शनिवार, 30 मार्च 2013

Virluent conjunctivitis may take a year to heal


RARE VIRUS HAS EYE ON VISION

आँख के अन्दर एक पारदर्शी अस्तर होता है एक पारदर्शी श्लेश्मला (Conjunctiva)होती है

,यदि

पलकों के



संग इसमें भी सूजन

और दुखन होने लगे तो इसका मतलब होता है नेत्रश्लेश्मला शोथ बोले तो Conjunctivitis की चपेट में आ चुके हैं

आप .

विषाणु से पैदा नेत्रश्लेश्मला शोथ एक बेहद छूतहां संक्रामक नेत्र रोग है .लेकिन स्वास्थ्य विज्ञान सम्मत बातों

पर विशेष तवज्जो देकर इससे बचा भी जा सकता है .इसके फैलाव को व्यक्ति से व्यक्ति को लगने वाले

संक्रमण को मुल्तवी भी रखा जा सकता है .वायरल कन्जंकटीवाइटिस बहुत आराम से एक से दूसरे व्यक्ति को

लगने वाली छूतहां बीमारी है .

बार बार हाथ धोना इसकी रोकथाम में बहुत सहायक सिद्ध होता है .

लक्षण 


आँख श्वेत पटल (वाईट आफ दी आई )इसमें लाल पड़ जाता है .अंदरूनी पलक (the inner eyelid)लाली की

चपेट में आ सकती है .

आंसुओं का कुल आयतन बढ़ जाता है .

Increased volume of tears is a prominent symptom.

आइलैश (बरौनी ,पलकों के बाल )के ऊपर पीला कीचड़ सा गाद (गीद )जम जाता है खासकर सोने के बाद .सोकर उठने पर आँख आसानी से नहीं खुलेगी चिपचिपी रहेगी ,दुखन भी होगी .
Thick yellow discharge that crusts over the eyelashes ,especially after sleep will be prominent .

आँख से हरा सफ़ेद रिसाव भी हो सकता है .खुजली भी मचेगी .आँख मलने को जी करेगा .

जलन घेरे रहेगी आँखों  को .बीनाई ( Blurred vision) धुंधला जायेगी .रौशनी आँख को बर्दाश्त नहीं होगी .

BETTER STAY SAFE

अपना खुद का चेहरा छूने से बचे .मरीज़ के तौलिए ,रूमाल ,धुले हुए कपड़ों तकिये के गिलाफ आदि से  भी बचें

.मस्कारा ,आईलाइनर आदि सांझा न करें .

अद्वैत शाह (नाम फर्जी ) मुंबई के एक कोलिज में व्याख्याता हैं आप जब नेत्रश्लेश्मला की चपेट में आये इसे

मामूली स्ट्रेन परम्परागत बरसाती आँख की दुखन समझते रहे .जनवरी में इन्हें यह छूतहां संक्रमण लगा .

हफ्ते भर इनकी आँखों की सोजिश और दुखन जब बरकरार रही वह एक चिकित्सक के पास पहुंचे जिसने इन्हें

स्टेरोइड युक्त आई ड्रॉप्स लिख दीं .

इनकी दुखन और भी भड़क गई रोग उग्रतर हो गया .इनके स्वच्छ मंडल (कोर्निया )में पीड़ा रहने लगी .आंसुओं

की झड़ी लग गई आँखों से .प्रकाश से आप भय खाने लगे .आँखें प्रकाश  के प्रति भीती से ग्रस्त हो अति संवेद्य

हो गईं .नजर धुंधला गई .नेत्ररोग के माहिरों ने इसे रोगनिदान के बाद Nummular Keratitis बतलाया है .एक

साल लग सकता है इस स्थिति से बाहर आने में .

बेशक इनकी आँख की सोझिश अब चली गई है लेकिन स्वच्छ पटल पर एक अपारदर्शी दाग बना हुआ है .

सावधानी बरतें अपना इलाज़ खुद हरगिज़ न करें .केवल नेत्ररोगों के माहिरों से ही जांच करवाएं .बचाव में ही

बचाव है .

IN FOR A LONG HAUL ?

Advait Shah , a college professor ,was suffering from what he thought was a 'regular strain of conjunctivitis ,' since January .

After a week of sore eyes ,he consulted a doctor ,who prescribed steroids , but his condition worsened .

He had pain in the cornea as he suffered from nummular keratitis , a condition marked by tearing ,photophobia and blurred vision ,which can last up to a year.

Now treated by another doctor ,the swelling in his eyes is gone ,but a spot of opacity remains on his cornea.




nummular keratitis










Superficial corneal nfiltrates develop by the 5th day of conjunctivitis and then gradually fade.









6 टिप्‍पणियां:

SM ने कहा…

बेहद उपयोगी जानकारी

तुषार राज रस्तोगी ने कहा…

बेहद ज्ञानवर्धक प्रस्तुति | बहुत उपयोगी | शुक्रिया | आभार

कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
Tamasha-E-Zindagi
Tamashaezindagi FB Page

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

बहुत उम्दा उपयोगी जानकारी देती प्रस्तुति .

recent post....काव्यान्जलि: होली की हुडदंग ( भाग -२ )

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही उपयोगी और सरल जानकारी दिए,बचाव में ही बचाव है.इस रोग के प्रथमावस्था में फेरम फास 4X उपयोगी होता है.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आँखों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है ...
अच्छी जानकारी दी है आपने ... राम राम जी ..

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत उपयोगी जानकारी..आभार