सोमवार, 17 मई 2021

राहुल और प्रियंका गांधी की चुनौती- मोदी जी, बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज...

  • राहुल और प्रियंका गांधी की चुनौती- मोदी जी, बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज...




  • नाचोगे -मेरे जीवन की परम शांति मैंने प्राप्त कर ली। 
  •  लेकिन तुम तो स्साले ट्वीट ट्वीट खेलते हो खेला करते हो ट्वीट का देश का माहौल बिगाड़ते हो दस जनपथ 
  • में बैठी  इतालवी फूफी की कसम खाकर कह सकते  मैं राष्ट्र हित  में  यह सब कर रहा हूँ बात करते हो । 

  • मुझे भी गिरफ्तार करो 

    मोदी जी ,हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेश क्यों भेज दिया !

    राहुल जी आपके कौन  से बीवी वच्चे हैं ?कहाँ हैं ?कितने हैं ?क्या बालिग़ हैं ?

    क्या विदेश में ?

    पांच सौ रुपैये में तीन पोस्टर्स चिपकवाते हो 'देश- निंदा' के कहो तो तुम्हारे खिलाफ भी चिपकवा दें। 
    और तुम कर क्या रहे हो -उपनिषद पढ़ो आँखें खुल जाएंगी ,शापनावर  की तरह सर पर रखकर नाचोगे कहते हुए अपने जीवन की परम शांति मैंने प्राप्त कर ली चिर आनंद भी। 

    I have got the solace of my life and my death too .

    प्रश्न पूछने से कौन  एतराज करता है। उपनिषद का ऋषि कहता है प्रश्न पूछो !प्रश्न से ही सारा ज्ञान प्रसूत हुआ है।

    राष्ट्रीय आपदा में वोट सूंघने वाले कूकर  जहां भी जिस चुनाव में जाओगे आइंदा भी ऐसे ही पिटोगे सूपड़ा साफ़ हो जाएगा जैसे ममता -बाड़ी में हुआ। कर क्या रहे हो तुम भाई बहन !ट्वीट -दुर्मुख ,ट्वीट सुमुखि। ट्वीट सुदर्शना कहने लगा है भारत धर्मी  समाज तुम दोनों को। 

     गद्दारी - गैंग की सरदारी करते हो  !ब्लडी जोम्बी छुट्टे घूम रहे हो आदिनांक।जनता नापेगी तुम्हें नाप रही है। भारतधर्मी समाज का तुम कलंक हो उस लंकिनी कलंकिनी ताड़का की तरह जो खेला होबे कह कह कर गुर्राती  रही है हिंसा का खेल  खेले है। 

    तुम्हें मोदी का सिर चाहिए या वैक्सीन ?लगवाओगे बोलो ! कौन सी लगवानी है पैसे मैं दे वूंगा। विदेशी लगवाऊंगा देसी से तो तुम्हें और अखिलेश्वा को चिढ़ है। एक सन्देश जाएगा राष्ट्र के नाम देखो मैंने भी वेक्सिनेशन कर वा ली तुम भी आगे आओ। और सुनो ट्वीट दुर्मुख  भूण्डे पिटोगे वोट -बम इबके तुम्हारे मुंह में फूटेगा।    

    Arrest me too, Rahul Gandhi tweets poster criticising PM Modi

    सन्दर्भ -सामिग्री :https://timesofindia.indiatimes.com/india/arrest-me-too-rahul-gandhi-tweets-poster-criticising-pm-modi/articleshow/82678964.cms 



  • नाचोगे -मेरे जीवन की परम शांति मैंने प्राप्त कर ली। 
  •  लेकिन तुम तो स्साले ट्वीट ट्वीट खेलते हो खेला करते हो ट्वीट का देश का माहौल बिगाड़ते हो दस जनपथ इतालवी फूफी की कसम खाकर कह सकते  मैं राष्ट्र हित  में  यह सब कर रहा हूँ बात करते हो । 

 

शुक्रवार, 7 मई 2021

यही थी रबीन्द्र नाथ ठाकुर (टैगोर) की दृष्टि -बांग्ला साहित्य के माध्यम से आपने भारतीय सांस्कृतिक चेतना का नवोन्मेष किया ,नै दृष्टि दी कहते हुए ये पूरी कायानात पूरा आलम ,भूमंडल ,प्रकृति और पूरा जैवमण्डल एक नीड़ (पक्षियों के घौसले ) की तरह एकल इकाई है। विश्व एक गाँव क्या घौंसला है। जहां परस्पर सामंजस्य है आज वही पश्चिमी बंगाल टैगोर की मातृभूमि जन्मभूमि ममता -बाड़ी बनके रह गया है जहां तृणमूल के राजनीतिक कार्यकर्ता खुला खेल फरुख्खाबादी खेल रहे हैं कहते चिल्लाते -खेला होबै।

 Yatra Vishvam Bhavatveka Needam 

The whole world is a bird's cage with all its diversity .

The desire for well -being should include our planet ,our nature ,all countries and the entire humanity .

यही थी  रबीन्द्र नाथ ठाकुर (टैगोर) की दृष्टि  -बांग्ला साहित्य के माध्यम से आपने भारतीय सांस्कृतिक चेतना का नवोन्मेष किया ,नै दृष्टि दी कहते हुए ये पूरी कायानात पूरा आलम ,भूमंडल ,प्रकृति और पूरा जैवमण्डल एक नीड़ (पक्षियों के घौसले ) की तरह एकल इकाई है। विश्व एक गाँव क्या घौंसला है। जहां परस्पर सामंजस्य है आज वही पश्चिमी बंगाल टैगोर की मातृभूमि जन्मभूमि ममता -बाड़ी बनके रह गया है जहां तृणमूल के राजनीतिक कार्यकर्ता खुला खेल फरुख्खाबादी खेल रहे हैं कहते चिल्लाते -खेला होबै। 

सैयां भये कोतवाल तो डर काहे का। आज ये -

मल्लिका -ए -बंग, 

लड़ रही है खुली जंग, 

अपनों के संग। 

गैर -तृणमूली पर 'बाहरी' का लेवल चस्पां कर उन्हें गाजर मूली की तरह काटा जा रहा  है।आइंदा कोई सिर न उठा सके भाजपा की ओर ।ख़ौफ़ज़दा लोग अहर्निस भाग रहें हैं असम व निकटवर्ती अन्य राज्यों की  ओर जान बचाते हुए। केंद्रीय मंत्रियों को निशाने पे लिया गया है। कोई संविधान नहीं है मल्लिका के लिए। सिलसिला ज़ारी है क्या फर्क पड़ता है बेगम आपा को कुछ खाकी वर्दी वाले निलंबित हो जाएं ,कोई  फर्क नहीं पड़ता ,सड़कों का रंग लाल दिखना चाहिए।बेगम से इत्तेफाक न रखने वालों का पलायन ज़ारी है। 

सन्दर्भ -सामिग्री :


West Bengal CM Mamata Banerjee meets the families of those killed in Sitalkuchi, Cooch Behar violence. (ANI)

The Centre on Thursday deputed a team of top bureaucrats to West Bengal for a fact-finding exercise on the ongoing violence in the state after TMC’s thumping victory in the recent assembly polls. The four member team, constituted by the Ministry of Home Affairs (MHA), is headed by an additional secretary rank official.

“The team left this morning and is likely to begin its work in Kolkata shortly. It has been given 48 hours to come back with a report,” an MHA official said.

Sources said the team will meet top officials of the West Bengal police apart from the chief secretary and other bureaucrats in the administration. It will also make field visits to some of the places where violence has been reported since Sunday and talk to affected families, sources said.

In the wake of continued violence in West Bengal following poll results, the MHA had on Wednesday written to the State government accusing it of not taking steps to stem the violence and asked why a report sought by it had not been received yet.

MHA sources said the letter had been sent to West Bengal chief secretary Alapan Bandopadhyay reminding him of the May 3 letter by the MHA in which he had been asked to take immediate measures to check post poll violence in the state. The letter had also asked for detailed report on the situation.

“So far the report has not been received. According to media reports, violence continues. This means effective measures have not been taken so far,” an MHA official said quoting from the letter.

He added that West Bengal has been asked to take all necessary measures to stop the violence.

“The letter has also said that if the situation report is not received at once, it will be viewed seriously,” the official said.

Following TMC’s thumping victory in Assembly polls on Sunday, there have been reports of widespread violence in the state with many BJP offices and workers being allegedly targeted by TMC workers. There have also been reports of TMC leader’s being targeted by the BJP. More than 14 deaths have been reported till date.

Taking cognisance of the situation, Mamata Banerjee on Wednesday transferred 30 top officers, including DGP P Nirajnayan, in her first action after being sworn in again as Chief Minister, warning that violence of any kind will not be tolerated.

Following a meeting with top officials, Banerjee said “inefficiencies” had crept into the administration during the long poll process when the Election Commission held control, and said violence was being reported from areas where the BJP had won in the Assembly elections.

The administrative shake-up Wednesday included transfer of 29 IPS officers and one IAS, including DGP Nirajnayan (moved as DG, Fire Services) and ADG (Law and Order) Jagmohan (now DG, Civil Defence). Banerjee brought back Virendra as DGP and Javed Shamim as ADG (Law and Order) — the two had been transferred by the EC during the election period.

In an appeal, Banerjee asked all political parties to maintain peace and harmony. “Bengal doesn’t tolerate unrest, nor do I. Starting today I will tackle the law and order,” she said.    

मंगलवार, 4 मई 2021

ममता-बाड़ी बना दिया बंगाल को दो दिन में चंद घंटों में जो कहा वो करके दिखाया इस कल्लो बनर्जी ने और अभी भी केंद्रीय बलों को कोसने से बाज़ नहीं आ रही है

West Bengal Violence: बंगाल में चुनाव नतीजों के बाद जगह-जगह हिंसा में 11 की मौत, केंद्रीय गृह मंत्रालय ने मांगी रिपोर्ट

अविलम्ब उन लोगों को बंगाल आना चाहिए जो चुनाव प्रचार के दौरान दहाड़ दहाड़ कर कह रहे थे टीएमसी के गुंडे बंगाल छोड़ जाएंगे दो मई आने दो। मान्यवर खुलकर खेला होबै। खेला नहीं खिलवाड़ उनलोगों की ज़िंदगी से जिन्होंने अपना समर्थन आपको दिया। खेला उनके धंधा धौरी  के साथ खुले आम हो रहा है बंगाल की सड़कों पर इसे फ़ौरन रोका जाना चाहिए। मनोवैज्ञानिक समस्याएं हो सकतीं हैं उन लोगों की संतानों को जिनके अपने इस  प्रायोजित हिंसा में मारे जा आ रहे हैं।
ममता-बाड़ी बना दिया बंगाल को दो दिन में चंद घंटों में जो कहा  वो करके दिखाया इस कल्लो बनर्जी ने और अभी भी केंद्रीय बलों को कोसने से बाज़ नहीं आ रही है।ये कैसा लहू तंत्र है भद्र लोक में ?नक्सलबाड़ी का कद छोटा कर दिया निर्ममता ने। कुचल दिया सम्मान जो भाजपा का दिनरात प्रचार करते रहे। 
अच्छी बात है   नड्डा जी आ रहे हैं (नड्डा फड्डा नहीं कल्लो दीदी नड्डा साहब )ये तो इब्तिदा है तेरे भी बघनखे नौंचे जाएंगे निरनख किया जाएगा तुझे भी कानूनी तौर पर। समझाया जाएगा तुझे भी भद्रलोक का असली मतलब। लोक भी और तंत्र का। 
चुनाव परिणाम के बाद हिंसा-आगजनी पर राज्यपाल ने डीजीपी को किया समन, ममता ने की शांति की अपील। फाइल फोटो

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा के बाद भी हिंसा का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। रविवार शाम से सोमवार रात तक विभिन्न हिस्सों में हिंसा की घटनाएं घटी हैं। इन घटनाओं में 11 लोगों के मारे जाने की खबर है। भाजपा का आरोप है कि इनमें नौ उसके कार्यकर्ता हैं। जबकि ब‌र्द्धमान में एक टीएमसी और उत्तर 24 परगना में एक आइएसएफ के कार्यकर्ता की जान चली गई है। ज्यादातर घटनाओं में आरोप तृणमूल कांग्रेस पर लगा है। हिंसा की घटनाओं पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बंगाल सरकार से रिपोर्ट मांगी है। हिंसा-आगजनी पर राज्यपाल ने भी डीजीपी को समन किया है तथा गृह सचिव से रिपोर्ट मांगी है। वहीं, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने रविवार शाम को चुनाव बाद हिंसा को लेकर राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा।

 

नंदीग्राम में घरों और दुकानों में तोड़फोड़

पूर्व मेदिनीपुर जिले के नंदीग्राम में सोमवार सुबह कई घरों और दुकानों में घुसकर तोड़फोड़ की गई। भाजपा कार्यालय में भी तोड़फोड़ की कोशिश की गई। भाजपा के पार्टी कार्यालय को भी आग के हवाले कर दिया गया। भाजपा ने टीएमसी के कार्यकर्ताओं पर इसका आरोप लगाया है, जबकि उसने इससे इन्कार किया है।

कोलकाता के कई इलाकों में अशांति

रविवार रात कोलकाता के उल्टाडांगा इलाके में एक भाजपा कार्यकर्ता को पीटकर मारे जाने का आरोप है, जबकि साल्टलेक, न्यूटाउन, भांगड़ में रात भर अशांति जारी रही। शिवपुर-हावड़ा में भाजपा समर्थक की दुकान में दिन-दहाड़े लूट का मामला भी प्रकाश में आया है। कोलकाता के बांगुड़ एवेन्यू, बड़ाबाजार, बेलाघाटा में तृणमूल समर्थकों ने जीत के बाद दबंगई दिखाई। सभी घटनाओं में आरोप तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर लगा है। उत्तर 24 परगना के भाटपाड़ा में क्रूड बम भी बरामद हुए हैं।

केंद्र ने राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट

बंगाल में हिंसा की घटनाओं पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है। गृह मंत्रालय ने कहा कि सरकार विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं पर हुए हमले की पूरी जानकारी दे। इधर बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने गंभीरता से लेते हुए राज्य के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को सोमवार को समन किया है। इसके साथ ही उन्होंने गृह सचिव से भी रिपोर्ट मांगी है। धनखड़ ने बंगाल के गृह मंत्रालय, बंगाल पुलिस और ममता बनर्जी से शीघ्र कार्रवाई के लिए कहा है।

आज बंगाल आ सकते हैं नड्डा

बंगाल में चुनाव नतीजे के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं पर हो रहे हमले के मद्देनजर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा मंगलवार को राज्य के दौरे पर आ सकते हैं। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव व बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने इसकी जानकारी दी है। विजयवर्गीय ने कहा कि हमारे पार्टी अध्यक्ष यहां का दौरा कर कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने की कोशिश करेंगे।

ममता ने कहा- भाजपा औऱ केंद्रीय बलों ने काफी परेशान किया

तृणमूल अध्यक्ष ममता बनर्जी ने कहा कि हम जानते हैं कि भाजपा और केंद्रीय बलों ने हमें काफी परेशान किया है लेकिन हमें शांति बनाए रखनी होगी। वर्तमान में हमें कोविड-19 के खिलाफ लड़ना है।


e

सोमवार, 3 मई 2021

बघनखे खोले है अभी भी घायल बाघिन ४०० का रक्तपान करके भी अभी प्यासी है राजनीतिक खेल (खेला )ज़ारी है -चुनाव परिणाम आने के बाद भी बीजेपी का एक कार्यालय फूंक दिया गया -कंट्रीसाइड में उन लोगों को आतंकित करने का खेला ज़ोरों पर है जिन्होनें बीजेपी को अपना वोट दिया।

बघनखे खोले है  अभी भी घायल बाघिन ४०० का रक्तपान करके भी अभी प्यासी है राजनीतिक खेल (खेला )ज़ारी है -चुनाव परिणाम आने के बाद भी बीजेपी का एक कार्यालय फूंक दिया गया -कंट्रीसाइड में उन लोगों को आतंकित करने का खेला ज़ोरों पर है जिन्होनें बीजेपी को अपना वोट दिया। 

ये कैसा लोकतंत्र है भद्रलोक (?)बंगाल का जहां बाड़ ही खेत को खा रही है बघनखे घोल बाघिन दहाड़ती है एक एक को देख लूंगी बाद चुनाव परिणाम। क्या इसका संज्ञान लेने वाली कोई कचहरी है। 

एक मुंह से बाघिन कहती है मैं नंदी ग्राम की हार स्वीकार करती हूँ ,झठ दूसरे मुंह से कहती है मैं कचहरी जाऊंगी इसी दुचित्तेपन को,शक्की मिज़ाज़ को ,पैरानोइया कहते हैं शिज़ोफ्रेनिया यही है। हर चीज़ में अपने खिलाफ षड्यंत्र सूंघना ,चुनाव आयोग को गाली देना पानी पी पी के कोसना। चुनाव परिणाम आते ही दीदी खड़ी हो गई। प्लास्टर न जाने कब उतरा ,किसी ने देखा ?चोट का वीडियो किसी ने देखा ? 

नंदीग्राम में ममता बनर्जी को हराने के बाद शुभेंदु अधिकारी ने कही ये बात, TMC ने बनाया ये प्लान- India TV Hindi
Image Source : INDIA TVनंदीग्राम में ममता बनर्जी को हराने के बाद शुभेंदु अधिकारी ने कही ये बात, TMC ने बनाया ये प्लान

West Bengal Election Nandigram Result: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में हाईप्रोफाइल सीट नंदीग्राम को लेकर मामला फंसता जा रहा है। जहां एक ओर नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी ने नजदीकी मुकाबले में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को हरा देने का दावा किया है। वहीं नंदीग्राम के चुनाव परिणाम को लेकर ममता बनर्जी ने गड़बड़ी का आरोप लगाकर कोर्ट जाने की बात कही है। वहीं शुभेंदु अधिकारी ने जीत के बाद ट्वीट कर जनता का आभार जताकर सेवा की प्रतिबद्धता जताई है। रविवार देर रात निर्वाचन आयोग ने बताया कि भाजपा के शुभेंदु अधिकारी ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 1736 मतों से हराया है।  

शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम की जनता को धन्यवाद दिया

कभी ममता बनर्जी के दाएं हाथ रहे हाल ही में बीजेपी में शामिल हुए शुभेंदु अधिकारी ने जीत का दावा करते हुए नंदीग्राम की जनता को धन्यवाद दिया। शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट कर क्षेत्र की जनता का शुक्रिया किया है। शुभेंदु अधिकारी ने ट्वीट करते हुए कहा- “नंदीग्राम की जनता का उनके प्यार, भरोसे, आशीर्वाद और विश्वास और मुझे अपने प्रतिनिधि और नंदीग्राम से विधायक चुने के लिए धन्यवाद करता हूं। यह मेरा उनकी सेवा कभी खत्म ना होने वाली प्रतिबद्धता है और उनके कल्याण के लिए काम कर रहा हूं। मैं वास्तव में उनका आभारी हूं।” शुभेंदु अधिकारी ने इस ट्वीट के साथ इस सीट की मतगणना का परिणाम भी साझा किया है। इसके मुताबिक शुभेंदु ने ममता बनर्जी को 1736 वोटों से हराया है। 

TMC ने निर्वाचन आयोग को लिखा पत्र

तृणमूल कांग्रेस ने मुख्य निर्वाचन कार्यालय, पश्चिम बंगाल को पत्र लिखा है, जिसमें नंदीग्राम के वोटों की तत्काल पुन: गिनती की मांग की गई है। गौरतलब है कि, नंदीग्राम शुभेंदु अधिकारी का गढ़ माना जाता है। लेकिन ममता बनर्जी ने बीजेपी प्रत्याशी शुभेंदु अधिकारी के खिलाफ चुनाव लड़ने और अपने परंपरागत सीट भवानीपुर से सीट ना लड़ने का ऐलान कर राजनीतिक जानकारों को चौंका दिया था, ऐसे में पूरे देश की नजर इस सीट के परिणाम पर लगी हुई थीं।

कोर्ट जाएंगी ममता बनर्जी

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिकि, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नंदीग्राम सीट पर चुनाव परिणाम को लेकर कोर्ट जाएगी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि 'मैं जनादेश को स्वीकार करती हूं। लेकिन मैं न्यायालय जाऊंगी क्योंकि मुझे जानकारी है कि परिणामों की घोषणा के बाद कुछ हेरफेर की गई और मैं उसका खुलासा करूंगी।' तृणमूल कांग्रेस की शानदार जीत के संकेत के बाद ममता बनर्जी ने पार्टी के समर्थकों से कहा कि यह बंगाल की जीत है, बंगाल के लोगों की जीत है। हमारी पहली प्राथमिकता कोविड-19 से निपटना है। पश्चिम बंगाल में जीत के बाद पहली बार ममता बनर्जी ने कहा कि कोरोना नियंत्रण हमारी पहली प्राथमिकता, अभी जीत का जश्न नहीं मनाएंगे।

भूल जाइए नंदीग्राम में क्या हुआ- बनर्जी

ममता बनर्जी ने नंदीग्राम में हार को लेकर कहा कि भूल जाइए नंदीग्राम में क्या हुआ... हम बंगाल जीते हैं। मैं नंदीग्राम की जनता का फैसला स्वीकार करती हूं। हमारी पहली प्राथमिकता कोरोना से लड़ाई है। एक सीट से कोई फर्क नहीं पड़ता है।

3 मई शाम 7 बजे राज्यपाल से मिलेंगी ममता बनर्जी

ममता बनर्जी सोमवार (3 मई) को राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात करेंगी। कल यानि 3 मई को शाम 7 बजे राज्यपाल से ममता बनर्जी मिलेंगी। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने टीएमसी की जीत के लिए ममता बनर्जी को बधाई दी। ये जानकारी राज्यपाल ने ट्वीट करके दी है। 

शुक्रवार, 30 अप्रैल 2021

कोरोना ग्रस्त होने के अनन्तर भी वह लिखने से नहीं चूके . उनका दर्शन था कर्म प्रारब्ध से आगे है। यदि इस जन्म का पुरुषार्थ (प्रयास ,एफर्ट )प्रबल है तो वह कल के पुरुषार्थ को पटखनी देकर नया प्रारब्ध लिख सकता है।


साहित्य का एक और सूरज अस्त, कुंवर बेचैन साहब का निधन

kunwar bechain dies of corona
साहित्य का एक और सूरज कोरोना के चलते अस्त हो गया। गुरुवार को कुंवर बेचैन का निधन हो गया, वह लंबे समय से संक्रमण से लड़ रहे थे। हिंदी ग़ज़ल और गीत के महत्वपूर्ण हस्ताक्षर कुंवर बेचैन का जन्म उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले के उमरी गांव में हुआ था। मुरादाबाद से उनका विशेष लगाव था। चंदौसी के मेला गणेश चौथ और मुरादाबाद के जिगर मंच और कलेक्ट्रेट मैदान के कवि सम्मेलनों और मुशायरों में वह हर वर्ष आते थे।
कुंवर बेचैन साहब ने कई विधाओं में साहित्य सृजन किया। कवितायें भी लिखीं, ग़ज़ल, गीत और उपन्यास भी लिखे। 

बेचैन' उनका तख़ल्लुस है असल में उनका नाम डॉ. कुंवर बहादुर सक्सेना है। बेचैन जी गाजियाबाद के एम.एम.एच. महाविद्यालय में हिन्दी विभागाध्यक्ष रहे। उनका नाम सबसे बड़े गीतकारों और शायरों में शुमार किया जाता था। उनके निधन को साहित्य जगत को एक बड़ी क्षति पहुंची है। व्यवहार से सहज, वाणी से मृदु इस रचानाकार को सुनना-पढ़ना अपने आप में अनोखा अनुभव है। उनकी रचनाएं सकारात्मकता से ओत-प्रोत हैं।

'पिन बहुत सारे', 'भीतर साँकलः बाहर साँकल', 'उर्वशी हो तुम, झुलसो मत मोरपंख', 'एक दीप चौमुखी, नदी पसीने की', 'दिन दिवंगत हुए', 'ग़ज़ल-संग्रह: शामियाने काँच के', 'महावर इंतज़ारों का', 'रस्सियाँ पानी की', 'पत्थर की बाँसुरी', 'दीवारों पर दस्तक ', 'नाव बनता हुआ काग़ज़', 'आग पर कंदील', जैसे उनके कई और गीत संग्रह हैं, 'नदी तुम रुक क्यों गई', 'शब्दः एक लालटेन', पाँचाली (महाकाव्य) कविता संग्रह हैं।

कवियों में शोक
उनके निधन पर उनकी समकालीन गीतकार डॉ. मधु चतुर्वेदी ने दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा कि कुंवर जी का जाना बहुत दुखद है। हिंदी गीतों की वाचिक परंपरा के हस्ताक्षर के जाने से आए अवकाश को भरा नहीं जा सकता। उन्होंने बताया कि लंदन के हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स में दो भारतीय गीतकारों के सम्मान हुआ था। मेरा सौभाग्य है कि वह मैं और कुंवर जी थे। उनके साथ अनेक कार्यक्रम और यात्राएं की, जो अब यादों में हैं। 

कुंवर बेचैन अमर उजाला काव्य के भी कार्यक्रम का हिस्सा रहे हैं। पढ़ते हैं उनकी कुछ रचनाएं

जिस मृग पर कस्तूरी है

मिलना और बिछुड़ना दोनों
जीवन की मजबूरी है।
उतने ही हम पास रहेंगे,
जितनी हम में दूरी है।

शाखों से फूलों की बिछुड़न
फूलों से पंखुड़ियों की
आंखों से आंसू की बिछुड़न
होंठों से बांसुरियों की
तट से नव लहरों की बिछुड़न
पनघट से गागरियों की
सागर से बादल की बिछुड़न
बादल से बिजुरियों की
जंगल जंगल भटकेगा ही
जिस मृग पर कस्तूरी है।
उतने ही हम पास रहेंगे,
जितनी हम में दूरी है।

सुबह हुए तो मिले रात-दिन
माना रोज बिछुड़ते हैं
धरती पर आते हैं पंछी
चाहे ऊंचा उड़ते हैं
सीधे सादे रस्ते भी तो
कहीं कहीं पर मुड़ते हैं
अगर हृदय में प्यार रहे तो
टूट टूटकर जुड़ते हैं
हमने देखा है बिछुड़ों को
मिलना बहुत जरूरी है।
उतने ही हम पास रहेंगे,
जितनी हम में दूरी है।

ग़ज़ल

देखते ही देखते पहलू बदल जाती है क्यूं
नींद मेरी आंखों में आते ही जल जाती है क्यूं

हाथ में 'शाकुंतलम' है और मन में प्रश्न है
याद की मछली अंगूठी को निगल जाती है क्यूं

ऐ मुहब्बत, तू तो मेरे मन में खिलता फूल है
तुझसे भी उम्मीद की तितली फिसल जाती है क्यूं

इक सुहानी शाम मुझको भी मिले, चाहा अगर
आने से पहले ही फिर वो शाम ढल जाती है क्यूं

ये सुना था मौत पीछा कर रही है हर घड़ी
ज़िन्दगी से मौत फिर आगे निकल जाती है क्यूं

मेरे होठों पर हंसी आते ही गालों पर मेरे
आंसुओं की एक सन्टी सी उछल जाती है क्यूं

आंसुओं से जब भी चेहरे को निखारा ऐ 'कुंअर'

ज़िन्दगी चुपके से आकर धूल मल जाती है क्यूं 

गुरुवार, 29 अप्रैल 2021

इस तिकड़ी (राहुल -प्रियंका -सोनिया )को किसी ने आज तक वैक्सीन लगवाते नहीं देखा है। किसी ने देखा हो तो कृपया बतलाये।

स्वास्थ्य सबसे बड़ी दौलत है ,संतोष सबसे बड़ा खज़ाना है और आत्मविश्वास सबसे बड़ा मित्र है                                                      -लाओत्से 

दोस्तों ये वक्त है आस्तीन के साँपों तुच्छ और टुच्ची राजनीति करने वाले नेहरुवियन अवशेषी कुनबे को पहचानने का। इन्हें हर स्वदेशी चीज़ से चिढ़ है चाहे मामला देश के शीर्ष साइंसदानों के अनथक प्रयासों के बाद रिकॉर्ड समय में प्रस्तुत की गई वैक्सीन का हो ,हमारे देश के शीर्ष शौर्य के प्रतीकों जाबांजों के  स्वाभिमान का हो या कुछ और। मोदी ग्रंथि से ग्रस्त इन लोगों को यह इल्म ही नहीं है यह भारत राष्ट्र की अवमानना करते करते खुद अपनी ही नज़रों में गिर चुके हैं। इस ज़मानती  अवशेषी कुनबे के पास अब खोने के लिए कुछ नहीं है अपनी भंडास निकाल रहे हैं देश और देश वासियों के साथ। 

इस तिकड़ी (राहुल -प्रियंका -सोनिया )को किसी ने आज तक वैक्सीन लगवाते नहीं देखा है। किसी ने देखा हो तो कृपया बतलाये। 

अडानी -अम्बानी को दिन रात पानी पी पी कर कोसने वाले इन दिनों क्या कर रहें हैं किस कदर बौखलाए हुए हैं जबकि पूरा विश्व ,विकसित दुनिया भारत को संकट की इस घड़ी  में टेका लगाने को आगे आये हैं ये तिकड़ी लाशों के सर पे चढ़के लाशों की सीढ़ी बनाके देश में अव्यवस्था और बे -चैनी फैलाने की जी जान से कोशिश कर रहें हैं। 

रवीश कुमार सोच के कई मसीहा पत्रकार इनकी इस मुहिम में शामिल हैं। औरों को 'तू' खुद को 'आप' कहलवाने वाले स्वामी असत्यानन्द केजरीवाल भी इस षड्यंत्र में शामिल हैं। वह और उनके तमाम सांसद ,विधायक अपनी शेव बनाके साबुन अन्य राज्यों तथा केंद्र के  मुंह पे फेंक रहें हैं। 
भारत -धर्मी समाज सब देख रहा है दर्ज़ कर रहा है अपने मानसी सीसी कैमरों पर. २०२२ में मज़ा चखायेगा इन शातिर राजनीति के धंधे बाज़ों को।   


नयी दिल्ली, (भाषा) रिलायंस फाउंडेशन ने बुधवार को कहा कि वह गुजरात के जामनगर में ऑक्सीजन आपूर्ति के साथ 1,000 बिस्तरों वाला कोविड-19 अस्तपाल बना रहा है। इस अस्पताल में इलाज की सुविधाएं मुफ्त मिलेंगी।

Read More News: चुनौतियां हजार..सरकार भी तैयार! सुविधाओं से सुधरेंगे हालात या सिस्टम को चला रहे अधिकारियों की मंशा से ?

फाउंडेशन ने एक बयान में कहा कि 400 बिस्तरों वाला कोविड केयर सेंटर एक सप्ताह के भीतर जामनगर में गवर्नमेंट डेंटल कॉलेज एंड हास्पिटल परिसर में स्थापित किया जाएगा। उसके बाद 600 बिस्तरों का केंद्र जामनगर में ही दूसरे केंद्र पर अगले दो सप्ताह में बनाया जाएगा।

Saudi Arabia sends oxygen to India to overcome acute shortage 


Saudi Arabia sends oxygen to India to overcome acute shortage

The urgent supply shipment is being undertaken in coordination with India’s Adani group and Linde company. (Twitter: Indian Embassy Riyadh)