मंगलवार, 5 मार्च 2013

US docs cure infant of HIV

आरोग्य प्रहरी 

(१)हराधनिया विटामिन A,विटामिन B-कोम्प्लेक्स ,विटामिन C ,लौह तत्व ,पोटेशियम ,फास्फोरस ,केल्शियम ,कोपर ,जिंक ,मैग्नीशियम जैसे खनिजों के अलावा खाद्य रेशों की भी खान है .नियमित सेवन करें इसका .सलाद ड्रेसिंग में इसके पत्तों का इस्तेमाल करें .

(२)When you use hand lotion ,rub it into your fingernails and cuticles ,too for supple fingers.

(3)SHELF LIFE OF BLOOD EVEN SHORTER THAN 

BELIEVED 

Red cells in blood stored longer than three weeks gradually lose the flexibility required to squeeze through the body's smallest capillaries to deliver oxygen to tissue .Moreover ,that capacity is not regained after transfusion into patients during or after surgery researchers found.

(4) एच आई वी संक्रमित नवजात को रोग मुक्त किया जा सकता है ब -

शर्ते उसे जन्म के ३ ० घंटों के भीतर भीतर एंटी -रेट्रो -वायरल दवाएं 

देकर इलाज़ शुरू कर दिया जाए 

अमरीकी माहिरों ने यह करिश्मा  कर दिखया है .एच आई वी पोजिटिव नवजात को तीस घंटे  बाद ही एंटी -रेट्रो -वायरल दवाएं देने का सिलसिला शुरू कर दिया गया .

परीक्षणों से पता चला विषाणु कम होते होते २ ९ दिनों में  विलुप्त प्राय: हो गया .

१ ८ माह तक उसे ये दवाएं दी जाती रहीं .

दस माह बाद रक्त जांच में विषाणु लापता था .

बच्चा रोग मुक्त हो गया था .

यह विश्व का पहला शिशु और दूसरा एच आई वी संक्रमित व्यक्ति है जिसे एड्सविषाणु  से रोग मुक्त करके बचा लिया गया .

यह करिश्मा Johns Hopkins Children's Center and the University of Massachusetts Medical School के माहिरों ने कर दिखाया है .इसी के साथ नौनिहालों को इस रोग से मुक्ति दिलवाने का रास्ता साफ़ हो गया है .

इस संक्रमण के बहरूपिया वायरस के खिलाफ अब तक एक कारगर टीका बनाना मुमकिन नहीं हुआ है क्योंकि विषाणु अपना प्रोटीन आवरण बदलता रहता है साथ ही कुनबा परस्ती करता रहता है वंशवाद के खूंटे की तरह इससे पार पाना मुमकिन नहीं हो सका है .

२ ० १ १ में १. ४ ८ लोगों की  एड्स सम्बन्धी वजहों से मौत हो गई .इनमें ७ % शिशु (० -२ वर्ष )थे .

२ ० ० ७ -१ १ के दरमियान एंटीरेट्रोवायरल की व्यापक स्तर पर उपलब्धता के चलते एड्स से होने वाली मौतों में २ ९ % की कमी दर्ज़ हुई .
२ ० १ १ में ३ ९ % नौनिहालों को ये दवाएं मुहैया करवाई गईं .

5 टिप्‍पणियां:

Aziz Jaunpuri ने कहा…

विविध रंगों में स्वास्थ्य के उन्नयन की
दिशा और मार्ग की तरफ प्रेरित करती
बेहतरीन प्रस्तुति सर जी ,अलख
जगाये रखिये सर जी

रविकर ने कहा…

वाह-

बढ़िया राह दिखाई है-

बधाई के पात्र हैं वे-

शुभकामनायें

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

नायाब और दिलचस्प जानकारी ...

Rajendra Kumar ने कहा…

आपके हर दिन की प्रस्तुति नायाब है,उपयोगी जानकारी.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति