शनिवार, 28 दिसंबर 2013

कांग्रेस बोले तो करप्ट पार्टी

शनिवार, 28 दिसम्बर 2013


कांग्रेस बोले तो करप्ट पार्टी

कांग्रेस पार्टी करप्ट पार्टी के रूप में बदनाम (मशहूर )हो चुकी है। इसलिए कांग्रेस आदर्श स्केम के गिर्द गिरिफ्त में आये महाराष्ट्र के कांग्रेसियों (मौसेरे  भाइयों )को हटाने का नाटक तो कर सकती है लेकिन नैतिक बल  अब कांग्रेस के पास कहाँ  हैं?

यसवंत रॉय बलवंत राय चव्हाण  की वंशवेल दिल्ली के कांग्रसियों की तरह पूंछ हिलाने वाली कांग्रेस नहीं  है। महाराष्ट्र कांग्रेस एक दम से सत्ता पर  से पाँव हटाने वाली कांग्रेस नहीं है भले सुशील  कुमार शिंदे महाराष्ट्र के एक मज़बूत साख एवं नैतिक आंच वाले नेता नहीं हैं ,लेकिन शरद पवार होने का आज भी कुछ कुछ न कुछ मतलब ज़रूर है। अशोक चव्हाण ,पृथीराज चव्हाण एक ही कुनबा है अलग नहीं हैं।

केंद्र की कमज़ोर कांग्रेस महाराष्ट्र कांग्रेस के नेताओं को हटाने का नाटक तो कर सकती है लेकिन उसको हटाने का एक नैतिक साहस करप्ट कांग्रेस (पर्याय वाची है आज कांग्रेस का )के पास नहीं है। न ही महारष्ट्र के कांग्रेसी झोला छाप है। जो राहुल की भभकी में आ जाएँ।

एक तरफ कांग्रेस केजरीवाल से बे -हद डरी  हुई है। दूसरी तरफ मोदी का खौफ उन्हें  संविधानिक सीमाओं का संज्ञान भी नहीं लेने दे रहा है। सीमाओं का अतिक्रमण कर वे इस या उस बिना पर मोदी को घेरना चाहते हैं। ये सब कांग्रेस की बौखलाहट के लक्षण हैं।

कांग्रेस बोले तो करप्ट पार्टी


2 टिप्‍पणियां:

Kuldeep Thakur ने कहा…

आप की ये सुंदर रचना आने वाले सौमवार यानी 30/12/2013 को नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही है... आप भी इस हलचल में सादर आमंत्रित है...
सूचनार्थ।


एक मंच[mailing list] के बारे में---
एक मंच हिंदी भाषी तथा हिंदी से प्यार करने वाले सभी लोगों की ज़रूरतों पूरा करने के लिये हिंदी भाषा , साहित्य, चर्चा तथा काव्य आदी को समर्पित एक संयुक्त मंच है
इस मंच का आरंभ निश्चित रूप से व्यवस्थित और ईमानदारी पूर्वक किया गया है
उद्देश्य:
सभी हिंदी प्रेमियों को एकमंच पर लाना।
वेब जगत में हिंदी भाषा, हिंदी साहित्य को सशक्त करना
भारत व विश्व में हिंदी से सम्बन्धी गतिविधियों पर नज़र रखना और पाठकों को उनसे अवगत करते रहना.
हिंदी व देवनागरी के क्षेत्र में होने वाली खोज, अनुसन्धान इत्यादि के बारे मेंहिंदी प्रेमियों को अवगत करना.
हिंदी साहितिक सामग्री का आदान प्रदान करना।
अतः हम कह सकते हैं कि एकमंच बनाने का मुख्य उदेश्य हिंदी के साहित्यकारों व हिंदी से प्रेम करने वालों को एक ऐसा मंच प्रदान करना है जहां उनकी लगभग सभी आवश्यक्ताएं पूरी हो सकें।
एकमंच हम सब हिंदी प्रेमियों का साझा मंच है। आप को केवल इस समुह कीअपनी किसी भी ईमेल द्वारा सदस्यता लेनी है। उसके बाद सभी सदस्यों के संदेश या रचनाएं आप के ईमेल इनबौक्स में प्राप्त करेंगे। आप इस मंच पर अपनी भाषा में विचारों का आदान-प्रदान कर सकेंगे।
कोई भी सदस्य इस समूह को सबस्कराइब कर सकता है। सबस्कराइब के लिये
http://groups.google.com/group/ekmanch
यहां पर जाएं। या
ekmanch+subscribe@googlegroups.com
पर मेल भेजें।


arvind mishra ने कहा…

बिल्कुल