गुरुवार, 26 जनवरी 2012

नुश्खे सेहत के :

नुश्खे सेहत के :
पश्चिम ऑस्ट्रेलिया विश्व विद्यालय के रिसर्चरों ने दावा किया है की दिन में तीन मर्तबा एक एक कप ब्लेक टी (बिना दूध के स्तेमाल से तैयार )आपके रक्त चाप को खासा कम और मान्य स्तर पर रख सकती है .
BLACK TEA REDUCES BLOOD PRESSURE:
Researchers from western Australia claim that drinking a cup of black tea three times a day may significantly reduce your blood pressure .The research was published in the Archives of Internal Medicine.
करेले का अर्क दो औंस (५६.७० ग्राम )एक कप पानी और शहद के साथ लेने से दमे (एस्मा )में आराम आता है .
Mix two ounces of bitter gourd juice with a cup of honey and water for asthma.
स्पर्म को आनुवंशिक नुकसानी (जेनेटि डेमेज )से बचाए रह सकता है रोजाना लिए जाने वाले एक संतरे का नियमित सेवन .यह करिश्मा इसमें मौजूद विटामिन -सी करता .
An orange a day protects sperm from genetic damage with its vitamin C content .
RAM RAM BHAI ! RAM RAM BHAI !
और अब आज का नीतिपरक दोहा :
आवत ही हरखे नहीं ,नैनं नहीं स्नेह ,
तुलसी तहां न जाइए ,चाहे कंचन बरखे मह .
यहाँ हरखे का अर्थ हर्षित होना प्रसन्न होना है और बरखे का अर्थ वर्षा होना है .देहिक मुद्रा बत्लादेती है सब कुछ आपको किसी का और अब आज का नीतिपरक दोहा :
आवत ही हरखे नहीं ,नैनं नहीं स्नेह ,
तुलसी तहां न जाइए ,चाहे कंचन बरखे मेह बतला देती .
यहाँ हरखे का अर्थ हर्षित होना प्रसन्न होना है और बरखे का अर्थ वर्षा होना है .देहिक मुद्रा बतला देती है सब कुछ आपको किसी का आना अच्छा लगा या नहीं .मेह जनभाषा का शब्द है जिसका अर्थ भी मेह जनभाषा का शब्द है जिसका अर्थ भी ब्बारिश है .हर्ष विषाद के भाव छिपाए नहीं छिपते हैं इसी को कहा जाता है बॉडी लेंग्वेज (मुख मुद्राएँ ,हाव भाव ,दैहिक ध्वनी ). तुलसीदास कहतें हैं जहां आपको देख के कोई अन्दर से खुश न हो वहां भूल कर भी न जाइए चाहे उस घर में सोना बरसता हो .कितनी भी आवभगत होती हो .चेहरे झूठ नहीं बोलते .
RAM RAM BHAI ! RAM RAM BHAI !
यौन संबंधों के दीर्घ स्वास्थ्य के लिए प्रेम मिलन के बाद का प्रेम प्रदर्शन
यौन संबंधों के दीर्घ स्वास्थ्य के लिए प्रेम मिलन के बाद का प्रेम प्रदर्शन प्रेमी द्वारा प्रेमिका को गले लगाके प्रेम का इज़हार करना उसके बालों में ऊँगली फिराना किसी और बिध प्रेम जतलाना यौन संबंधों के दीर्घावधि स्वास्थ्य के लिए ज़रूरी पाया गया है .अकसर यौन क्रिया भुगताने के बाद पुरुष पहले सो जाता है अकसर दूसरी तरफ करवट लेके .जब की यही वे लम्हें हैं जब महिला असुरक्षित महसूस करने लगती है .उसे प्रेम मिलन के बाद लाड दुलार चाहिए .दोनों की संवेगात्मक ज़रूरीयात भिन्न रहतीं हैं .पुरुष अकसर दौड़ के शिखर छू लेता है और फिर नीचे उतर आता है महिला एक विसतृत भावात्मकऔर दैहिक पठार पर बनीरहती है .उत्तर मैथुन चुम्बन आलिंगन प्रेम वार्ता उसे शांत करती है .आश्वस्त करती है एक सुरक्षा का बोध कराती है .
यौन संबंधों की बेहतरी के लिए भी ज़रूरी है यह प्रेम संवाद प्रेम मिलन मनाने के बाद का उतना ही जितना की खुद सेक्स ,मैथुन .यही लब्बोलुआब है एक ताज़ा रिसर्च का जिसे संपन्न किया है मिशिगन विश्व -विद्यालय के शोध कर्ताओं ने .उत्तर मैथुन प्रेमप्रदर्शन प्रतिबद्धता का सूचक बनके आता है एक दूसरे के प्रति .अध्ययन में ४५६ लोगों का सर्वे किया गया .
प्रेमी -प्रेमिका ,जोड़ों के सोने के अंदाज़ का जायजा लिया गया .पता चला पुरुष जल्दी ही घोड़े बेचके सो जातें हैं .
पिलो टाक्स कितनी एहम होतीं हैं संबंधों की आंच को बनाए रखने के लिए इन मर्दुओं को नहीं मालूम .
औरत सुनना चाहती है बाद मैथुन :
सत्य ही रहता नहीं ये ध्यान तुम कविता ,कुसुम या कामिनी हो ..
और यह भी -रूप की आराधना का मार्ग आलिंगन नहीं तो और क्या है ,
स्नेह का सौन्दर्य को उपहार ,रस चुम्बन नहीं तो और क्या है.
लेकिन वह एक परीलोक बुनती रह जाती है निस्संग और अकेली .
REFERENCE MATERIAL :POST -SEX PILLOW TALK HEALTHY FOR RELATIONSHIPS/TIMES TRENDS/THE TIMES OF INDIA ,MUMBAI /JANURAY 25,2012
RAM RAM BHAI ! RAM RAM BHAI !
आज का नीतिपरक दोहा :
अपनी पहुँच विचारि के ,करतब करिए दौर ,
तेते पाँव पसारिये ,जेते लम्बी सौर .
यहाँ सौर का मतलब रजाई है .सार यह है अपनी औकात से बाहर न जाइए ,देख भाल के खर्च कीजिए ,उधार या लोंन लेके घी मत पीजिये .प्रदर्शन की भावना से बचिए .हिर्स बाज़ी पडोसी की रीस नक़ल से बचिए .

5 टिप्‍पणियां:

काजल कुमार Kajal Kumar ने कहा…

एक से एक नुस्खे तो हैं पर वक़्तज़रूरत याद नहीं आते :)

रविकर ने कहा…

आज के चर्चा मंच पर आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति
का अवलोकन किया ||
बहुत बहुत बधाई ||

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कार्यालय में तो बिना दूध की ही चाय पाते हैं...

दीपक बाबा ने कहा…

बिना दूध के चाय - वैसे तो हमें पसंद है पर कार्यलय में उपलब्धता नहीं हो पाती.

veerubhai ने कहा…

दीपक बाबा साहब टी बेग्स साथ में रखिये बी.गर्म पानी के लिए खाली थर्मस .गर्म पानी चाय वाले से मिल जाएगा .ऑफिस में माइक्रोवेव है तो उसमे गर्म हो जाएगा हम तो चाय ही ओवन में बनाते हैं .शुक्रिया आपकी ब्लॉग दस्तक के लिए .ब्लेक टी बनाने ही जा रहा हूँ .