शुक्रवार, 6 जुलाई 2012

वो जगहें जहां पैथोजंस (रोग पैदा करने वाले ज़रासिमों ,जीवाणु ,विषाणु ,का डेरा है )


The 8 Germiest Places in the Mall


वो जगहें जहां पैथोजंस (रोग पैदा करने वाले ज़रासिमों ,जीवाणु ,विषाणु ,का डेरा है )

जहां कहीं भी आधुनिक जनों की भीड़ होती हैं वहीँ डेरा लग जाता है जीवाणु और विषाणुओं का .अब भला माल कल्चर में माल से बढ़िया जगह और क्या हो सकती है -फ्ल्यू वायरस को ,ई .कोली 

(E. Coli )और  Staph(Staphylococcus) को  खुलके  खेलने  की  जहाँ आठों पहर भीड़ रहती है .करीनेदार भीड़ .

क्या कहता है माहिरों का एक पैनल इस बाबत ?कहाँ- कहाँ रोग -कारकों की  रिहाइश है माल में जानिएगा ? 

Restroom sinks

(१)रेस्ट रूम्स 

यहाँ भी सिंक सबसे खतरनाक जगह है जहां गन्दगी का साम्राज्य रहता है .

यहाँ ई कोली का भी  डेरा आपको मिलेगा -नल की टोंटी यानी फासिट पे .हैन्दिलों से कैसी बचिएगा ,ये भी फेवरेट जगह हैं रोगकारकों की .  

टोयलित इस्तेमाल के बाद आप सबसे पहले हेन्दिल ही  तो छूतें  हैं दरवाजों के .

दिक्कत यह है कि सिंक का सारा इलाका नम बना रहता है और इसीलिए यहाँ रोगकारकों का ज़मावड़ा रहता है .

यहाँ ये देर तक बने रहतें हैं .फलते फूलतें हैं कुनबा परस्ती करतें हैं .

क्या कहने है यहाँ के सोप डिस्पेंसर  के 

पब्लिक बाथ रूम में जांच करने पर चार में से एक रिफिलेबिल डिस्पेंसर में जीवाणुओं का असुरक्षित समझा जाने वाला स्तर मिला है .

बचाव 

पब्लिक लू (पेशाब घर ,पा -खाने )का इस्तेमाल करने के बाद घर आकर भी हाथ ठीक से साफ़ कीजिए साबुन से कमसे कम बीस सेकिंड तक या फिर धीरे धीरे जब आप हाथ मल रहें हैं उँगलियों में उंगलियाँ फंसा कर आठ तक गिनती गिनिए फिर धौ डालिए हाथ साफ़ चलते हुए पानी से .

Food court tables


बेशक  खाने की मेज़ आपके सामने ही साफ़ की गई हो ,आप उसे सुरक्षित हरगिज़  न समझें . 

रेग्स(पौछे) भी गंदे ई .कोली से लदे फदे हो सकतें हैं यदि इन्हें नियमित बदला न गया हो .


कैसे करें बचाव 

 hard-surface disinfecting wipes  का पैकिट पर्स में रखिए .लेडीज़ के लिए कौन मुश्किल काम है .फ्रेश वंस भी रखती ही हैं .इन्हें भी रखें जो आपको रोगकारकों से हरचंद बचाएगें .अब आप खुद मेज साफ़ करिए इन यूज़ एंड थ्रो पौछों से .

Escalator handrails


जी हाँ आपका हाथ तो इस रेलिंग पे रहता ही है .यह सनी रहती है ई .कोली से ,यूरिन और म्यूकस से ,बिष्ठा (feces)और ब्लड से . आप यकीन करें न करें माहिरों के अन्वेषण से यह तथ्य सामने आए हैं .माल में सिर्फ माल की चकाचौंध और नफासत ही नहीं है .सफाई में भी धोखा है यहाँ .

अब  जहां  म्यूकस होगा (नाक से बहता द्रव होगा )वहां भला कोल्ड और फ्ल्यू का वायरस क्योंकर नहीं होगा ?

एक  भरा पूरा respiratory flora मिला  है माहिरों को हेंड रेल्स पे .

आखिर  लोग खांसी आने पर कफ आने पर हाथों से मुंह को ढक के ही खांसते है न ओक बनाके ?

उन्हीं हाथों  से रेल्स को छूतें हैं .थामतें हैं .

कैसे करें बचाव 

बची हेंड रेल्स से .क्या ज़रुरत है छूने की .अगर ऐसा नहीं कर सकते तब बाद इसके हेंड सेनेताईज़र से ठीक से साफ़ कीजिए हाथों को .

(ज़ारी )



The 8 Germiest Places in the Mall


(ज़ारी ...)

ATM keypads


डाउन  टाउन , Taipei me 38 ATM की जांच के बाद चीनी रिस्राचारों ने पता लगाया कि हरेक की में कमसे कम १२०० ज़रासीम डेरा डाले हुए थे .इनमे बीमारी पैदा करने वाले ई .कोली (जीवाणु )और कोल्ड तथा फ्ल्यू के  

विषाणु भी मिले हैं .
एंटर बटन का सबसे बुरा हाल था .

बचावी उपाय 

ATM बटन्स को वैसे ही टोला  मारिए नकल (KNUCKLE) कीजिए  जैसे गंजे को टोला मारतें हैं .  ऊंगली  के  पौरों  से नाक और मुंह तक ज़रासिमों को पहुँचने में कोई वक्त नहीं लगता जबकी नकल हम बिरले ही नाक और मुंह तक ले जातें हैं .

घर आकर भलीभांति हाथ साफ़ कीजिए हेंड सेनी -टाई -ज़र से .भूलिए मत .



Makeup samples

2005 में संपन्न एक अध्ययन से विदित हुआ था कि ६७%-१००%मेक अप काउंटर टेस्ट -अर्स संदूषित  थे जीवाणु स्टेफ से ,स्ट्रेप से ,ई .कोली  से.

कैसे होता है यह सब ?बस कोई एक व्यक्ति बीमार है .बाथ रूम जाता है .हाथ धोता नहीं है आके अपनी संदूषित ऊंगलियों से सेम्पिलों  को परखता है .

कैसे हो बचाव ?

अपनी आँख ,होठों और चेहरे को पब्लिक सेम्पिल्स से बचाइए .मत आजमाइए इन्हें .यह सोचते हुए -मुफ्त का चन्दन घिस मेरे नंदन .सिंगिल यूज़ यूनिट की और बात है वह नहीं है   तो पौंछ  डालिए सेम्पिल को टिश्यु पेपर से .

हाथ के  पिछले हिस्से पे इसे लगा सकतें हैं परखने के लिए बस . 



Fitting rooms


एक ही कपडे की आज़माइश कई लोग करते हैं .उनकी चमड़ी की कोशिकाएं और पसीना कपडे पे मौजूद रहता है .जीवाणु को पनपने द्विगुणित होने के लिए इतना कॉफ़ी है .बेशक ट्राई रूम के हुक्स और बेन्चिज़ ,कुर्सी आदि अपेक्षाकृत सुरक्षित होतें हैं .

यकीन मानिए एंटी -बायटिक -रेज़ीस्तेंट बेक्टीरिया भी आप यहाँ से उठा सकते हैं .

MRSA (Methicillin resistant Staphylococcus  aureus)इनमे  से एक है जो यहाँ बारहा मिला है .

कैसे करें बचाव ?

फुल कवरेज़ अंडर वीयर पहन कर जाइए .तब ही ट्राई रूम में कपड़ों की खासकर पेंट ,हाफ पेंट ,या स्विम सूट या फिर कोई भी ऐसा गारमेंट सपोर्टर आदि जो रेक्टम का स्पर्श करता हो की आज़माइश करें . 

14 टिप्‍पणियां:

dheerendra ने कहा…

बहुत अच्छी उपयोगी जानकारी,,,

RECENT POST...: दोहे,,,,

SM ने कहा…

very useful must read post

Anupama Tripathi ने कहा…

sarthak ,upayogii jaankaarii ...!
abhar.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

आज ही जा रहे हैं, ध्यान देंगे..

Reena Maurya ने कहा…

upyogi jankari..
acchi post
:-)

डॉ टी एस दराल ने कहा…

पर्सनल हाइजीन के बारे में स्कूल कॉलिजों में एक विषय अवश्य होना चाहिए . हमारे देश में यह सबसे बड़ी केजुअल्टी है . बचना मुश्किल है .

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत बढ़िया जानकारी दी है ... इन सब जगहों के बारे में लोग ज़रा भी ध्यान नहीं देते कि वहाँ से हम कितनी गंदगी बटोर लाते हैं ...

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत अच्छी प्रस्तुति!
इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (08-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
सूचनार्थ!

सतीश सक्सेना ने कहा…

कुछ भी नहीं पता था ....
आभार वीरू भाई !

DrZakir Ali Rajnish ने कहा…

बडी उपयोगी जानकारियां दी आपने, आभार।

------
’की—बोर्ड वाली औरतें!’
’प्राचीन बनाम आधुनिक बाल कहानी।’

रचना दीक्षित ने कहा…

हर बार आप एक नयी और बढ़िया जानकारी साझा करते हैं. धन्यबाद.

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत उपयोगी जानकारी...आभार

Arvind Mishra ने कहा…

सावधान हो जाते हैं अब से -जानकारी के लिए आभार

Sanju ने कहा…

Very nice post.....
Aabhar!
Mere blog pr padhare.