सोमवार, 27 फ़रवरी 2012

मजबूत स्थिति में है वाई -गुणसूत्र (Y-Chromosome.).

अपना हाथी दांत का सपना ,लेकर अपने पास ही बैठो ,
दलदल में जो फंसा हुआ था ,अब वो हाथी ,निकल गया है .
मजबूत स्थिति में है वाई -गुणसूत्र  ( Y-Chromosome.).गलत साबित हुए हैं वो गुजिस्ता दिनों के सिद्धांत जो कहते थे मर्द का सर्व नाश सुनिश्चित है क्योंकि वाई -गुणसूत्र छीज रहा है सिमट रहा है .मर्दानगी पे आंच आने वाली नहीं है एक नवीनतर आनुवंशिक अध्ययन से ऐसे ही निष्कर्ष निकाले गएँ हैं .
कोई एक दशक  पहले साइंसदानों ने बतलाया था ,वाई -गुण सूत्र आकार में सिमट रहा है ,बतलाया गया था ,जहां इसमें १४०० जीवन इकाइयां थीं वहीँ वह अब सिमट कर कुछेक दर्जन भर रह गईं हैं .
बस एक दार्शनिक बहस छिड़ गई थी .हमारा, हम मर्दों का, भी वही हश्र होने वाला है जैसा एक कृन्तक (कुतरके खाने बिलों में रहने वाला एक जीव,Transcaucasian mole vole )का हुआ था .
यह स्तनपाई विकासात्मक दवाब के तले अपना वाई -गुणसूत्र गँवा बैठा .बेशक इसकी दो प्रजातियाँ शेष रही एक वाई -गुणसूत्र से युक्त और दूसरी इससे रहित ,Y -Less.इसके  नन्नों  का  लैंगिक   अंतर कालान्तर में कैसे बूझा गया अनुमेय ही है .
कुछ विनाश वादियों ने कहा पचास लाख सालों में मर्द का भी सफाया हो जाएगा ठीक वैसे ही जैसे हिंदमहासागर के द्वीप मारीशश और उसके आसपास के उपद्वीपों से पंखों से युक्त लेकिन उड़ान भरने में असमर्थ डोडो  पक्षी विलुप्त हो गया था .
Dodo:An extinct bird a large extinct flightlless bird that once inhabited Mauritius and neighbouring islands in the Indian Ocean.
लेकिन इन विनाश वादियों और संग साथ इनके कुछ नारीवादियों को हताशा होगी यह बूझकर ,
"सुदूर अतीत में वाई -गुणसूत्र के सिमटने का सिलसिला चला ज़रूर था लेकिन उसके बाद यह संभल गया और आज मज़बूत स्थिति में है .यही मजबूती लाखों बरसों से कायम है .

यह निष्कर्ष निकाला गया है मानवीय वाई गुणसूत्र के रीसस मकाक (Rhesus macaque -a so called Old World monkey whose evolutionary path diverged from humans and chimps some 25 million years ago)बन्दर के गुणसूत्रों से तुलनात्मक अध्ययन के बाद .और इसीलिए हमने शुरू में कहा था -
'दलदल में जो फंसा हुआ था ,अब वो हाथी निकल चुका है ' 
सन्दर्भ -सामिग्री :Men are doomed ?Not quite ,says gene study/THE TIMES OF INDIA,MUMBAI ,FEB 24,2012,P21.
राम राम भाई!  राम राम  भाई !
 

न सही हमारी ,ट्विटर के बॉस   की कही मान लो .
   
न सही हमारी ,ट्विटर के बॉस   की कही मान लो .सेहत के लिए ठीक नहीं है घंटों ,ट्विटर मेसेजिंग साईट से चिपके रहना .लत पड़ जाती है इसकी .बकौल इस सन्देश वाहक साईट के सह -संस्थापक श्री बिज़ स्टोन उन्होंने सोचा नहीं था लोग इस कदर इससे चिपके रहकर अपनी सेहत का बेड़ा  गर्क कर लेंगें ,सोचा गया था लोग चंद लम्हों में अपने काम का मसाला लेकर आगे बढ़ जायेंगें कुछ और जीवन उपयोगी करेंगें. इसीलिए यह १४० करेक्टर्स की मेसेजिंग साईट ईजाद की गई थी .अब लोग १२ -१२ घंटा इससे चिपके बैठे रहतें हैं .
बेशक आज इस माक्रोब्लोगिंग साईट का स्तेमाल तकरीबन दुनिया भर के पचास करोड़ लोग कर रहें हैं .लेकिन इस पर घंटों जाया करना अपनी सेहत के साथ खिलवाड़ करना है .
Tweet is a light high pitched note ,especially one sung by a small bird.To tweet means to make the light high high pitched sound of a small bird.
Twitter(Tweet) is a message sent using the Twitter SOCIAL NETWORKING SERVICE.
TWITTER IS A LOUDSPEAKER USED TO REPRODUCE HIGH -FREQUENCY SOUNDS ,i.e IN A Hi-Fi SYSTEM.
राम राम भाई !  राम राम भाई !
नुश्खे सेहत के :
नुश्खे सेहत के :थकी मांदी आँखों को विराम देने के लिए गुलाब ,खस या फिर पुदीना जल (मिंट वाटर )में रुई का फाया फिगोकर आँखों पर रखिये .बारी बारी से .
To relieve tired eyes ,place a cotton ball soaked in rose ,khus or mint water.
मुहांसों  के  दागों  से  राहत  के  लिए  :
     शहद में थोड़ा सा नीम्बू रस मिलाकर मुहांसों द्वारा छोड़े निशानों पर लगाइए .दाग धब्बे धीरे धीरे कम होने लगेंगें .
    Apply honey mixed with some lemon juice on acne scars.This reduces blemishes.
आरोग्य समाचार :
आरोग्य समाचार पढ़िए -
दिल के आसन्न दौरों की इत्तला देगी यह जेकिट.
Now ,a vest that alerts you of heart attack /THE TIMES OF INDIA,MUMBAI ,FEB24,2012/P21.
साइंसदानों  ने एक ऐसी जेकिट(Cardiac vest) तैयार कर ली है जो दिल का दौरा शुरू होते ही धारक को सावधान कर देगी .इस प्रकार फौरी रोग निदान में सहायक यह जेकिट दिल के दौरों का बेहतर प्रबंधन करने में विधाई भूमिका निभा सकेगी .
दिल का हृदय आरेख उतारने वाली इलेक्ट्रो -कार्डियोग्राफी प्राविधि  यूं गत ६० बरसों से चलन में है लेकिन इसकी अपनी सीमाएं खुलकर सामने आ चुकीं हैं .अमूमन ब्लड टेस्ट नतीजे आने तक १२ घंटे जाया हो जातें हैं .इस दरमियान दिल (हृद पेशी )को लगातार नुकसानी भोगनी पड़ती है .
एक ब्रितानी कम्पनी द्वारा तैयार की गई यह अभिनवजेकिट , दिल को दौरों से होने वाली नुकसानी के प्रति खबरदार करने ,चेतावनी देने वाली ,यह  हृद जेकिट, पलक   झपकते   ही ,चंद   मिनिटों   में ही, डॉ .  को पूरी   इत्तल्ला   दे   देगी .क्या मरीज़ को  दिल का दौरा पड़ रहा  है ?  यदि हाँ , तो  नुकसानी किधर   हो रही   है ?सब   कुछ   बतलाएगी     यह जेकिट .
 UK'S Bradford Royal Infirmary हृद चिकित्सा के क्षेत्र में इस क्रांतिकारी जेकिट का स्तेमाल करने वाला दुनिया का पहला अस्पताल होगा .
इसको मरीज़ की छाती और कमर से तकरीबन ८० संसूचकों (Sensors)की मदद से जोड़ा जाएगा .रोग निदान परम्परा गत निदान में खपने वाले समय से १२ घंटा पहले कर लिया जाएगा .फ़ौरन बाद इसके ,इलाज़ मुहैया करवा दिया जाएगा मरीज़ को .इसे सही ही 'HEART-SCAPE' कहा जा रहा है .
यह जेकिट दिल की दीगर बीमारियों की तरफ भी इशारा करेगी .
"It will help us gain an instant in -depth 3D view ,making it easier to interpret if a patient is having a heart -attack,enabling treatment to start earlier,"  ,said Dr.James Dunbar,consultant physician at the Bradford Royal Infirmary .
राम राम भाई !  राम राम भाई !

नुश्खे सेहत के  :
टमाटर में  मौजूद लाइकोपीन   (Lycopene) कैंसर  रोग  समूह   यथा  प्रोस्टेट  ,उदर  और  फेफड़ा   कैंसर के खतरे के वजन को कम करने में मददगार रहता है .
Lycopene in tomatoes help lower the risk of prostate ,stomach and lung cancers.
Lycopene is a powerful antioxidant of the carotenoid  group ,found in tomatoes and used in many antioxidant  dietary supplements .
फूल गोभी :फूल गोभी के एंटीओक्सिडेंट कारी गुण हृद वाहिकीय रोगों (हृदय और रक्त वाहिकाओं के रोगों ) से बचाए रहतें हैं .
Cauliflower's antioxidant properties protect against cardiovascular diseases.Cardiovascular means related to both heart and blood vessels.

नुश्खे सेहत के :
महिलाओं के मामले में संतरा और चकोतरा जैसे नीम्बू वंशीय Citrus fruits का नियमित सेवन खून के थक्के से पैदा होने वाले ब्रेन अटेक(Brain attack or Cerebrovascular accident,or stroke) के खतरे के वजन को कम करता है .एक सद्य प्रकाशित अमरीकी अध्ययन में यह खासतौर से बतलाया गया है .
पूर्व में किये गए एक और अधययन में यह इत्तल्ला  भी दी गई थी ,इन फलों से प्राप्त फ़्लेवोनोइद्स (Citrus derived flavonoids) एक  तरफ वजन का बढना थाम सकते हैं दूसरी और Metabolic syndrome को भी मुल्तवी रख सकतें हैं .
EATING CITRUS LOWERS WOMEN'S STROKE RISK
Women who regularly eat citrus fruits such as oranges and grapefruit may have lower risk of blood -clot related stroke,according to a US study . A previous study suggested that citrus-derived flavonoids may help prevent weight gain and metabolic syndrome.
Metabolic syndrome:
    Metabolic syndrome(dysmetabolic syndrome,insulin resistance syndrome,syndrome X) is a common combination of insulin resistance and type 2 diabetes with central obesity (i.e. with fat distribution mainly around the waist ),high blood pressure ,and hyperlipidaemia.It is associated with a risk of early atherosclerosis.
फुट ओडर  से राहत के लिए :
जूते के अन्दर थोड़ा सा खाने का सोडा (Baking soda)छिड़ककर उसे रात भर यूं ही छोड़ दें .फुट ओडर से राहत मिलेगी .
Sprinkle baking soda into the shoes and leave it overnight to soak up smelly odours.
हेड फोन्स की मार से बचाव के लिए :
   आजकल हेंड्स फ्री का चलन है .आई पोड से लेकर अनेकानेक गेजेट्स में हेड फोन्स,ईअर  फोन्स   धडल्ले से काम में लिए जा रहें हैं .इनके लगातार स्तेमाल से श्रवण ह्रास हो सकता है .एक घंटा स्तेमाल के बाद कानों को कमसे कम १०-१५ मिनिट का विराम दें हेड फोन्स निकला कर रख दें .
Protect your hearing when using earphones by taking a 10-15 minute break every hour.

Want to burn fat? Do this for 3 minutes!

 

Want to burn fat? Do this for 3 minutes!

राम राम भाई !  राम राम भाई !

दीर्घ जीवी बनातें हैं हमें फल और तरकारियाँ .
Fruits and veggies make you live longer./THE TIMES OF INDIA,MUMBAI ,FEB26,2012/NEWS DIGEST/FRONT PAGE.
फल और तरकारियाँ एक तरफ हमें उच्च स्तर का पोषण मुहैया करवातें हैं वहीँ इनका केलोरी मान बहुत ज्यादा नहीं रहता .रोगोपचारक हैं , गुणों से भरपूर हैं, फल और तरकारियाँ .जो अनेक बीमारियों को दूर भगातीं हैं .पुष्टिकर तत्वों की सौगात लिए रहतीं हैं .खाद्य रेशों और प्रचुरता में जलांश भी .भूख बढ़ाती हैं .रोग प्रति -रोधक तंत्र को मजबूती देतीं हैं फल और तरकारियाँ .
कितनी ही बीमारियों को हाशिये पर रखने में मददगार सिद्ध होतीं हैं फल और तरकारियाँ .फिर चाहे वह  Chronic degenerative problems ही क्यों न हों .दिल की बीमारियाँ हों या मधुमेह और सफ़ेद मोतिया ,यहाँ तक की कैंसर रोग समूह भी ,सभी से समान रूप बचाए रहतें हैं फल और तरकारियाँ .
एंटीओक्सिडेंट से भरपूर हैं ताज़े फल और तरकारियाँ इसीलिए शरीर में पोषक तत्वों की कमी नहीं होने देती हैं बशर्ते इनका पर्याप्त सेवन किया जाए रोज़ मर्रा की खुराक में .शरीर में खून की कमी नहीं होने देतीं हैं चमड़ी और केश राशि की सेहत की नव्ज़ और चमक    भी इन्हीं से जुडी है .
शोध से इल्म हुआ है खुराक में फल और तरकारियों की विविधता ,इनके इन्द्रधनुषी एवं गहरे रंग जहां कैंसर रोग समूह की संभावना को २० %खारिज करतें हैं वहीँ यह स्ट्रोक (ब्रेन अटेक) और  दिल तथा रक्त वाहिकाओं के रोगों की संभावना को ६०%तक घटा देतीं हैं .
Being a reservoir of antioxidants ,fresh fruits and vegetables boost immunity ,prevent nutritional deficiencies like anemia and maintain good hair and skin health .
खुराक में इनकी हिस्सेदारी कमसे कम 40%बनाए रहिये .
नुश्खे सेहत के कुछ और अभी :
ताकि मुक्तावली में दिखे मोतियों की आब .
दांतों को चमकीला बनाए रखने के लिए दांतों की चमक दमक के लिए टूथपेस्ट करते वक्त उसमें बस थोड़ा सा खाना सोडा (baking soda) मिला  लीजिए   .
 To whiten teeth at home ,mix a little baking soda with your toothpaste when you brush.
तैलीय चमड़ी वाले बेहतर है तीन से ज्यादा बार चेहरा रगड़  रगड़ के न धोएं,तैलीय ग्रंथि ऐसा करने से और भी ज्यादा सक्रिय हो जायेंगी .अति -सक्रीय ग्रंथि अब पहले से भी ज्यादा तैलीय पदार्थ बनाएंगी .
For oily skin ,avoid washing your face more than thrice a day or the glands get over -stimulated .

8 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

एक निष्कर्ष के ऊपर पूरा इतिहास बनाने बैठे हैं हम..

यादें....ashok saluja . ने कहा…

क्या बात है ? वीरू भाई ! आप का जवाब नही !
मर्द की मर्दानगी से ले कर ...उसके दिल की सेहत तक के सब नुस्खे हाज़िर कर दिए !
खुश रहें और सेहत के नुस्खे बांटते रहें |
आभार!
राम-राम भाई जी .....:-)))

veerubhai ने कहा…

जब घर में डाक्टर हो तो बाहर सलाह लेने क्यों जाए बहुत बढ़िया सराहनीय प्रस्तुति,... NEW POST काव्यान्जलि ...: चिंगारी... पर


dheerendra
धीरेन्द्र जी आपकी यह टिपण्णी स्पेम से निकाले नहीं निकल रही है .शुक्रिया टिपण्णी करने के लिए .कायांजलि पर आवाजाही बनी रहेगी लाभ उठाते रहेंगें साहित्यिक रस का ,विमर्श का .

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

सुन्दर सूत्र!

Arvind Mishra ने कहा…

पहले समाचार प्रस्तर पर टिप्पणी -
वाई गुणसूत्र विवाद नया नहीं है -बहुत से जैवानुवंशिकीविद यही मानते हैं की दरसल वाई(y) तो एक (x) का टूटा हिस्सा ही है ...हाँ कुछ जीवों में जैसे मनुष्य में यह नर लिंग निर्धारण के जीन इसी पर आ गए -बाकी इस गुणसूत्र में ज्यादातर हिस्सा तो जंक ही है ....इसका मुख्य काम लिंग निर्धारण का है और यह भले ही सिमटता सिकुड़ता जाय यह कम बखूबी करता ही रहेगा !

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत उपयोगी आलेख..

डा. अरुणा कपूर. ने कहा…

विस्तृत जानकारी...सहजता से देने का आपका तरीका बहुत बढ़िया है!....धन्यवाद!

दिगम्बर नासवा ने कहा…

तो क्या किया जाए ... एक चेतावनी है मर्दों को ... या तो एक्स में बदल जाओ नहीं तो ...
सेहत के नुस्खे इस बार भी लाजवाब ... एक हो पोस्ट में इतना कुछ ...
राम राम जी ...