गुरुवार, 29 दिसंबर 2011

फिरंगी संस्कृति का रोग सिफलिस अपने साथ लेकर लौटा था कूल्म्बस अमरीका से ?

क्रिस्टोफर कोलंबस ने १४९२ में अंध -महासागर के पार जाकर अमरीका की खोज की थी .लेकिन इस लम्बी समुद्री यात्रा को संपन्न कर जब वह योरोप लौटा तो अपने साथ यौन संसर्ग से उत्पन्न एक रोग सिफिलिस (गरमी ,उपदंश या आतशक )की सौगात लेकर लौटा .यही लब्बोलुआब है एक ताज़ा तरीन अध्ययन का है जिसमे कंकाल जैविकी के माहिर शरीक रहें हैं .
Columbus brought sex disease to Europe from US ,Says new study/TIMES TRENDS/THE TIMES OF INDIA,MUMBAI ,DEC29,2011.
नवीनतर कंकालों के अन्वेषण से यह पुख्ता हुआ कि कूलम्बस और उसके अन्वेषी दल ने पुरानी दुनिया को नै दुनिया की सौगात ही नहीं दी सिफलिस भी तोहफे में दिया .
जीवाणु जन्य रोग है सिफलिस जो एक जीवाणु Treponema pallidum से पैदा होती है .बेशक आजकल इसका समाधान और पुख्ता इलाज़ एंटीबायटिक दवाएं प्रस्तुत कर देतीं हैं लेकिन इलाज़ न हो पाने पर ,या फिर रोग निदान ही न हो पाने पर रोग उग्र रूप लेकर दिल दिमाग से लेकर हमारी आँखों यहाँ तक की अश्थियों तक को भी असर ग्रस्त कर देता है .घातक सिद्ध हो सकता है यह रोग लापरवाही बरतने पर .
सिफलिस का पहला बड़ा हमला (प्रकोप )बड़े पैमाने पर संक्रमण प्रसार पुनर -जागरण काल की बेला १४९५ में हुआ था .
पहले इसने चार्लज़ अष्टम की फौज को संक्रमण से ग्रस्त किया .संक्रमित किया .यह फ्रांसीसी राजा के नेपल्ज़ पर हमले के बाद का काल (दौर )था .इसके बाद यह संक्रमण योरोप की और बढ़ चला .कंकाल जीव -विज्ञान के माहिर रिसर्चर जोर्ज अर्मेलागोस (Emory University ,Atlanta )के अनुसार आज यही कहना मानना है .
गौर तलब है आपने ही पहले इस कूल्म्बियंन सिद्धांत का विरोध किया था .
कुछ और माहिरों और आलोचकों का यह भी मत है सिफलिस योरोप को नै दुनिया (अमरीका )की कूल्म्बस द्वारा खोज से पहले भी सताता रहा आया है लेकिन तब इसे दूसरी छूत की गंभीर बीमारियों से अलग करके नहीं देखा जा सकता था .कुष्ठ एक ऐसा ही रोग बना हुआ था उन दिनों जिसमे त्वचा के कुछ अंग गल कर गिर जाते थे .सन १५०० तक योरोप की यही स्थिति थी .
आज कुष्ठ रोग का पुख्ता इलाज़ है इसे छूतहा भी नहीं माना जाता .
फिरंगी संस्कृति का रोग सिफलिस अपने साथ लेकर लौटा था कूल्म्बस अमरीका से ?
RAM RAM BHAI ! RAM RAM BHAI !
सेहत के नुश्खे :
HEALTH TIPS:
केल्शियम का भण्डार है पनीर .अश्थियों की मजबूती के लिए अच्छा है .(अलबत्ता कई मेडिकल कंडीशन में प्रोटीन बहुल खुराक की मनाही रहती है वहां अगर आपका माहिर इसकी परहेजी की बात करता है तो उसे मानिए ,र्ह्युमेतिक आर्था -राइटिस में कई माहिर दालों के संग संग पनीर ,दही टमाटर आदि की भी मनाही करतें हैं .).
Paneer is the storehouse of calcium and makes your bones stronger.
सिर दर्द से राहत :लॉन्ग का तेल लेकर उसमे एक चुटकी नमक मिलाकर माथे पर लगाइए .सिर दर्द में राहत मिलेगी .
Clove oil when mixed with salt ,and applied on the forehead ,gives relief from headaches .
ram ram bhai ! ram ram bhai ! ram ram bhai !
रजोनिवृत्ती के दौरान होट फल्शिज़ से राहत के लिए अवसाद रोधी दवाएं :
कुछ महिलाएं रजोनिवृत्ती के दौरान एक दम से अशक्त बनाने वाले होट फल्शिज़ की चपेट में आजातीं हैं .कभी एक दम से बेहद की गरमी और कभी बे -तहाशा पसीने से सराबोर होना पश्त कर देता है इनका दम ख़म .हौसला .चेहरा सुर्ख लाल हो उठता है .इस सबकी वजह शरीर में हारमोन संतुलन का बिखराव (एन्डोक्राइन इम्बेलेंस )बनता है कुछेक महिलाओं में .
Hot flash से राहत में एंटीडिप्रेसेंट दवाएं असरकारी सिद्ध हो सकतीं हैं .ये दवाएं सेरोटोनिन के हमारे शरीर द्वारा स्तेमाल का विनियमन करती हैं .यही वह कथित फील गुड हारमोन है जो अलावा इसके रक्त वाहिकाओं का फैलाव और सिकुडाव को भी प्रभावित करता है .कुलमिलाकर होट फ़ल्शिज़ के लक्षणों का शमन करतीं हैं अवसाद रोधी दवाएं .
Women suffering from debilitating hot flushes during menopause may benefit from antidepressants ,which affect how the body uses serotonin -the so-called feel good hormone-also influence how the blood vessels contract and expand in menopausal women.

9 टिप्‍पणियां:

कुमार राधारमण ने कहा…

उन दिनों ध्यान का विषय यौन-सुख रहा होगा,यौन-रोग नहीं। स्वेच्छाचारी यौन-व्यवहार पश्चिम की देन है। रोग का भी वहीं से आना स्वाभाविक।

dheerendra ने कहा…

बहुत सुंदर उपयोगी जानकारी देता आलेख ,.....
नए साल की बहुत२ शुभकामनाये बधाई,...

नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

यादें....ashok saluja . ने कहा…

वीरू भाई राम-राम !
नव-वर्ष की शुभकामनाएँ !

Amrita Tanmay ने कहा…

बहुमूल्य जानकारी भरा सार्थक आलेख..

डॉ टी एस दराल ने कहा…

यह तो नई जानकारी मिली ।
टूरिज्म से भी रोगों का आदान प्रदान होता है ।
लेकिन अब ऐसे रोगों का भी स्टेंडर्ड बढ़ गया है ।

डॅा वेदप्रकाश श्योराण ने कहा…

.कभी एक दम से बेहद की गरमी और कभी बे -तहाशा पसीने से सराबोर होना पश्त कर देता है hmm

SM ने कहा…

केल्शियम का भण्डार है पनीर
nice info

डॅा वेदप्रकाश श्योराण ने कहा…

upyogi jankari ke liye dhanyawad

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

इतिहास, भूगोल और अब मेडिकल में भी योगदान कोलम्बस का।