मंगलवार, 12 मार्च 2013

सेहतनामा

सेहतनामा 

(१)पोटैशियम का बेहतरीन स्रोत है तरबूज (Watermelon),पेशियों तथा तंत्रिकाओं (नर्व्ज़ )के प्रकार्य (सुचारू रूप काम करने )में इसकी एहम भूमिका रहती है .

(२)त्वचा को कान्तिमान दमक और कान्ति से भरपूर बनाए रखने के लिए आमले के रस में शहद मिलाकार रोज़ सुबह  पीजिये .

(३)BEER BELLY MAY UP RISK OF INTESTINAL CANCER

Visceral fat -the fat stored deep in the abdominal cavity -is directly linked to an increased risk for colon or intestinal cancer ,a new study has warned .Researchers found that removing visceral fat in mice genetically prone to developing colon cancer lessened the development of these tumors.

15 टिप्‍पणियां:

RAHUL- DIL SE........ ने कहा…

badhiya sir...

सदा ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति

Shalini Rastogi ने कहा…

अच्छे व आसान नुख्से ...दोसरा वाला ज्यादा काम का है ... :-)

Rajendra Kumar ने कहा…

बहुत ही उपयोगी नुस्खे,आभार.

Ashok Saluja ने कहा…

अभी लीजिये वीरू भाई ..तरबूज तो रखा है आज हमारे लिए ...
आभार सुंदर जानकारी का ..राम-राम !

Madan Mohan Saxena ने कहा…

बहुत सुंदर भावनायें और शब्द भी ...बेह्तरीन अभिव्यक्ति ...!!शुभकामनायें.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

आहा .... तरबूज का तो मौसम भी आने वाला है ...

Anita ने कहा…

तरबूज और आमला...दोनों ही आसानी से मिलने वाले पदार्थ..शुक्रिया इनकी खासियत बताने के लिए..

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

तरबूज बहुत पसन्द है।

रविकर ने कहा…

आभार वीरू भाई -
बढ़िया सलाह-

पुरुषोत्तम पाण्डेय ने कहा…

संग्रहणीय आलेख. साधुवाद.

ई. प्रदीप कुमार साहनी ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (13-03-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
सूचनार्थ |

दिनेश पारीक ने कहा…


सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

दिनेश पारीक ने कहा…


सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

Amrita Tanmay ने कहा…

ये आजमा कर भला सेहत क्यों न हो दुरुस्त..