मंगलवार, 3 जनवरी 2012

फेट हारमोन बढा देता है औरतों में डिमेंशिया का ख़तरा .

फेट हारमोन बढा देता है औरतों में डिमेंशिया का ख़तरा .
Study :Fat hormone increases risk of dementia in women./CNN HEALTH /JANUARY 3,2012
डिमेंशिया से जुड़े कुछ जोखिम ऐसे हैं जिनसे पार पाना नामुमकिन ही है मसलन बढती उम्र और पारिवारिक पूर्व वृत्तांत डिमेंशिया का ,लेकिन जोखिम तत्वों की इस फेहरिश्त में अब बेली फेट बढ़ने पर पैदा होने वाले अतिरिक्त हारमोन भी जगह बना रहें हैं .
एब्डोमिनल एक्सेस वेट भी खासकर औरतों में रोग के जोखिम को बढ़ा रहा है .आर्काइव्ज़ ऑफ़ न्यूरोलोजी में प्रकाशित एक सद्य रिपोर्ट के मुताबिक़ हारमोन एडिपोनेकटीन (Adiponectin) का बढा हुआ स्तर दिमाग के काम करने की क्षमता में ह्रास और एल्ज़ाइमर्स के जोखिम को बढा सकता है .
World Alzheimer’s Report, के मुताबिक़ इस वक्त दुनिया भर में तीन करोड़ साठ लाख लोग एल्ज़ाइमर्स से ग्रस्त है .अगले बीस सालों में दुनिया भर में इसके दोगुना रोगी एल्ज़ाइमर्स के हो जायेंगे .यह रोग (एल्ज़ाइमर्स )ही ८०% उम्र दराज़ लोगों में डिमेंशिया की एहम वजह बन रहा है .खुद एल्ज़ाइमर्स इसी का आमफ़हम रूप है .एल्ज़ाइमर्स संघ के मुताबिक़ इस रोग के मरीजों की कुल संख्या का दो तिहाई हिस्सा महिलाओं का ही हैं . कुल ५४ लाख अमरीकी इस मर्ज़ की चपेट में हैं इनमे से ९६%लोग ६५ साल से ऊपर आयु वर्ग के हैं .
फेट सेल्स (वसा कोशायें )तैयार करतीं हैं एडिपोनेकटीन हारमोन .यही वह हामोन है जो .अपचयन(मेटाबोलिज्म ) और इंसुलिन हारमोन के प्रति हमारे शरीर की अनुक्रिया (बॉडीज रेस्पोंस ) का विनियमन ,निर्धारण, करता है .
इस हारमोन का उच्चतर स्तर पूर्व में सेकेंडरी डायबितीज़ का जोखिम कम करने वाला समझा गया है .
लेकिन इस अध्ययन के रचनाकारों ने पता लगाया है कि एल्ज़ाइमर्स ग्रस्त उम्र दराज़ महिलाओं में भी इस हारमोन का उच्चतर स्तर पाया जाता है .अभी तक यही समझा जाता था कि यह उच्चतर स्तर डिमेंशिया से बचाव करता है लेकिन स्थिति इसके ठीक विपरीत है .इसका उच्चतर स्तर रोग को हवा देता है .
यही कहना है -Dr. Ernst Schaefer, director of the Tufts University Lipid Metabolism Laboratory, one of the study’s authors का .अध्ययन के रचनाकारों ने ८४१औरत -मर्दों का ब्योरा खंगाला है .ये सभी Framingham Heart Study. में शरीक मूल रोगी हैं उस पीढ़ी के .यह अध्ययन १९४८ में आरम्भ हुआ था इसमें ५००० रोगियों पर नजर रखी गई ताकि हृद सम्वाहिकीय रोग (कार्डियोवैस्क्युलर डिजीज )के खतरे से जुड़े जोखिमों को जाना जा सके.आरम्भ में इस अध्ययन में औरतों और मर्दों की संख्या बराबर रखी गई थी .जब १९८० के दशक में डिमेंशिया की पड़ताल के लिए अध्ययन शुरु किया गया तब सर्वे में शरीक अधिकाँश मरीजों में औरतों का ही बाहुल्य रह गया था .
१३ बरसों तक जिन ५४१ महिलाओं की डिमेंशिया के लिए पड़ताल की जाती रही उनमे से १५९ में किसी न किसी किस्म का डिमेंशिया पनपने लगा था जिनमे १२५ मामले एल्ज़ाइमर्स के मिले .
एडिपोनेकटीन हामोन के बढे हुए स्तर ने जहां डिमेंशिया के पनपने की संभावना को ६०%बढ़ाया वहीँ एल्ज़ाइमर्स के प्रगटीकरण की संभावना को ९०%बढा दिया .
महत्वपूर्ण यह भी है उम्र दराज़ होने के साथ साथ बुजुर्गों को नाश्ता ,लंच डिनर पौष्टिक और भरपूर मिलता रहे .मानसिक स्वास्थ्य की हिफाज़त के लिए भी यह ज़रूरी है .
RAM RAM BHAI 1RAM RAM BHAI 1RAM RAM BHAI 1
सेहत के नुश्खे :
HEALTH TIPS:
व्यायाम कसरत या वर्क आउट करने से पहले और बाद में पानी पीने से मसल क्रेम्पिंग(मांस पेशी में होने वाली दर्द भरी एंठन ) से बचाव हो जाता है .
Drinking water before and after exercise prevents muscle cramping.
ओइली स्किन है तो आधा चाय वाला चमच्च भर के नीम्बू के रस में इतना ही खीरे का सत मिलाइए .तैलीय त्वचा वाले अपने चेहरे पर धीरे धीरे मल लीजिए .
Apply half teaspoon of lemon juice mixed with half teaspoon of cucumber juice on the face for oily skin .

8 टिप्‍पणियां:

रविकर ने कहा…

नव-वर्ष की मंगल कामनाएं ||

धनबाद में हाजिर हूँ --

Anita ने कहा…

मेरी जानकारी में डिमेंशिया के कुछ मरीज हैं, महिलाओं की संख्या ज्यादा है और सभी मोटापे का शिकार रही हैं...हम सभी को बच के रहना होगा अभी से, क्योंकि डिमेंशिया अभिशाप है.

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

रोचक जानकारी..

रेखा ने कहा…

मोटापा तो बहुत सी बिमारियों की जड़ है ....

Patali-The-Village ने कहा…

बहुत ही सुन्दर और ज्ञानवर्धक जानकारी| धन्यवाद|

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

ज्ञानवर्द्धक जानकारी.

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ ने कहा…

सराहनीय प्रस्तुति

जीवन के विभिन्न सरोकारों से जुड़ा नया ब्लॉग 'बेसुरम' और उसकी प्रथम पोस्ट 'दलितों की बारी कब आएगी राहुल ...' आपके स्वागत के लिए उत्सुक है। कृपा पूर्वक पधार कर उत्साह-वर्द्धन करें

डॅा वेदप्रकाश श्योराण ने कहा…

kitna padh letein hain aap..............baap rey