रविवार, 19 अगस्त 2012

मीग्रैन और क्लस्टर हेडेक का भी इलाज़ है काइरोप्रेक्टिक में

मीग्रैन और क्लस्टर हेडेक का भी इलाज़ है काइरोप्रेक्टिक में  (Migraines & Cluster Headaches

Chiropractic  Bringing out the Best in you

माइग्रेन या मीग्रैन अस्वस्थता की अनुभूति करवाने वाला आधा सीसी  का (आधा सिर का )तेज़ सिर दर्द है .बार होने वाला (पुनरावृत्त होने वाला,रिकरिंग )     पैन है यह जो अकसर सिर के एक हिस्से में एक एक फडकन के साथ उठता है ,स्पंदित होता है .कभीकभार मिचली के साथ इसमें बीनाई भी धुंधली पड़ने लगती है ,विजुअल डिसटर -बेन्सिज़ होतें हैं .

शुरु में धब्बे और लाइनें या फिर रंगीन रोशनियाँ आँखों के आगे नांचती सी दिखलाई दे सकतीं हैं .इसके बाद मुसीबतों का (लक्षणों )का एक हुजूम घेर सकता है आधा सीसी के सिर दर्द से असर ग्रस्त व्यक्ति को . इनमे शामिल हो सकतें हैं रेडनेस (आँखों की लाली ),सोजिश ,आँखों से पानी बहना (टिअरिंग),पेशीय आकुंचन या पेशीय सिक्डाव(मसल कोंनट्रेकशन ),हलूसिनेशन (दृष्टि भ्रम या मतिभ्रम ऐसी बातें देखना या सुनना जो वास्तव में आपके आसपास आपके परिवेश में हैं ही नहीं ),चिडचिड़ा -पन,अवसाद ,रौशनी और आवाजों का अच्छा न लगना ,सुन्नता (संज्ञा शून्यता या जड़ीभूतता ),कब्जी (कोंस्टीपेशन  ) ,अतिसार (डायरिया ) और कभी कभार स्वस्थ और प्रसन्न सब कुछ ठीक होने का एहसास भी होता है.

यह दर्द से पहले की चेतावनी हैं .जब दर्द की लहर उठती है माथा फडकता है तो वह हलकी पीर (पीड़ा )से लेकर तीव्र वेदना का स्वरूप भी लिए रहती है .यह थ्रोबिंग (फडकता धडकता )दर्द स्पन्द  चंद मिनिटों का भी हो सकता है कई दिनों का कष्ट भी बना रह सकता है .

यही वह क्लासिक मीग्रैन है जिसकी गिरिफ्त में  लाखों लाख लोग रहतें हैं मय बालकों के .इनका बहुलांश महिलाएं होतीं हैं .

Not A Tension Headache 

आम टेंशन हेडेक्स से एक दम से अलग होता है मीग्रैन .टेंशन हेडेक अमूमन पूरे सिर का  होता  हैं .आकस्मिक तौर पर   होता  है और बस मतली या उबकाई ही आती है वह भी सिर्फ  दर्द के तेज़ होने रहने पर . 

The Cluster Headache 

अप्रत्याशित ढंग से आता है यह "दर्दे सिर ".एक नथुने में बेहद की फडकन युक्त पीड़ा लिए रहता है यह दर्द .और  उसी नथुने  की तरफ की आँख के पीछे तक चला आता है .इसका हमला दिन में सिर्फ एक बार भी हो सकता है रोजाना कई मर्तबा भी  और यह सिलसिला दर्दे -गुच्छे -सिर का हफ़्तों क्या महीनों भी ज़ारी रह सकता है .बिना बताये जैसे यह दर्द आता है एक दिन वैसी ही आकस्मिकता के साथ चला जाता है .कोई ज्ञात कारण नहीं पता चलता इस आने और बिला वजह के सिर दर्द  जाने का .

बीस से चालीस साल की उम्र के बीच के लोगों को यह क्लस्टर हेडेक  बहुधा  अपना निशाना बनाता है .

Treatment 

इलाज़ दर्दे सिर की बुनियादी वजह पर निर्भर करता है .बीनाई की कमजोरी या अन्य गडबडियों से पैदा सिर दर्द अकसर आई ग्लासिज़ से ही ठीक हो जाता है .(कमजोर बीनाई ,पूअर रिफ्रेक्शन भी सिर दर्द की वजह बनता है ).

साइनस के संक्रमण से या फिर कान के किसी संक्रमण (इन्फेक्शन )से पैदा सिर दर्द संक्रमण के दूर होते ही काफूर हो जाता है .लेकिन आम सिर दर्द का इलाज़ आम तौर पर पीड़ा नाशियों से ही किया जाता है .

गौर तलब है यहाँ बीमारी की वजह की तह तक जाना ज़रूरी समझे बिना ही लक्षणों का इलाज़ दर्द नाशी दवाओं से किया जाता है .

बेशक जो आदमी बेहद के सिर दर्द से परेशान है लक्षणों का शमन भी उसके लिए कोई कम राहत की बात नहीं है .

लेकिन एस्पिरिन से लेकर इसके विकल्पों से लेकर codeine और प्रेस्क्रिप्शन ड्रग्स पर सैंकड़ों लाख डॉलर बस यूं ही फूंके जाते रहें हैं,वजह बनी रहती है सिर दर्द की तब भी  अबूझ .

Can Chiropractic Help Me ?

गत  सौ   सालों  से दवा दारु के बिना ही की जाने वाली यह कुदरती काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा व्यवस्था मीग्रैन और क्लस्टर हेडेक से परेशान लोगों के लिए वरदान साबित हुई है .केवल यही चिकित्सक  स्वास्थ्य के  वे पहुरवे हैं हेल्थ केयर टेकर्स हैं जो Vertebral  subluxation काम्प्लेक्स(VSC) का विश्लेषण करतें हैं .यह वह मेडिकल कंडीशन है जो आपकी रीढ़ को असर ग्रस्त करती है .स्नायुओं (नर्व्ज़ या नसों को ,तंत्रिकाओं  को ),जोड़ों और डिस्क को अन्य कायिक संरचनाओं को असर ग्रस्त करती है .

अकसर यह स्थिति होती तो पीड़ा हीन है लेकिन आपके शरीर को कमज़ोर कर देती है इलाज़ न होने पर घुन लगा देती है .थकान और पीड़ा की वजह भी बनती है देर सवेर ,जो आपको फिर  घेरे ही  रहती है .  
 
ऐसे में जीवन क्षमता के कम होते जाने (अभाव) के साथ ही बीमारियों के लिए पुख्ता ज़मीन तैयार हो जाती है .

गौर तलब है काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा का मकसद ख़ास बीमारियों को ठीक करना नहीं है ,VSC से शरीर को मुक्त करवाना है .रीढ़ का समायोजन करना है .काया ताकि पुन : स्वास्थ्य लाभ अधिकाधिक प्राप्त कर सके . फिर से सेल्फ हीलिंग ओरगेन   बनने की अपनी खोई हुई ताकत बटोर सके .

The Chiropractic Checkup

एक तरफ अपने सधे हुए हाथों से काइरोप्रेक्टिक चिकित्सक आपकी काया की जांच करता है दूसरी तरफ एक्स -रे ,स्केल्स ,तथा अन्य रीढ़ अन्वेषी उपकरणों का सहारा लेकर आपकी काया में संभावित vertical subluxations (Misalignment of spine ) का पता लगाता है .इनके मौजूद पाए जाने पर रीढ़ समायोजन के ज़रिए इन्हें हटा देता है .अब आपके  तंत्रिका दवाब (नर्व प्रेशर ) का भी निवारण  हो जाता है,रीढ़ के विरूपण (spinal distortions )का  भी .काया अब आपकी अपना काम ठीक से अंजाम देने लगती है.आपको कुदरती स्वास्थ्य लाभ मुहैया करवाने लगती है आपकी खुद  की काया खुद -बा -खुद .

The Spine /Headache Relationship 

मीग्रैन की वजह एक गोपन (रहस्य )ही बनी रही है .लेकिन अधुनातन शोध बतलातें हैं ,असर ग्रस्त व्यक्ति के दिमाग में एबनोर्मल नर्व फाय्रिंग्स होते रहतें हैं .स्पाइनल कोर्ड (रीढ़ रज्जू )में भी यही सिलसिला एबनोर्मल नर्व फाय्रिंग्स का चलता है .

यही वजह है ,परम्परा गत काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा कितने ही  मीग्रैन की गिरिफ्त में चले आये व्यक्तियों को माफिक आती है .यह इस पूर्व धारणा का भी समर्थन है कि सिर दर्द की वजह रीढ़ सम्बन्धी समस्याएं भी बनतीं हैं .खासकर गर्दन से जुडी परेशानियां सिर दर्द की वजह बन जातीं हैं .

इस तरह के सिर  दर्द को कहतें हैं -Cervicogenic headache.ग्रीवा या गर्दन की समस्याओं से पैदा होने वाला सिर दर्द . 

६००० ऐसे लोगों पर संपन्न एक अध्ययन के अनुसार जिन्हें पुनरावर्तक सिर दर्द (रिकरिंग हेडेक )गत २-२५ सालों से चला आरहा था पता चला कि इनके दर्द की एक एहम वजह स्पाइनल इंजरी थी .इसका मतलब यह हुआ हरेक नॉन -स्पेसिफिक मामले में शक सुब्हा रीढ़ की चोट ही होनी चाहिए .

Chiropractic And Migraines 

अनेक अध्ययनों से इस दवा शून्य चिकित्सा के लाभ सामने आयें हैं .

एक अध्ययन में इस चिकित्सा निगरानी से मीग्रैन एपिसोड्स ९०% कम हुएँ हैं पीड़ा की अवधि भी ३८% घटी है .दवाओं पर निर्भरता ९४% तक कम हुई है .मिचली ,उबकाई ,प्रकाश (रोशनियों से घबराहट और भय )भीति ,आवाज़ का न सुहाना कमतर हुआ है .

छ : माह की अवधि तक ज़ारी रहे  अध्ययन  में १२७ मीग्रैन  के मरीजों में से आधों को काइरोप्रेक्टिक केयर मुहैया करवाई गई .बाकी को इससे वंचित ही रखा गया .काइरोप्रेक्टिक वर्ग के २२% लोगों को  ९०% से भी ज्यादा फायदा पहुंचा मीग्रैन एपिसोड्स कम हुए ,इतना फायदा पहले दो महीनों में ही ज़ाहिर हो गया ,इसी समूह के ५०% लोगों में  मीग्रैन की उग्रता और गंभीरता कम हुई .

एक दस साला लड़की क्रोनिक ,सीविअर मीग्रैन  की गिरिफ्त में थी .गत तीन सालों  से उसकी बुरी गत बनी हुई थी एक हफ्ते में छ:एपिसोड्स मीग्रैन के होते  थे ,एक बाल रोग रूग्ण-आलय(बाल रोगियों के अस्पताल में )इसका इलाज़ न्यूरोलोजिस्ट (स्नायुविक विज्ञान ,रीढ़ एवं स्नायु रोग के माहिर )की देख रेख में चल रहा था .उसका स्कूल जाना भी छूट गया था .

काइरोप्रेक्टिक जांच से उसकी गर्दन के ऊपरी हिस्से में (upper neck subluxations )गडबडी मिली .

सिर्फ पांच समायोजन एडजस्टमेंट के बाद ही वह दोबारा स्कूल जाने लगी .अब वह पूरी तरह स्वस्थ है .

सारांश 

सिर दर्द की बारहा आहत मिलते रहने पर आप काइरोप्रेक्टिक जांच के लिए आगे आएं .सुनिश्चित करें आपकी रीढ़ VSC  से मुक्त है या नहीं .यदि VSC हैं तो दवा से ठीक  नहीं होंगें .समायोजन जादुई साबित हो सकता है .

Anyone suffering from headaches needs spinal checkup.  

मीग्रैन और क्लस्टर हेडेक का भी इलाज़ है काइरोप्रेक्टिक में 

3 टिप्‍पणियां:

रविकर फैजाबादी ने कहा…

विधिवत चर्चा इस समस्या पर की गई |
सावधानी और उपाय तदनुसार ||
आभार वीरुभई |

जाटदेवता संदीप पवाँर ने कहा…

हमेशा की तरह लाभदायक जानकारी

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हम तो सारी बीमारियों का उद्गम पेट से समझते थे, यहाँ तो रीढ़ निकली..