपमान कर दिया .अगरचे मोदी साहब टोपी पहन लेते तो यही राशिद अल्वी ,रसीद एहमद सरीखे कहते -मौलाना साहब की टोपी छीन ली .एक मुसलमान का अपमान कर दिया .कोंग्रेस का इतना पतन सारी बातें राष्ट्र विरोधी करें .राष्ट्र नीति की जगह वोट नीति .यही है भारतीय राष्ट्रीय कोंग्रेस का आज का सेक्युलर चेहरा .धर्म -निरपेक्ष मुखौटा ।
मोदी ,मौलाना ,मुसलमान की टोपी ,कोंग्रेसी सेक्युलर .

15 टिप्‍पणियां:

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

टोपी को टोपी ही क्यों नहीं रहने देते हैं लोग...

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

ढूढ़ने की नज़र चाहिये।

मनोज कुमार ने कहा…

सब जनता को टोपी पहनाने की राजनीति है।

Dr Varsha Singh ने कहा…

नायाब आलेख....

Patali-The-Village ने कहा…

जबरदस्त लेख| धन्यवाद|

रविकर ने कहा…

मोदी टोपी पहनते, क्या खो जाता तोर ??
सेक्युलर का काला हृदय, खिट-पिट करता और |

खिट-पिट करता और, उतरती उनकी टोपी |
वोट बैंक की नीत, बघेला बेहद कोपी |

कटते हिन्दू वोट, देख कर हरकत भोंदी |
घंटा पाते और, समर्थक मुस्लिम मोदी ||

रविकर ने कहा…

कट्टर हिन्दू-मुसल्मा, हैं औरन से नीक |
इंसानियत उसूल है, नहीं छोड़ते लीक |

नहीं छोड़ते लीक, नहीं थाली के बैगन |
लुढ़क गए उस ओर, जिधर जो जमते जन-गन |

मोदी तुझे सलाम, कहीं न तेरा टक्कर |
मूरत अस्वीकार, करे मुस्लिम भी कट्टर ||

यादें ने कहा…

वीरुभाई- गर्व से कहो "हम वोट की राजनीति नही करते,न हम कटू आलोचना पे ध्यान धरते"
राम-राम !
शुभकामनाएँ!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

सही कहा है ... अब तो वो मौलाना साहब भी राजनीति करने आ गए ... मंच पर उन्हें भी बुरा नहीं लगा था ...

रेखा ने कहा…

सब मिलकर जनता को टोपी पहना रहे हैं ......

डॉ टी एस दराल ने कहा…

राजनीति में राजनीति नहीं होगी तो और क्या होगा !

रविकर ने कहा…

पहन मुक़द्दस टोपियाँ, बड़ी-बड़ी सरकार |
लालू शरद मुलायमी, काँग्रेस - आधार |

काँग्रेस - आधार , पहन कर टोपी सुन्दर |
बेडा अपना पार, करें ये मस्त कलन्दर |

पर मौलाना सोच, बड़े ये भारी सरकस |
कितना की उपकार, टोपियाँ पहन मुक़द्दस |

डॅा वेदप्रकाश श्योराण ने कहा…

सर आपने कांग्रेस को टोपी पहना दी

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

यह सिर सिर्फ आर.एस.एस. की टोपी के लिए डिजाइन किया गया है। :))
------
मायावी मामा?
रूमानी जज्‍बों का सागर..

संजय भास्कर ने कहा…

सही कहा है सब मिलकर जनता को टोपी पहना रहे हैं