बुधवार, 28 दिसंबर 2011

मल्टीविटामिन सम्पूरण की प्रासंगिकता ?

मल्टीविटामिन सम्पूरण की प्रासंगिकता ?
Multi-vitamin pills a waste of money ,says study/TIMES TRENDS /TIMES OF INDIA ,MUMBAI ,DEC 28,2011,P17.
कहीं आप अपने अनजाने ही मल्टीविटामिनों की गोलियों का स्तेमाल भले चंगे रहते हुए भी बचावी चिकित्सा के बतौर तो नहीं कर रहे ?यदि हाँ तब आपको यह रिपोर्ट ज़रूर पढनी चाहिए .कहीं आप नाहक ही अपनी जेब से हाथ तो नहीं धौ रहे ?
फ्रांस की नेंसी यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च टीम ने अपने एक छ :साला अध्ययन से निष्कर्ष निकाला है कि जो लोग इन गोलियों का स्तेमाल करते आरहें हैं उनके लिए दिल की बीमारियों और कैंसर की गिरिफ्त में आने का ख़तरा उतना ही है जितना छद्म गोली (प्लेसिबो )लेने वालों के लिए रहता है .
जब उनसे उनकी सेहत के मिजाज़ के बारे में पूछा गया तब दोनों किस्म के प्रतिभागियों (सब्जेक्ट्स ) की सेहत में किसी भी किस्म का फर्क नहीं पता चला .जानपदिक रोग विज्ञान की एक आलमी पत्रिका ' International Journal of Epidemiology'में इस अध्ययन के नतीजे प्रकाशित हुए हैं .
इसे अब तक का सबसे मंहगा ऐसा अध्ययन माना जा रहा है जो इन गोलियों की प्रासंगिकता से ताल्लुक रखता है .पता चला ऐसे लाखों लोग हैं जो इन गोलियों पर बिला वजह पैसा लुटा रहें हैं .
इनमे से कितनों को ही एक तमगा मिला है 'worried well 'का .ये वो तंदरुस्त लोग हैं जो मानतें हैं कि इन गोलियों का सेवन करते रहने से वह आज के दौर की कई मारक बीमारियों से बचे रह सकेंगें .
यही कहना है सैंट जार्ज अस्पताल की केथेरीन कोलिन्स (Catherine Collins ) का .

यह गोलियां न तो अल्ज़ाइमर्स से न ही दिल के दौरों से और न ही दिमाग के दौरों (ब्रेन अटेक ) से इन Worried well को बचाए रह सकती हैं .अलबता मुगालते में जीने से किसी कौन रोक सकता है .रोक सका है .एक ढूँढोगे दस रोग भ्रमी मिल जायेंगें .
ram ram bhai !ram ram bhai !
Diet patterns may keep brain from shrinking /SCI-TECH/MUMBAI MIRROR ,DEC28,2011P22
जिन लोगों की खुराक में कुछ ख़ास विटामिनों के अलावा ओमेगा -३ फेटि एसिडों (ओमेगा -३ वसीय अम्लों )का बाहुल्य होता है वह अल्ज़ाइमर्स रोग में होने वाले दिमागी सिकुडाव (shrinkage)से अपेक्षाकृत बचे रह सकतें हैं .ब्रेन श्रीन्केज की संभावना इनमे कमतर रहती है बरक्स उनके जिनकी खुराक में यह पुष्टिकर तत्व शामिल नहीं रहतें हैं .
अध्ययनों से पता चला है जिनकी खुराक में ओमेगा -३ वसीय अम्लों के अलावा विटामिन सी ,डी ,ई और विटामिन बी भरपूर रहता है उनका दिमागी सोच विचार की क्षमता बोध सम्बन्धी परीक्षणों में स्कोर बेहतर रहता है बरक्स उनके जिनकी खुराक से ये तत्व नदारद रहतें हैं .
जहां ओमेगा -३ वसीय अम्ल मुख्य तौर पर मछलियों से मिल जाता हैं वहीँ विटामिन बी समूह और एंटीओक्सिदेंट्स C विटामिन और E का प्राथमिक स्रोत ताज़ा फल और तरकारियाँ हैं .
एक और अध्ययन में एक और भी बात सामने आई है :
जो लोग ट्रांसफेट्स (ट्रांसफेटि एइड्स )से सनी खुराक लेतें हैं या जिनकी खुराक में इनका उच्चतर समावेश रहता है उनमे न सिर्फ ब्रेन श्रीन्केज की संभावना बढ़ी हुई रहती है बोध सम्बन्धी परीक्षणों में भी ये पिछाड़ी रहतें हैं .मेमोरी टेस्ट्स में भी इनका स्कोर कमतर रह जाता है बरक्स उनके जिनकी खुराक में ट्रांस फेट्स नामालूम से ही रहतें हैं .
जंक फ़ूड इनका प्राथमिक स्रोत हैं .PACKAGED ,FAST ,FRIED और FROZEN FOODS ,BAKED GOODS और MARGARINE इन्हीं से युक्त हैं .
बेशक इन नतीजों की आइन्दा भी पुष्टि होनी चाहिए लेकिन यह अन्वेषण क्या कम हैकि खुराक बदली करके दिमाग के सिक्डाव सिकुड़ने को थामा जा सकता है .
ram ram bhai ! ram ram bhai !
सेहत के नुश्खे :
HEALTH TIPS:
Carrots contain a lot of beta -carotene which helps slow down the aging of cells .
कोशिकाओं के उम्र दराज़ होने बुढ़ाने को रोकती है गाज़र .यह कमाल होता है इसमें मौजूद तत्व बीटा -केरोटीन का .
दिमाग की तंदरुस्ती के लिए गरीब का मेवा मूंगफली :विटामिन बी समूह से भरपूर मूंगफली दिमाग की सेहत के लिए अच्छी है .कच्ची मूंगफली कूट कर हरी सब्जियों और दालों में भी स्तेमाल की जाती है उबाल कर भी कच्ची पक्की खाई जाती है मूंगफली .मध्यप्रदेश में छिलके समेत रेत में अध -सिंकी मूंगफली हरी मिर्च और नमक के मिश्र के साथ खाई जाती है . अलबत्ता तली हुई मूंगफली ट्रांस फेट्स में सेहत के फायदों को चौपट कर देती है बेहतर है घर में ही माइक्रो -वेव करके खाएं एक दो बूँद सरसों का टेल टपकाकर नमक छिड़क सेंक कर.
Peanuts are packed with the B-Complex group of vitamins that contribute to brain health.

8 टिप्‍पणियां:

कुमार राधारमण ने कहा…

क्या मूंगफली अम्लीय प्रकृति का होता है?

Khilesh ने कहा…

विरुभाई क्या आप डॉक्टर हो ।

आप तो जानकारी बिलकुल डॉक्टरों जैसे हि दे रहे हो ।

नया हिंदी ब्लॉग
हिन्दी दुनिया ब्लॉग

रेखा ने कहा…

मूंगफली के बारे में आपने अच्छा बताया ....

दिगम्बर नासवा ने कहा…

गजार मूंगफली ... सच में आपके ब्लॉग पे आके खजाना मिल जाता है सेहत है ...
आपको नए वर्ष की बहुत बहुत मंगल कामनाएं ...

SM ने कहा…

Happy New year
yes one should take the multivitamin pills only when required

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

बहुत खूब, सुन्दर प्रस्तुति, आपको नव-वर्ष की अग्रिम हार्दिक शुभकामनाये !

Amrita Tanmay ने कहा…

सेहत का खजाना

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हमें तो प्राकृतिक साधन ही अच्छे लगते हैं।