शनिवार, 13 अक्तूबर 2012

फफूंदा मष्तिष्क शोथ ताज़ा जानकारी


Woman sues over meningitis outbreak

From Tina Burnside, CNN
updated 4:15 PM EDT, Fri October 12, 2012


अब जबकि अमरीका के 12 राज्य फफूंदा मष्तिष्क की शोथ में आचुकें हैं तथा कुल मिलाकर अब तक 14 लोगों की मौत हो चुकी तथा संक्रमित लोगों की

 संख्या बढ़के 184 पर पहुँच गई है Barbe Puro नाम की 

महिला  जिन्हें सितम्बर 2012 में फफूंदा युक्त स्टीरोइड की सुईं लगी थी मासाच्युसेट्स की इस कम्पनी न्यूइंग्लैण्ड कंपाउंडइंग सेंटर के खिलाफ 

मामला अदालत में ले गईं हैं .

इन्हें डॉक्टरों ने लक्षणों के प्रगटीकरण के बाद जांच करवाने की सलाह   दी थी .

She underwent medical testing including blood work and laboratories a spinal tap.

इस महिला ने आरोपों में बतलाया है वह उन 14,000 लोगों में से एक हैं  जिन्हें ये फफूंदा संदूषित सुइयां लग चुकीं हैं .

परीक्षणों के नतीजे क्या निकले हैं यह अभी मालूम नहीं हो सका है .

Puro is seeking unspecified compensation and pushing for class action-status  to cover  others. 

इस बीच कोंग्रेस ने भी अपनी जांच का दायरा व्यापक कर दिया है, बढ़ा दिया है .

हाउस कमेटी आन एनर्जी एंड कोमर्स ने एक पत्र मासाच्युसेट्स औषधशालाओं का पंजीकरण  करने वाले बोर्ड को लिखा है .बतलाया गया है की अमरीकी 

खाद्य एवं दवा संस्था फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन एंड प्रिवेंशन ने न्यूइंग्लैण्ड कम्पाउंडइंग फार्मेसी को एक चेतावनी भेजी थी ,आप दवाओं के निर्माण में 

गंभीर अनियमितताएं बरत  रहें हैं .संस्था के नुमाइंदे फार्मेसी के मुआयने और उत्पादों की जांच के बाद इसी नतीजे पे पहुंचे थे .

इस जांच में शक की सुईं इस फफूंदा सुईं की तरफ भी साफ़ साफ़ घूमी थी .

संस्था ने अपनी चेतावनी में गंभीर माक्रोबियल कंटामिनेशन के प्रति इस फार्मेसी  को चेताया था तथा अपनी दुश्चिंता दो टूक जतलाई थी .

चिंता इनके नियमानुसार काम करने को लेकर भी जतलाई गई थी .शक था ये नियमों की धज्जियाँ  उड़ा रहें हैं .

The said FDA inspection called into question whether the NECC   was operating as a compounding pharmacy or a drug 

manufacturer that produced ,marketed and distributed drug  products ,not linked to prescriptions for identified patients ,on a 

commercial scale.

कमेटी अब इस बात की भी पड़ताल कर रही है ,क्या ऍफ़ डी ए जांच के बाद NECC चेती ,उसने कुछ सुधारातमक   कदम उठाए भी  थे या गत छ :वर्षों से 

सब यूं ही चल रहा था .जिसका नतीज़ा अब निर्दोष भुगत रहें हैं .

मासाच्युसेट्स राज्य की सरकार ने भी आगे बढ़के संज्ञान लिया है वस्तु  स्थिति का तथा पंजीकरण बोर्ड ने भी तमाम ऐसी औषधशालों से इस आशय के 

शपथ पत्र  दाखिल करने के लिए कहा  है कि  वह नियमानुसार ही काम कर रहें हैं ,किसी अनुदेश की अनदेखी नहीं कर रहें हैं . 

On wednesday ,Massachusets Gov .Deval Patric accused the NECC of misleading regulators and operating outside its licence 

by shipping large batches of drugs nationwide.Also wednesday the state's pharmacy board took the step of requiring all 

Massachusets compounded pharmacies to sign affidavits stating they are complying with state regulations requiring 

compounders to mix medications for specific patients.

सन्दर्भ -सामिग्री :-

Woman sues over meningitis outbreak

From Tina Burnside, CNN

updated 4:15 PM EDT, Fri October 12, 2012

फफूंदा मष्तिष्क शोथ ताज़ा जानकारी 

1 टिप्पणी:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

चिन्तनीय स्थिति..