रविवार, 1 दिसंबर 2013

Wear a red ribbon on World AIDS DayWorld AIDS Day

भारत के संदर्भ में विश्वएड्स दिवस:एक दिसंबर ,२०१३  आश्वस्त करता प्रतीत होता है। जहां दुनिया भर में २००५-१२ के दरमियान एच आई वी -एड्स से होने वाली मौतों में ५०% वृद्धि हुई है ,१० -१९ साला आयुवर्ग के बीस लाख से ज्यादा नए लोग इस संक्रमण की चपेट में आयें हैं वहीँ भारत में गत दशक मै  नए संक्रमण के ५७%मामले कम दर्ज़ हुए हैं। 

मुम्बई नगरी ने भी इस दिशा में शानदार काम किया है।प्रस्तुत है इसका संक्षिप्त सा विवरण : 


hiv -POSITIVE PATIENTS GETTING FREE LIFE -SAVING DRUGS DOUBLE SINCE '08

More people want to get treated :docs

the happy news on the hiv epidemic front continues .just when united nations aids (unaids)has praised india for reducing new hiv infection rate by 57 % in a decade ,news from mumbai shows that the number of patients put on life saving drugs has almost doubled in the last five years .figures released by the mumbai district aids control society (mdacs)on the eve of world aids day show that 36,920 hiv patients in the city have been put on anti -retroviral therapy (art )over the years .

the therapy has been instruemental  in changing the perception of aids from being a death sentence to a manageable chronic disease .


"this is a 96.2% increase in  the number of patients taking art since 2008,"said dr b adsul ,additional project director at mdacs.the number show that the  aids -control programme is spreading wider into the community .the city's government aided aids control programme has registrations of 67,326 patients across the city .

"IN THE LAST FIVE YEARS ,WE HAVE MANAGED TO INCREASE THE NUMBER OF PATIENTS COMING TO US FOR TREATMENT BY 60% ,"SAID DR ADSUL .THAT HIV -POSITIVE INDIVIDUALS ARE LIVING HEALTHIER LIVES CAN BE GAUGED FROM THE FACT ALMOST 40% OF THE REGISTERED PATIENTS DON'T NEED ART YET ,SAID AN MDACS OFFICIAL .

THE MDACS  ,WHICH WORKS UNDER THE CIVIC BODY ,OPERATED 69 CENTERS FOR TESTING AND COUNSELLING PATIENTS AS WELL AS 10 CENTERS TO DISTRIBUTE ART MEDICINES .

                    IN THE LAST FIVE YEARS ,THE NUMBER OF PEOPLE GETTING THEMSELVES CHECKED FOR THE DISEASE HAS GONE UP BY 39 % .THE NUMBER OF PREGNANT WOMEN GETTING THEMSELVES CHECKED FOR  HIV HAS INCREASED BY 5%. 


UNAIDS REPORTS A 52% REDUCTION IN NEW HIV INFECTIONS AMONG CHILDREN AND A COMBINED 33% REDUCTION AMONG ADULTS AND CHILDREN SINCE 2001

World closing in on Millennium Development Goal 6, globally the AIDS epidemic has been halted and reversed—race is on to reach universal access to HIV treatment.

Declining new HIV infections in children
New HIV infections among adults and children were estimated at 2.3 million in 2012, a 33% reduction since 2001. New HIV infections among children have been reduced to 260 000 in 2012, a reduction of 52% since 2001.

Fewer AIDS-related deaths 
AIDS-related deaths have also dropped by 30% since the peak in 2005 as access to antiretroviral treatmentexpands.


Progress in antiretroviral therapy
By the end of 2012, some 9.7 million people in low- and middle-income countries were accessingantiretroviral therapy, an increase of nearly 20% in just one year. In 2011, UN Member States agreed to a 2015 target of reaching 15 million people with HIV treatment.
More investments 
Despite a flattening in donor funding for HIV, which has remained around the same as 2008 levels, domestic spending on HIV has increased, accounting for 53% of global HIV resources in 2012. The total global resources available for HIV in 2012 was estimated at US$ 18.9 billion, US$ 3-5 billion short of the US$ 22-24 billion estimated to be needed annually by 2015.

In 2012, an estimated:
  • 35.3 million [32.2 million - 38.8 million] people globally were living with HIV
  • 2.3 million [1.9 million - 2.7 million] people became newly infected with HIV
  • 1.6 million [1.4 million - 1.9 million] people died from AIDS-related illnesses

10 goals for 2015


  • Sexual transmission of HIV reduced by half, including among young people, men who have sex with men and transmission in the context of sex work;
  • Vertical transmission of HIV eliminated and AIDS-related maternal deaths reduced by half;
  • All new HIV infections prevented among people who use drugs;
  • Universal access to antiretroviral therapy for people living with HIV who are eligible for treatment;
  • TB deaths among people living with HIV reduced by half;
  • All people living with HIV and households affected by HIV are addressed in all national social protection strategies and have access to essential care and support;
  • Countries with punitive laws and practices around HIV transmission, sex work, drug use or homosexuality that block effective responses reduced by half;
  • HIV-related restrictions on entry, stay and residence eliminated in half of the countries that have such restrictions;
  • HIV-specific needs of women and girls are addressed in at least half of all national HIV responses;
  • Zero tolerance for gender-based violence.



Wear a red ribbon on World AIDS DayWorld AIDS Day

6 टिप्‍पणियां:

Kuldeep Thakur ने कहा…

आप की ये सुंदर रचना आने वाले सौमवार यानी 02/12/2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है...
सूचनार्थ।

एक मंच[mailing list] के बारे में---

अपनी किसी भी ईमेल द्वारा ekmanch+subscribe@googlegroups.com
पर मेल भेजकर जुड़ जाईये आप हिंदी प्रेमियों के एकमंच से।हमारी मातृभाषा सरल , सरस ,प्रभावपूर्ण , प्रखर और लोकप्रिय है पर विडंबना तो देखिये अपनों की उपेक्षा का दंश झेल रही है। ये गंभीर प्रश्न और चिंता का विषय है अतः गहन चिंतन की आवश्यकता है। इसके लिए एक मन, एक भाव और एक मंच हो, जहाँ गोष्ठिया , वार्तालाप और सार्थक विचार विमर्श से निश्चित रूप से सकारात्मक समाधान निकलेगे इसी उदेश्य की पूर्ति के लिये मैंने एकमंच नाम से ये mailing list का आरंभ किया है। आज हिंदी को इंटरनेट पर बढावा देने के लिये एक संयुक्त प्रयास की जरूरत है, सभी मिलकर हिंदी को साथ ले जायेंगे इस विचार से हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित ये संयुक्त मंच है। देश का हित हिंदी के उत्थान से जुड़ा है , यह एक शाश्वत सत्य है इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है। हिंदी के चहुमुखी विकास में इस मंच का निर्माण हिंदी रूपी पौधा को उर्वरक भूमि , समुचित खाद , पानी और प्रकाश देने जैसा कार्य है . और ये मंच सकारात्मक विचारो को एक सुनहरा अवसर और जागरूकता प्रदान करेगा। एक स्वस्थ सोच को एक उचित पृष्ठभूमि मिलेगी। सही दिशा निर्देश से रूप – रेखा तैयार होगी और इन सब से निकलकर आएगी हिंदी को अपनाने की अद्भ्य चाहत हिंदी को उच्च शिक्षा का माध्यम बनाना, तकनिकी क्षेत्र, विज्ञानं आदि क्षेत्रो में विस्तार देना हम भारतीयों का कर्तव्य बनता है क्योंकि हिंदी स्वंय ही बहुत वैज्ञानिक भाषा है हिंदी को उसका उचित स्थान, मान संमान और उपयोगिता से अवगत हम मिल बैठ कर ही कर सकते है इसके लिए इस प्रकार के मंच का होना और भी महत्वपूर्ण हो जाता है। हमारी एकजुटता हिंदी को फिर से अपने स्वर्ण युग में ले जायेगी। वर्तमान में किया गया प्रयास , संघर्ष , भविष्य में प्रकाश के आगमन का संकेत दे देता है। इस मंच के निर्माण व विकास से ही वो मुहीम निकल कर आयेगी जो हिंदी से जुडी सारे पूर्वग्रहों का अंत करेगी। मानसिक दासता से मुक्त करेगी और यह सिलसिला निरंतर चलता रहे, मार्ग प्रशस्त करता रहे ताकि हिंदी का स्वाभिमान अक्षुण रहे।
अभी तो इस मंच का अंकुर ही फुटा है, हमारा आप सब का प्रयास, प्रचार, हिंदी से स्नेह, हमारी शक्ति तथा आत्मविश्वास ही इसेमजबूति प्रदान करेगा।
ज आवश्यक्ता है कि सब से पहले हम इस मंच का प्रचार व परसार करें। अधिक से अधिक हिंदी प्रेमियों को इस मंच से जोड़ें। सभी सोशल वैबसाइट पर इस मंच का परचार करें। तभी ये संपूर्ण मंच बन सकेगा। ये केवल 1 या 2 के प्रयास से संभव नहीं है, अपितु इस के लिये हम सब को कुछ न कुछ योगदान अवश्य करना होगा।
तभी संभव है कि हम अपनी पावन भाषा को विश्व भाषा बना सकेंगे।


एक मंच हम सब हिंदी प्रेमियों, रचनाकारों, पाठकों तथा हिंदी में रूचि रखने वालों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त कर पाएंगे कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
आप यहां क्लिक करें
या  
ekmanch+subscribe@googlegroups.com
पर मेल भेजें।
इस समूह में पोस्ट करने के लिए,
ekmanch@googlegroups.com
को ईमेल भेजें
[आप सब से भी मेरा निवेदन है कि आप भी इस मंच की सदस्यता लेकर इस मंच को अपना स्नेह दें तथा इस जानकारी को अपनी सोशल वैबसाइट द्वारा प्रत्येक हिंदी प्रेमी तक पहुंचाएं। तभी ये संपूर्ण मंच बन सकेगा

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

हाँ, आज सुबह बैनर लेकर लोग पार्क में घूम रहे थे।

आशीष भाई ने कहा…

आदरणीय , अच्छी सामाजिक जानकारी , धन्यवाद

Vikesh Badola ने कहा…

दिवस की औपचारिकता अकर्मण्‍यता का परिचायक है।

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत अच्छी जानकारी.

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बढ़िया उपयोगी जानकारी !
नई पोस्ट वो दूल्हा....