मंगलवार, 10 जून 2014

आरोग्य समाचार

आरोग्य समाचार 

(१) बेदमी से बचाव :बेदम महसूस करते हैं आप ?एक दम से थका मांदा पाते हैं खुद को आप ?ऊर्जाहीनता की इस स्थिति से बचाव का नायब तरीका है तेज़कादमी कीजिये ,दौड़ सकते हैं तो दौड़िये। नींद लेने से और कॉफी के एक प्याले से ज्यादा सचेतन महसूस कीजियेगा एक्सर्साइज़ करने के बाद। यकीन न हो तो आज़मा के देखे। सब थकान और बेदमी काफूर हो जाएगी। 

Low on energy ?Go for a run or a brisk walk .Exercise has been shown more effective than a nap or a cup of coffee at fighting fatigue .

(२)मानसिक काम की दक्षता को धारदार बनाये रखने के लिए बस यूं ही बातचीत कीजिये किसी भी विषय पर गुफ्तगू कीजिये। याददाश्त में भी इज़ाफ़ा होगा बोध सम्बन्धी कार्य मेन्टल फंक्शन में भी। 

(३ )INFANTS EXPOSED TO ALLERGEN DEVELOP RESISTANCE 

Infants exposed to a wide variety of household bacteria and other allergens in the first year of life appears less likely to suffer from allergies ,wheezing and asthma .The protective effect was additive with infants exposed to more allergens having the least amount of risk.

शिशुओं(उम्र ,०-२ साल ) का उम्र के पहले ही साल में ऐसी कोई भी वस्तु मुंह में डालना ,खाना  ,छूना ,या वायु में कुछ एलर्जी पैदा करने वाले तत्वों की मौजूदगी में सांस  लेना या कुछ ऐसे जीवाणुओं के संपर्क में आना जो एलरजी की वजह बन जाते हैं एक एलर्जी सुरक्षा कवच का काम भी कर सकता है। ऐसे शिशु आगे चलके अपेक्षाकृत कई चीज़ों से होने वाली एलर्जी ,दमा तथा घर्रघर्र करके सांस लेने की तकलीफ से कम असर ग्रस्त होते देखे गए हैं। इन ही तत्वों से आगे चलके इनके एलर्जी की चपेट में आने की संभावना घट जाती है। 

इस शुरूआती दौर में जितने अधिक एलर्जी पैदा करने वाले कारकों से इनका संपर्क होता है उसी अनुपात में इनका सुरक्षा कवच भी मजबूत होता रहता है।

वो कहते हैं न A small amount of infection wards off a major infection  वही बात  यहां देखने को मिलती है। 

(४) Sleep after studying essential to retaining what you learn

In study published in Science, researchers at New York University's Langone Medical Center show for the first time that sleep after learning encourages the growth of dendritic spines, the tiny protrusions from brain cells that connect to other brain cells and facilitate the passage of information across synapses, the junctions at which brain cells meet.

Moreover, the activity of brain cells during deep sleep, or slow-wave sleep, after learning is critical for such growth. The findings, in mice, provide important physical evidence in support of the hypothesis that sleep helps consolidate and strengthen new memories, and show for the first time how learning and sleep cause physical changes in the motor cortex, a brain region responsible for voluntary movements.

On the cellular level, sleep is anything but restful: Brain cells that spark as we digest new information during waking hours replay during deep sleep, also known as slow-wave sleep, when brain waves slow down and rapid-eye movement, as well as dreaming, stops.

Scientists have long believed that this nocturnal replay helps us form and recall new memories, yet the structural changes underpinning this process have remained poorly understood. To shed light on this process the researchers employed mice genetically engineered to express afluorescent protein in neurons.

After documenting that mice, in fact, sprout new spines along dendritic branches, the researchers set out to understand how sleep would impact this physical growth.

They found that the sleep-deprived mice experienced significantly less dendritic spine growth than the well-rested mice. The scientists showed that brain cells in the motor cortex that activate when mice learn a task reactivate during slow-wave deep sleep. Disrupting this process, they found, prevents dendritic spine growth.


  1. In study published in Science, researchers at New York University's Langone Medical Center show for the first time that sleep after learning ...

6 टिप्‍पणियां:

Rahul... ने कहा…

नमस्कार शर्माजी,
कैसे हैं आप ? थकान व बेदमी से निजात के लिए आपने अच्छा तरीका सुझाया.... अमल करूँगा..

रविकर ने कहा…

आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

आशीष भाई ने कहा…

बढ़िया जानकारी , साथ ही साथ व्यायाम धीरेधीरे भी करना चाहिए , क्योंकि इतनी गर्मी में रक्तचाप व दिल पे भी असर आ सकता हैं , खासतौर से वो जो धूम्रपान करते हैं !
I.A.S.I.H - हिंदी ब्लॉग ( हिंदी में समस्त प्रकार की जानकारियाँ )

Vaanbhatt ने कहा…

useful tips...

Anita ने कहा…

सही कहा है आपने और इसके पीछे कारण है तेज चलने से शरीर में अधिक प्राण वायु का पहुंचना, जब भी शरीर में आक्सीजन कम हो जाती है थकान महसूस होती है. गहरी श्वास लेने से भी थकावट दूर होती है.

Hindi Golpo ने कहा…


आग लगाने वाली चुदाई कहानियां

चुदाई की कहानियां

मजेदार सेक्सी कहानियां

Nude Lady's Hot Photo, Nude Boobs And Open Pussy

सेक्स कहानियाँ

हिन्दी सेक्सी कहानीयां