सोमवार, 11 सितंबर 2017

"पूजा" के बाद"आरती "करने के निहितार्थ क्या हैं ?क्यों की जाती है किसी भी पूजा के सम्पन्न होने पर आराध्यदेव की आरती?

"पूजा" के बाद"आरती "करने के निहितार्थ क्या हैं ?क्यों की जाती है किसी भी पूजा के सम्पन्न होने पर आराध्यदेव की आरती?

ईष्ट की प्रतिमा के गिर्द प्रज्वलित दीप -थाल को घुमाने का एक कारण यह रहा आया है आज भी दक्षिण  भारत के अधिकाँश मंदिरों के गर्भगृह में बिजली का बल्ब नहीं जलाया जाता है। मात्र दीपक का धीमा प्रकाश ईश को रोशन करता है। उसके आभूषणों की दमक और कांति हम तक पहुँचती है। पुजारी आरती उतारता है ईश को समूचा साफ़ साफ़ आलोकित करने के लिए ताकि उसका दर्शन ठीक से हो सके सर्वांश  में।

गर्भ गृह हमारे हृदय की गुफा की तरह हैं जहां एक साथ ईश और हमारे अज्ञान का अन्धकार है। आरती में कपूर जलाये जाने का एक विशेष अर्थ यह रहता है -कपूर पूरा जल जाता है। दहन सौ फीसद होता है। शेष कुछ नहीं बचता कार्बन (कालिख ),के रूप में। हमारा अज्ञान नष्ट हो अपने ब्रह्म स्वरूप को निरंजन (बिना कालिख)होने को हम जान सकें। आखिरकार एक ही चेतन परिव्याप्त है सृष्टि में। करता और करतार एक ही हैं। किर्येटर एन्ड किरयेशन आर वन एन्ड देअर इज़ नो सेकिंड। देअर इस आनली गॉड।

पूजा आरती आदि भले द्वैत का बोध कराये। इसकी  परिणति अद्वैत में ही होती है। बस भांडा साफ़ रहे हमारा मन स्वच्छ रहे। पूजा अर्चना शुद्धिकरण का एक ज़रिया भर है। मंज़िल अद्वैत ही है जहां पूजित और पुजारी दो नहीं हैं। दो की जस्ट अपियरेन्स है।

   

7 टिप्‍पणियां:

SANDEEP PANWAR ने कहा…

स्वच्छ मन हो तो सब कुछ अच्छा

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (12-09-2017) को गली गली गाओ नहीं, दिल का दर्द हुजूर :चर्चामंच 2725 पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट अक्सर नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

kuldeep thakur ने कहा…

दिनांक 12/09/2017 को...
आप की रचना का लिंक होगा...
पांच लिंकों का आनंद पर...
आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...

Aparna Bajpai ने कहा…

इतनी जानकारी देने के लिए शुक्रिया अग्रज.

atoot bandhan ने कहा…

जानकारी युक्त

Meena Sharma ने कहा…

आरती करने के कई अर्थ जाने सुने थे अपने बड़े बुजुर्गों से। कपूर पूरा जल जाता है, कुछ भी नहीं बचता। उसी तरह ईश्वर के आगे हमारा अहं पूरा खत्म हो जाए । भक्ति पूर्ण समर्पण माँगती है....सुंदर आध्यात्मिक विचार । सादर ।

संजय भास्‍कर ने कहा…

शुक्रिया जानकारी के लिए