शनिवार, 20 अगस्त 2011

कुर्सी के लिए किसी की भी बली ले सकती है सरकार ....

स्टेंडिंग कमेटी में चारा खोर लालू और संसद में पैसा बंटवाने के आरोपी गुब्बारे नुमा चेहरे वाले अमर सिंह को लाकर सरकार ने अपनी मनसा साफ़ कर दी है ,सरकार जन लोकपाल बिल नहीं लायेगी .छल बल से बन्दूक इन दो मूढ़ -धन्य लोगों के कंधे पर रखकर गोली चलायेगी .सेंकडों हज़ारों लोगों की बलि ले सकती है यह सरकार मन मोहनिया ,सोनियावी ,अपनी कुर्सी बचाने की खातिर ,अन्ना मारे जायेंगे सब ।
क्योंकि इन दिनों -
"राष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,महाराष्ट्र की साँसे अन्ना जी ,
मनमोहन दिल हाथ पे रख्खो ,आपकी साँसे अन्नाजी .

9 टिप्‍पणियां:

यादें ने कहा…

वीरू भाई राम-राम !
मोर्चा खुला रखें ! बलि के लिए ...लालू और अमर जैसे पले-पलाये बकरे और कहाँ मिलेंगें ...

अपना तो बस एक ही नारा
अन्ना! झंडा ऊँचा रहे तुम्हारा
कर ले चाहे कोई जितने जत्त्न
होगा न बाल भी बांका तुम्हारा ||

Bhushan ने कहा…

आपकी सशक्त भावना सराहनीय है. मेरी पोस्ट पर आपकी असहमति को मैं महत्व देता हूँ.

मनोज कुमार ने कहा…

आपकी पोस्ट हक़ीक़त बयान करती है।

mahendra verma ने कहा…

छोटी किंतु दमदार प्रस्तुति।
गुब्बारे नुमा चेहरा, मूढ़-धन्य, वाह, तीखे तीर बरसाए हैं आपने।

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

देश को भी सुखद भविष्य जीने का अधिकार है।

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

Ekdam Sach aur Sateek....

सतीश सक्सेना ने कहा…

शुभकामनायें देश के लिए !

दिगम्बर नासवा ने कहा…

कडुवा सच .... सत्य बयान किया है ...

डॉ टी एस दराल ने कहा…

देखते हैं , आगे क्या होता है ।