गुरुवार, 19 जनवरी 2012

एंटीओक्सिडेंट -बहुल खाद्य बचाव करतें हैं मधुमेह और हृद -रोगों से .

एंटीओक्सिडेंट -बहुल खाद्य बचाव करतें हैं मधुमेह और हृद -रोगों से .
Antioxidant -rich foods prevent diabetes and heart disease/BODY & SOUL/Vegetables like broccoli are rich in flavonoids/BOMBAY TIMES ,THE TIMES OF INDIA,MUMBAI ,P12
जिन लोगों की खुराक में एंटीओक्सिदेंट्स का बाहुल्य रहता है उनके लिए न सिर्फ हृद रोगों का खतराएक दम से घट के कम रह जाता है खून में कोलेस्ट्रोल की मात्रा भी कमतर और मान्य स्तर पर बनी रहती है .मधुमेह भी नियंत्रित रहता है .ब्लड सुगर लेविल्स मान्य स्तर पर कायम रहतें हैं .
यह कमाल है flavonoids बहुल खाद्यों का है जो एक शक्तिशाली एंटीओक्सिडेंट है .
प्याज ,सेब तमाम किस्म की बेरीज (straberries,raspberries,cannberries,)कुल मिलाकर बेर जैसे रसीले फल जामुन ,फालसा ,चेरी (cherries),kale (kail ,a veriety of cabbage,a hardy heartless variety of cabbage with dark green curly leaves,scotland cabbage ,cabbage of any kind )बंद गोभी, गांठ गोभी (kohlrabi is a swollen turnip shaped stem of a cabbage plant eaten as a vegetable ) flavonoids का खासा सांद्रण ,उच्च स्तर लिए रहतें हैं .
अलावा इसके चाय ,बेरीज ,चोकलेट्स ,वाइन (रेड वाइन ,पोर्ट वाइन ) इसके अच्छे स्रोत हैं .
दरअसल एंटी -ओक्सिडेंट हमारे शरीर में बनने वाले जमा होने वाले उन अणुओं से मुकाबला करतें हैं जो कोशाओं के डेमेज की ,टूट फूट की वजह बनतें हैं आखिरकार ऊतकों को भी इन अणुओं की नुकसानी उठानी पड़ती है .स्वस्थ कोशाओं को नष्ट करतें हैं ये मोलिक्युल्स .(फ्री -रेडिकल्स ).
एंटी -ओक्सिदेंट्स इनसे बचाए रहतें हैं इनका सफाया कर देतें हैं .
एक एक वर्षीय अध्ययन से पता चला है फ़्लवोनोइद्स बहुल खुराक सेकेंडरी डायबितीज़ से ग्रस्त महिलाओं के लिए हृद रोग का ख़तरा कम कर देती है .यह ट्रायल University of East Anglia के साइंसदानों ने संपन्न किया है .
पता चला है कि खुराक में नियमित फ़्लवोनोइद्स को शामिल करके आप अपने ब्लड सुगर लेवेल्स पर बेहतर नियंत्रण में रख सकतें हैं . मधुमेह का कुशल प्रबंधन कर सकतें हैं .
अध्ययन में ५१-७४ साला उन ९३ महिलाओं की पड़ताल की गई जो रजोनिवृत्त हो चुकी थीं ,मिनोपोज़ल थीं ,तथा सेकेंडरी डायबितीज़ से ग्रस्त थीं .
इनमे से आधी महिलाओं को रोजाना फ्लावोनोइड बहुल दो छोटी छोटी चोकलेट बार्स दी गईं शेष को उसी अवधि में प्लेसिबो चोकलेट बार्सदी गईं जिनमे फ़्लवोनोइद्स नहीं थे .पहले वर्ग की महिलाओं के लिए हार्ट अटेक का ख़तरा ३.४ % कम पाया गया .इंसुलिन रेजिस्टेंस तथा खून में कोलेस्ट्रोल का स्तर भी कम हुआ .
RAM RAM BHAI ! RAM RAM BHAI !
लम्बी उम्र के लिए खबरों की खबर रखिये .
'Stay in touch with news & you are sure to live longer /TIMES TRENDS /THE TIMES OF INDIA,MUMBAI /JANUARY 16 ,2012/P17
एक नवीनतर शोध से इल्म हुआ है कि जो लोग टी वी अखबार या इंटरनेट के मार्फ़त देश -विदेश की नवीनतम जानकारी रखतें हैं ख़बरों की खबर हर स्रोत से लेते रहतें हैं वह ज्यादा स्वास्थ्य सचेत पाए जातें हैं .उनकी खुराक भी हेल्दी के तहत आती है .
सेक्रेड हार्ट, रोम की केथोलिक यूनिवर्सिटी के रिसर्चरों ने संपन्न किया है यह अध्ययन जिसके अनुसार दीर्घजीवी होने का कारगर नुश्खा है ख़बरों की खबर रखना .
अखबार डेली मेल में प्रकाशित इस अध्ययन के मुताबिक़ इस अध्ययन में शामिल कुल १००० लोगों का जायजा लेने पर पता चला जिन्हें दुनिया भर की चौतरफा जानकारी खबरों की मार्फ़त मिल रही थी उनकी खुराक कम जानकारी रखने वालों की बनिस्पत कहीं ज्यादा स्वास्थ्य कर थी .इनकी खुराक में ताज़े फल और फ्रेश फिश ज्यादा पाई गई .नतीज़न इनमे मोटापे ,दिल की बीमारियों और कैंसर का जोखिम भी कमतर दिखा .
मुख्यतय :भूमध्य सागर और उसके निकट -वर्ती देशों में रहने वाले लोगों की खुराक 'THE MEDITERRANEAN DIET ' और इनके खाने पीने की आदतों का जायजा लिया गया .पता चला जो जितना ज्यादा जानकारी से लैस था वह उतना ही ज्यादा इस खुराक के करीब था .
दिमागी कोशाओं के अप विकास से ताल्लुक रखने वाली न्यूरो -डी -जेंरेटिव-डीज़ीज़ तथा अन्य लाइलाज बीमारियों का ख़तरा ज्यादा से ज्यादा यह खुराक लेने वालों के लिए एक दम से घटा रहता है .
पूर्व के अध्ययनों ने संचार माध्यम के सेहत पर पड़ने वाले निगेटिव रोल को ही एहम बतलाया था .यह अध्ययन उनसे एक दम से हटके है जिसमे खबरों के प्रति खबरदारी को दीर्घ जीवन की कुंजी बतलाया गया है .

7 टिप्‍पणियां:

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

इतनी बढ़िया और उपयुक्त जानकारी आपने दी है...धन्यवाद!

http://arunakapoor.blogspot.com/

इस पोस्ट पर मनोरंजक सामग्री अवश्य मिलेगी...अवश्य पधारें!

रेखा ने कहा…

जानकारी से भरी हुई पोस्ट ,सार्थक आलेख ...आभार

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

कुछ और बढ़ाते हैं अपनी खुराक में।

यादें....ashok saluja . ने कहा…

वीरू भाई राम-राम !
मुबारक और आशीर्वाद के लिए बहुत-बहुत शुक्रिया !
सेहत के लिए सचेत रखने के लिए नई पोस्ट का भी आभार |

डॅा वेदप्रकाश श्योराण ने कहा…

नमस्ते जी

सतीश सक्सेना ने कहा…

उम्र बढाने के लिए आपकी दी गयीं जानकारियां बेहतरीन हैं वीरू भाई !
आभार आपका !

Amrita Tanmay ने कहा…

बढ़िया जानकारी