सोमवार, 19 दिसंबर 2011

दैहिक मुद्राएं कर देतीं हैं झूठ का पर्दा फाश .

दैहिक मुद्राएं कर देतीं हैं झूठ का पर्दा फाश .
आज जब एक रिसर्च रिपोर्ट -
Liar,Liar :You can smell a lie from afar with 4 quich ways /THE TIMES OF INDIA,MUMBAI ,DEC15,2011/P17
का विस्तृत जायजा लिया समझा बूझा तब अचानक कविवर बिहारी की 'सतसई' का यह दोहा याद आ गया :
हरित बांस की बांसुरी ,मुरली धरी लुकाय ,सौंह दे ,भौहन हँसे ,दें कहे नत जाय .
गोपिकाएं कृष्ण की मुरली चुरा लुका लेती हैं उसे जतन से छिपा देतीं हैं .कृष्ण पूछते हैं मेरी मुरली तुम्हारे पास है ?तब सौगंध लेकर कहती हैं हमारे पास नहीं है लेकिन आँखों ही आँखों , भवों की पलकों में मुस्काती हैं .लेकिन लौटाने के लिए कहें तो कहती हैं हमारे पास कहाँ हैं .
अब लौटतें हैं उल्लेखित रिसर्च रिपोर्ट पर :
कैसे पकड़ा जाए झूठ ?दूर से ही झूठे का पता लग सकता है .दैहिक मुद्राओं के माहिर कहतें हैं एक नहीं दो नहीं चार चार ऐसे आसान तरीके हैं जिनसे झूठ बोलने वाला झूठ छिपाए नहीं छिपा सकता .पकड़ा जा सकता है .
(१)वह एकटक टकतकी लगाए आपकी तरफ अपलक देखता रहेगा .उसका व्यवहार बदला बदला असंगत होगा .
अनमेल विसंगत व्यवहार के अलावा झूठ से पर्दा उठाने वाली एक और चीज़ है. सत्य को उद्घाटित कर देती है, मुस्कान या फिर मुस्कान का गायब हो जाना .
अगर कोई अपना चेहरा छिपा रहा है हाथों से ढके है तब वह अपने अनजाने ही सब कुछ बता रहा है .उसकी अन -अवधानी रहस्य से पर्दा हटा जाती है .
दूसरे छोर पर ज़रुरत से ज्यादा मुस्कुराना जल्दी जल्दी मुस्काना असामान्य हालातों की ओर ही इशारा है .यह सच को छिपाने की ना -कामयाब कोशिश है .असली हंसी की बात ही कुछ और होती है .यह ओढ़ी हुई या खिसियानी हंसी से एक दम अलग होती है .इसमें व्यक्ति का मुखमंडल अलग आभा से मंडित हो उठता है .आँखों में चमक बढ़ जाती है .कपोल और भवें तीरकमान हो जातीं हैं .
फेक स्माइल तात्कालिक होती है .झलक दिखाके चली जाती है .इसीलिए कहा गया है खिसियानी हंसी .
कुल मिलाकर बदले बदले मेरे सरकार नजर आतें हैं .व्यवहार में ,ख़ास अंदाज़ में अंतर दर्शाता हुआ व्यक्ति कुछ छिपा रहा है .दर्पण होता है आदमी का चेहरा .सच कहा गया है :झूठ बोलने वाले के पाँव काँपते हैं .आइना झूओठ नहीं बोलता .
ram ram bhai !ram ram bhai !
दैहिक मुद्राएं कर देतीं हैं झूठ का पर्दा फाश .
HEALTH TIPS :Carrot blended with cucumber and spinach juices is a good remedy for migraine
गाज़र (विलायती या देसी ) के साथ खीरा और पालक का सत निकालकर पीजिए .आधा शीशी के पूरे सिर दर्द मीग्रेंन में आराम आयेगा .
सांस उखड़ने पर अदरक का अर्क शहद में मिलाकार थोड़ा थोड़ा करके चाटें दिन में कई मर्तबा .राहत मिलेगी .सांस के दौरे में थोड़ी सी .
If you have breathing problems ,take spoonful of ginger juice with honey twice a day .

सेहत के नुश्खे :

सेहत के नुश्खे :
BEAUTY TIPS:
To make the color stay longer ,put a bit of sugar all over your lips after applying lipstic.
लिपस्टिक को गहरे रचाने के लिए लिपस्टिक होंठों पर लगाने के बाद होंठों पर सब जगह थोड़ा शक्कर बुरक लें .
Blend yoghurt with fig to make a natural moisturiser .Apply on face and wash off after 15 minutes with warm water .
त्वचा की रुखाई शुष्कता कम करने के लिए हाज़िर है आप के लिए एक कुदरती क्रीम .बस थोड़ा सा दही लेकर उसमे अंजीर को घोट लीजिए .एक पेस्ट तैयार है .यही है आपकी कुदरती चिकनाई .

12 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

झूठ की मात्रा चेहरा देख के ही समझ में आ जाती है।

यादें....ashok saluja . ने कहा…

वीरू भाई को राम-राम !
बड़े बुजुर्ग कह गयें है ...झूठ के पांव नही होते .
बाकि पहचान आप ने बता दी ...अब कहाँ जायेगा झूठा..? स्वास्थ्य टिप्स के लिए भी आभार स्वीकारें ....|

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सही कहा --चेहरे के हाव भाव सच को बयाँ कर देते हैं ।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

पोस्ट और नुस्खे दोनों ही लाजवाब रहे ... चेहरा बोलता है ... सच कहा ...

Anita ने कहा…

सही कहा है चेहरा और हाथों की मुद्राएँ भी सब कह जाती हैं जो हम छिपाना चाहते हैं.

"जाटदेवता" संदीप पवाँर ने कहा…

हर बार की तरह काम की बात

रेखा ने कहा…

पोस्ट तो असरदार हैं ही साथ ही नुस्खे भी लाजबाब हैं .....

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

मकाकवि बिहारी तो इशारों इशारों में सब कुछ कह देने में सिद्धहस्त थे। झूठ, अंततः झूठ ही होता है। अच्छी पोस्ट।

मनोज कुमार ने कहा…

सेहत के नुस्खे बड़े काम के हैं।

SM ने कहा…

with experience and study one can nearly identify the liars.

डॉ0 ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Dr. Zakir Ali 'Rajnish') ने कहा…

सही कहा आपने।

mahendra verma ने कहा…

good informations. very usefull, indeed.