गुरुवार, 16 अगस्त 2012

उम्र भर का रोग नहीं हैं एलर्जीज़ .

Allergies 

Allergies do not necessarily have to be a life sentence.Chiropractic permits the immune system to function more effectively , something all allergy sufferers need .By correcting your subluxations chiropractors help you adapt better to the stresses in your environment , including those relating to allergies .
चलिए बुनियाद से शुरु करतें हैं .सबसे पहले जानें  क्या हैं एलर्जन्स ?

ऐसी कोई भी वस्तु जिसे खाने ,छूने या सांस लेने पर कुछ लोग बीमार हो जातें हैं एलर्जन(एलर्जी कारक ,एलर्जी पैदा करने वाली )कहलाती है .किसी वस्तु या पदार्थ विशेष के प्रति असाधारण संवेदन शीलता से उत्पन्न बीमारी प्रत्यूर्जता या एलर्जी कहलाती है .एलर्जी से उत्पन्न प्रति -क्रिया को एलर्जिक रिएक्शन कहतें हैं .चार सौ से ज्यादा किस्म के एलर्जन हैं .तापमान भी एक एलर्जन है .सीलन भी ,ठंड तो है ही ,पित्ती उछलना (Urticaria),चमड़ी  पे ददोरे उछलना,skin rash एक एलर्जिक रिएक्शन (प्रत्युर्जातमक  प्रतिक्रिया ही है).इसमें खुजली को जी करता है उभरे हुए लाल पीले हिस्सों को खुजाने में चैन पड़ती है .लेकिन पित्ती और उछलती है ,खुजलाने से .


 Your Immune System : Keeping You You  

Your immune system keeps you 100% natural ,organic , unadulterated you. It recognizes and destroys anything that's not supposed to be in you :bacteria ,viri ,pollutants ,dust ,pollen ,drugs ,tumors ,dead pieces of your own cells ,and even hearts and donor organs .

तो देखा आपने  कितना मुस्तैद रहता है आपका रोग प्रति -रोधी कुदरत  की तरफ से  जन्मना मिला इम्यून सिस्टम .कैसे किसी भी विजातीय तत्व ,जीवाणु ,विषाणु ,किसी भी रोगाणु ,पैथोजन को यहाँ तक की शरीर के अन्दर मृत पड़ी कोशिकाओं के मलबे को खदेड़ बाहर करता है . हवा में तैरते पराग कणों ,कणीय और गैसीय प्रदूषकों को आपसे दूर रखता है .गनीमत है यह तंत्र धातु (मेटल )और प्लास्टिक के प्रति इम्यून रिएक्शन नहीं करता वरना आरोपित अंगों को भी खदेड़ बाहर करे जिन्हें लेदेकर यह स्वीकृति प्रदान कर देता है चंद दवाओं के सहारे .(इम्यून सप्रेसर ड्रग्स होतीं हैं ये स्वीकृति दिलवाने वाली दवाएं ,जैसे साइकलो -स्पोरिन ).

एक स्वस्थ इम्यून सिस्टम उसे कहा जाएगा जो बीमारियों का पुरजोर विरोध  करता है प्रति -रोध खड़े करता है पैथोजन के लिए .संक्रमण को मुल्तवी रखता है .बाहरी दवाबों  का सामना करने की कूवत देता है .आपकी सेहत का अवैतनिक चौकीदार है यह इम्यून सिस्टम .

Immunological Diseases 

Many things influence how well your immune system functions : your nerves and hormones ,your diet ,your genes and your emotions .

यानी आपका रोग -रोधी तंत्र इम्यून सिस्टम आनुवंशिक अंशों खानदानी विरासत के अलावा आपकी अर्जित आदतों खुराक ,हारमोनों ,तंत्रिकाओं और संवेगों और आपकी  रागात्मकता का ज़मा जोड़ है .कुछ लोग कुढेले फुड़ेले (कुढने फूंकने वाले )कुछ खुश मिजाज़ खुश बदन होतें हैं .सब कुछ का असर इम्यून सिस्टम पर पड़ता है .

एक बीमार अस्वस्थ रोग रोधी तंत्र अस्वस्थ अ -सामान्य  कोशाओं यथा कैंसर पैदा करने वाली कोशाओं को पहचान ही ले ,पहचान के शरीर से बाहर खदेड़ ही दे यह कतई ज़रूरी नहीं है . 

ठीक इसके विपरीत बीमार रोग रोधी प्रणाली विजातीय तत्वों के प्रति ज़रुरत से कहीं ज्यादा प्रति -क्रिया (इम्यून रिएक्शन ) कर सकता है मसलन मधु मख्खी का आपकी चमड़ी पर डंक लगने पर  ,पेंसिलिन की सुइयां लगने पर ,कोई भी खाद्य सामिग्री या दवा जैसे मूंगफली  या दवाओं में सल्फा ड्रग्स ,किसी अन्य वर्ग की दवाएं लेने पर .अवसाद ग्रस्त भी हो सकतें हैं आप जैसा एच आई वी एड्स के कई मामलों में हो जाता है यहाँ तक कि आपका रोग रोधी तंत्र खुद को ही निशाने पे ले सकता है .ऑटो -इम्यून डिस ऑर्डर में ऐसा ही तो होता है .

Allergens And Allergies

क्या आप जानतें हैं हमारे रोग प्रति -रोधी तंत्र का आम (आम फ़हम )विकार है एलर्जी .एलर्जी परिणाम है अतिरिक्त प्रति -क्रिया का जो किसी भी अलर्जी पैदा करने वाली चीज़ के प्रति हमारा इम्यून सिस्टम करता है .धूल धक्कड़ वायु में तैरते यहाँ से वहांवायु द्वारा ही  पहुँचते पराग कण ,दूध ,मूंग फली अंडा ,कुत्ते बिल्लियों की चरम से झड़ता ठोस कण ,स्ट्राबेरी आदि कुछ भी अलर्जी कारक हो सकता है कभी भी किसी के लिए भी . 

Allergies occur when the immune system overreacts to an allergen(dust ,pollen ,milk ,dog dander ,strawberries ,egg ,etc) and produces too many neutralizing chemicals (especially histamines ) to counteract it .

Histamines: A Histamine is an amine released by immune cells that produces allergic reactions. 

What Causes Allergies?

दुनिया  भर  में एलर्जी के मामलों में इससे जुड़े चमड़ी के विकारों ,दमा आदि में  इजाफा हो रहा है लेकिन ऐसा क्यों हो रहा है यह किसी को भी नहीं मालूम .

एक  शक सुबहे के दायरे में बचपन में लगे टीके भी आतें हैं ,कुछ रिसर्चर ऐसा मानतें हैं .खासकर काइरोप्रेक्टर का एक वर्ग .टीकाकरण ऑटोइम्यून डिज़ीज़  के लिए ज़मीन तैयार करता है .मसलन र्युमेतिक आर्थराइटिस (गठिया ,अप -विकासी जोड़ों का दर्द ),र्युमेतिक फीवर ,Lupus erythematosus ,scleroderma आदि  .

वर्तमान में महामारी बनती एलर्जी -महामारी का कोई न कोई सिरा टीकाकरण के मूल में छिपा है .(अब देखो न हर चीज़ का टीका आ रहा है ,यहाँ अमरीका में हर साल फ्ल्यू का ही नया टीका आता है जो यहाँ की राष्ट्रीय बीमारी है टीका भी और फ्ल्यू भी ).

Childhood vaccinations are responsible for allergies and immune system abnormalities :food allergies ,(wheat and milk especially) ,arthritis ,lupus ,celiac disease ,pernicious anemia ......Respiratory problems :asthma and SIDS (due to vagus nerve palsy).....

SIDS is sudden infant death syndrome .
Celiac disease is  A DISORDER  caused by a sensitivity to gluten that makes the digestive system unable to deal with fat .SYMPTOMS INCLUDE DIARRHOEA AND ANAEMIA.

Lupus (lupus erythematosus) either of two inlammatory diseases affecting connetive tissue , one largely confined to the skin ,the other affecting the joints and internal organs .

The Medical Approach

   Orthodox medicine has no cure for allergies , only treatment of symptoms.According to the late Robert Mendelsohn .MD : You can depend on most doctors to largely ignore the cause ....unfortunately ,their treatment is often worse than the disease ,especially since the relatively safe folk -measures of yesteryear have been replaced by the sophisticated ,dangerous drugs of modern medicine.

ज़ाहिर है आधुनिक एलोपैथिक चिकित्सा के पास कोई इलाज़ नहीं है बीमारी का मात्र लक्षणों का इलाज़ किया जाता है .बीमारी से बदतर सिद्ध होता है यह इलाज़ .

Since runny eyes ,irritation ,redness ,fullness in the sinuses and other allergy symptoms are caused by histamines ,antihistamines are often prescribed to dry mucous membranes .However ,antihistamines can cause serious heart problems and should not be used with alcohol ,sedatives or tranquilizers .Also ,steroid nasal sprays can damage the cilia in the nose and upper respiratory tract and affect the adrenal gland .

Cilia(plural of cilium )  is a tiny projecting thread  ,found with many others on a cell or microscopic organism  that beats rhythmically to aid the movement of a fluid past the cell or movement of the organism through a liquid . 

बतलादें आपको सर्दी जुकाम में आप इन्हीं एंटी -हिस्टामिनिक दवाओं का ही इस्तेमाल करतें हैं .कई मर्तबा प्रतिबंधित हुई हैं ये दवाएं (क्योंकि ये नर्वस सिस्टम को सप्रेस करतीं हैं शमन करतीं हैं स्नायुविक तंत्र का ,एक्तिफाइड  प्लस ,एविल प्लस ,सिट्रजिन ,लीवो -सिट्रजिन आदि ).शराब के साथ इसके आगे पीछे इन्हें न लें.गाडी न चलायें लेने के बाद ये एलर्जी -रोधी दवाएं . 

Breastfeeding 

नैदानिक अध्ययनों से सिद्ध हुआ है ,जिन बच्चों को माँ का दूध मयस्सर होता है पहले साल छ :महीना उनमें  कमतर एलर्जी देखने में आती है बरक्स उनके जिनकी परवरिश डिब्बा बंद दूध पे होती है .  इन बाद वाले बच्चों में जो स्तन पान से मरहूम रहतें हैं गंभीर संक्रमण के मामले भी ज्यादा देखने को मिलतें हैं .स्तन पान प्राथमिक आहार के रूप में पाए नौनिहालों के रोग प्रति -रोधी तंत्र भी हेल्दी होतें हैं ,नर्वस सिस्टम भी .यही स्तन पान इन्हें भविष्य में आने वाली अनेक आपदाओं से प्रति -रक्षण प्रदान करता है .

एक के बाद एक अनेक अध्ययनों से बा -रहा पुष्ट हुआ है :  स्तन पान परिपूर्ण  आहार है मानव शिशुओं के लिए .

The Chiropractic Approach 

 एलर्जी से सताए आजिज़ आये लोगों ने गत सौ सालों में काइरोप्रेक्टिक चिकित्सा का लाभ उठाया है .इसका गुणगायन किया है .बेशक काइरोप्रेक्टिक केयर एलार्जीज़ का इलाज़ नहीं है (न सही ).
लेकिन इस चिकित्सा का लक्ष्य गंभीर किस्म की रीढ़ (मेरु दंड ,स्पाइन सम्बन्धी )और स्नायुविक तंत्र से जुडी दवाब कारी स्थितियों ,स्पाइनल और नर्वस सिस्टम स्ट्रेस (वरत्रिब्रल सबलाकसेसंस ,Vertebral subluxations complex ) की शिनाख्त कर उससे राहत दिलवाना रहा है .यह  दवाब हटने पर इम्यून सिस्टम प्रभावी तरीके से काम करने लगता है .सभी एलर्जी से तंग आये लोगों को एक मज़बूत असरकारी रोग रोधी तंत्र की ही तो दरकार होती है .

By releasing stress on the nervous system ,chiropractic permits the immune system to function more effectively -something allergy sufferers need since a nervous system with less stress function more efficiently .

Noted health researcher Dr.Kurt Donsback reflects the opinion of many natural healers : A healthy body is capable of neutralizing these toxic substances and a body which has a malfunctioning defense mechanisms cannot. The emphasis on allergies must be on building a healthy body ,not on trying to use evasive tactics by eliminating all allergens .

Research

एक काइरोप्रेक्टिक कोलिज क्लिनिक पर अभी हाल ही में मरीजों पर संपन्न एक अध्ययन के पुनर -आकलन  में पता चला है ,बालरोगियों (pediatric patients) में अकसर एलर्जी ,कानों में संक्रमण ,साइनस सम्बन्धी शिकायतें ,बेड वेटिंग(रात को सोते -सोते और दिन में भी सोने पर बिस्तर गिला करने की समस्या ),श्वसन सम्बन्धी परेशानियां (दमा ,आदि )उदर और आंत्र सम्बन्धी (gastrointestinal )शिकायतें आम हैं .काइरो -प्रेक्टिक -केयर परिपूर्ण या फिर आंशिक राहत इन बाल -बीमारों को ६१.६% मामलों में मिली .

हमारे स्नायुविक तंत्र (नर्वस सिस्टम )और हमारा रोग -प्रति -रोधी प्रकृति प्रदत्त तंत्र (इम्यून सिस्टम )परस्पर सम्बद्ध हैं .एक की सेहत दूसरे तंत्र को असर ग्रस्त करती है .नर्वस सिस्टम स्ट्रेस को कम करके काइरोप्रेक्टर चिकित्सा के माहिरों ने ,काइरोप्रेक्टरों ने हमारे  माहौल में पसरी तमाम  किस्म की स्ट्रेस से हमें  तालमेल बिठाने में मदद पहुंचाई है .इस राहत में प्रत्युर्जात्मक प्रति -क्रियाएं (एलर्जीज़) भी शामिल रही आईं हैं .इधर  सब -ल़क-सेसंस काइरोप्रेक्टरों  ने हटाये उधर राहत मिली .  उम्र भर का रोग नहीं हैं एलर्जीज़ . 

10 टिप्‍पणियां:

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

काम की जानकारी।

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

bahut acchi bat btaai....

ब्रजकिशोर सिंह ने कहा…

ram-ram bhaee.achchha likha hai.

Trupti Indraneel ने कहा…

बहुत सुन्दर विस्तृत जानकारी धन्यवाद !
काश इस भ्रष्टाचार के एलर्जी पर भी कोई रामबण उपाय मिल जाये :)

आपको स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाये !

Kunwar Kusumesh ने कहा…

I am ALLERGIC to humidity.Every cure is its temporary cure,I find.
Your post is very much educative as always.Thanks.

जाटदेवता संदीप पवाँर ने कहा…

एलर्जी के बारे में अमूल्य जानकारी

Anita ने कहा…

बहुत उपयोगी पोस्ट..आभार !

मनोज कुमार ने कहा…

इस विषय के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालते हुए आपने बहुमूल्य जानकारी मुहैया कराई है।

SM ने कहा…

अमूल्य जानकारी

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

एलर्जी धीरे धीरे चली जाती है..