बुधवार, 24 अक्तूबर 2012

गेस्ट पोस्ट ,गजल :सामने दर्पण के जब तुम आओगे

गेस्ट पोस्ट ,गजल :सामने दर्पण के जब तुम आओगे 

                                                 -----डॉ .वागीश मेहता ,डी .लिट(सीनिअर फेलो ,संस्कृति मंत्रालय ,भारत सरकार )

                                                         गज़ल 

         सामने दर्पण के जब तुम आओगे ,

         अपनी करनी पर बहुत पछताओगे .


                (2)
         
         कल चला सिक्का तुम्हारे नाम  का ,

         आज खुद को भी चला न पाओगे .

               (3)

         सपने जिनको आज तक बेचा किए ,

         आँख उनसे अब मिला क्या पाओगे .

             (4)

         दांत पैने थे सियासत में किए ,

         क्या पता था अदब को ही खाओगे .

             (5)

         अब बगूले आग के उठने लगे ,

         इन बगूलों में झुलस रह जाओगे .


वागीश उवाच 

दर्शक की हैसियत मिली है ,चाहे देखते हुए रीझो ,चाहे खीझो .न हमारी रीझ से स्थिति बदलेगी न खीझने से ,इसलिए राम झरोखे बैठके जग का मुजरा 

लेय।

प्रस्तुति :वीरुभाई (वीरेंद्र शर्मा ) 

2 टिप्‍पणियां:

यादें....ashok saluja . ने कहा…

सामने दर्पण के जब तुम आओगे ,

अपनी करनी पर बहुत पछताओगे .
बढिया डॉ.वागीश उवाच ....
वीरू भाई को राम-राम !

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

दर्पण दर्पण, सत्य कहो न..