मंगलवार, 13 सितंबर 2011

अफवाह फैलाना नहीं है वकील का काम .

अफवाह फैलाना नहीं है वकील का काम .

राम जेठ मलानी के मवक्कल (मुवक्किल )श्री अमर सिंह न तो गूंगे हैं ओर न ही अपढ़ ,लिख सकतें हैं फिर राम -जेठमलानी एक सामान्य वक्तव्य क्यों दे रहें हैं ?
वकील का काम सामान्य वक्तव्य देना नहीं है ओर न ही अफवाह फैलाना .अपने मुवक्किल के मुंह से कहलवाएं जो भी कहना चाह रहें हैं या अगर वह गूंगा है तो उसका लिखा दिखाएँ ।
अमर सिंह जी बतलाएं 'सांसदों की खरीद फरोख्त के लिए उन्हें पैसा किसने दिया ',उनकी जान सारे राष्ट्र को प्यारी हो जायेगी .राम जेठ मालानी भी अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप सबसे ऊपरले पायेदान पर पहुँच जायेंगें जन प्रियता ओर राष्ट्र प्रियता के ।
अमर सिंह जी के सीरम क्रितेनाइन लेविल के खतरनाक स्तर तक बढ़ने की इत्त्ल्ला ओर इस बिना पर उन्हें ज़मानत देने की पेशकश यदि वह एक व्यक्ति के रूप में कर रहें हैं तो इसका स्वागत होना चाहिए लेकिन अगर वह ऐसा एक वकील के नाते कर रहें हैं तो अपने मुवक्किल से सच कहलवाएं -भाई !अमर सिंह जी आप तो लाभार्थि नहीं हैं ,लाभार्थि कोई ओर है आप कृपया बतलाएं आपको ये पैसा किसने दिया था .इस राष्ट्र की आप बड़ी सेवा करेंगें यह सच बोलके ,यह किस्मत ने आपको एक विधाई क्षण दिया है ,राष्ट्र सेवा का ,अपनी जान बचाने का .

8 टिप्‍पणियां:

दिगम्बर नासवा ने कहा…

काजल के कमरे में सब काले ...
देह प्रेम जागृत होने की लिए या करने के लिए इन्हें कुछ दिया जाय तो ये मुंह खोलेंगे ...

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

सही कहा

रेखा ने कहा…

सच बाहर आ जाए तो सबके लिए अच्छा ही रहेगा ......

रविकर ने कहा…

आप कृपया बतलाएं आपको ये पैसा किसने दिया था,
इस राष्ट्र की आप बड़ी सेवा करेंगें यह सच बोलके ||

सही कहा ||

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सही कह रहे हैं वीरुभाई ।

डॅा वेदप्रकाश श्योराण ने कहा…

sahi kha aapne sir

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सच सबके सामने आना चाहिये।

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

बहुत अच्छा मुद्दा उठाया आपने.......