बुधवार, 18 जून 2014

भूलने की बीमारी, वजह और इलाज दोनों मिले

study
भूलने की बीमारी का इलाज

अब आप कुछ नहीं भूलेंगे। भूलने की बीमारी का कारण और इसके इलाज का तरीका दोनों डॉक्टरों ने ढूंढ लिया है। डॉक्टरों ने मानव शरीर में पाए जाने वाले जीन एमएमपी-9 को भूलने की बीमारी की वजह बताई। स्टडी के अनुसार, अगर इंसान की बॉडी से यह जीन बाहर निकाल लिया जाए तो न केवल ब्लड वेसेल्स ठीक हो जाते हैं, बल्कि याद्दाश्त की शक्ति और सुनने की क्षमता भी बेहतर होने लगती है। गंगाराम अस्पताल और अमेरिका के ल्यूसविले स्कूल ऑफ मेडिसिन ने मिलकर स्टडी की। जर्नल ऑफ मॉल्युकूलर बायलॉजी रिपोर्ट्स के मई 2014 के अंक में इस स्टडी को प्रकाशित किया गया है।

हेड रिसर्चर गंगाराम अस्पताल की डॉक्टर सीमा भार्गव ने बताया कि अल्जाइमर्स, पार्किंसन, डिमेंशिया जैसी बीमारी की वजह से लोग भूलते हैं। लेकिन मानव शरीर में होमोसास्टेनीमिया नामक एक इंजाइम होता है, जब यह बढ़ जाता है तो ब्लड मोटा होने लगता है। इससे ब्लड आर्टरीज़ ब्लॉक होने लगती हैं। इसकी वजह से ब्रेन स्ट्रोक या हार्ट अटैक होने का खतरा बढ़ता है लोगों की सुनने की क्षमता भी कम होने लगती है। दुनिया भर में अब तक डॉक्टर इतना ही पता लगा पाए थे कि यह होमोसास्टेनीमिया इंजाइम की वजह से ऐसी बीमारी होती है, लेकिन यह क्यों होता है और क्या कारण है इससे अनजान थे। 

डॉक्टर सीमा ने कहा कि इस रिसर्च में पहली बार बीमारी की वजह एमएमपी-9 जीन को ढूंढ लिया है। हमने स्टडी में पाया कि जिन चूहों में डबल नॉक तकनीक से यह जीन बाहर निकाल लिया गया, उनके ब्लड वेसेल्स में ब्लड का फ्लो बढ़ गया और सुनने की क्षमता ठीक होने लगी। उनकी भूलने की बीमारी में भी सुधार हो गया। अब फार्मा कंपनी को जीन इनहेबिटर बनानी चाहिए, ताकि बॉडी से जीन निकाला जा सके। डॉक्टर ने बताया कि जब होमोसास्टेनीमिया हाइपर हो जाता है, तो इसका इलाज आसान नहीं होता। आमतौर पर इसके लिए विटामिन बी-12 जैसे सप्लिमेंट्स या रेड मीट और मछली खाने की सलाह दी जाती है। लेकिन कई महीने के इलाज के बाद भी यह जल्दी ठीक नहीं होता है। 


2 टिप्‍पणियां:

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया आलेख , सर धन्यवाद !
I.A.S.I.H - ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

Anita ने कहा…

इलाज भी मिल गया और कारण भी...अब वृद्धावस्था से भय का कोई कारण नहीं..