शनिवार, 11 फ़रवरी 2012

कहीं ब्रेड (डबल रोटी )के भुलावे में हम ज़रुरत से कहीं ज्यादा नमक तो नहीं खा रहें हैं ?

कहीं ब्रेड (डबल रोटी )के भुलावे में हम ज़रुरत  से कहीं ज्यादा नमक तो नहीं खा रहें हैं ?
दस में से नौ अमरीकी ज़रुरत से कहीं ज्यादा नामक खा रहें हैं और यकीन मानिए कुसूरवार (अंकल चिप्स )चिप्स या मक्का के भुने हुए दाने 'पाप्कोर्न्स 'नहीं है ,ब्रेड रोल्स ,डिनर रोल्स हैं . दिन में कई मर्तबा खाई जाने वाली ब्रेड है ,ब्रेड स्लाइस हैं ,ब्रेड पीस हैं .जो हम सुबह से शाम तक भकोसतें हैं .सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन  (सी. डी. सी .)का यही मानना समझना है .इस संस्था की मानें  तोदिन भर में हम जितना नमक अपने सिस्टम में डालतें हैं उसका  ४४%फीसद ब्रेड ,डिनर रोल्स ,कोल्ड कट्स ,क्युओर्द मीट,नमक   लगा डिब्बाबंद गोश्त  (Cured meat) ,पिज्जा (पीज़ा,पीत्सा ),सूप्स ,पोल्ट्री ,चीज़ ,सैनविचिज़ ,पास्ता डिशिज़ ,प्रेत्ज़ेल्स (स्नेक्स )एवं आलू चिप्स (आलू के छल्ले )के ज़रिये पहुँच रहा है .यूं एक आदि ब्रेड स्लाइस के ज़रिये उतना नमक हमारे शरीर में दाखिल न भी होता हो बार बार ब्रेड खाने का मतलब कुछ और होता है .सिस्टम में अतिरिक्त नमक झोंकना है ,ब्रेड का अतिरिक्त सेवन .एक स्लाइस वाईट ब्रेड का मतलब २३० मिलीग्राम नमक हो सकता है .
सिस्टम में ज्यादा नामक झोंकना ब्लड प्रेशर को बढ़ा सकता है .यही हाइपर -टेंशन बुनियाद रखता है दिल और दिमाग की बीमारियों की .हार्ट डिजीज और ब्रेन अटेक(स्ट्रोक ,सेरिब्रल वैस्क्युलर एक्सीडेंट ) की .
औसत अमरीकी दिन भर में तकरीबन ३२६६मिलिग्रेम  नमक गड़प रहा है .इसमें वह नमक शामिल नहीं है जो खाने की मेज पर बैठने के बाद आप ऊपर से स्तेमाल करतें हैं पके पकाए भोजन ,सलाद आदि पर बुर्कते हैं .जबकि इस की निर्धारित दैनिक खपत २३०० मिलिग्रेम से ज्यादा नहीं होनी चाहिए .
बारहा हाइप किया गया स्वास्थ्य कर खाद्य 'कोटेज चीज़' भी अतिरिक्त नमक से युक्त रहता है .




11 टिप्‍पणियां:

यादें....ashok saluja . ने कहा…

नई लाभदायक जानकारी के लिए ....
आभार वीरू भाई जी ...राम-राम !

डॉ टी एस दराल ने कहा…

सही कहा । अति चीज़ की खराब होती है ।
ब्रेड पर एक पोस्ट बहुत दिन से हमारे ज़ेहन में भी घूम रही है ।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
--
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर की जाएगी!
सूचनार्थ!

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

चिप्स खाना बन्द कर दिया है अब तो..

Shanti Garg ने कहा…

बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

Maheshwari kaneri ने कहा…

बहुत ही उपयोगी जानकारी देने के लिए आभार...

डॉ॰ मोनिका शर्मा ने कहा…

जी ,चिप्स आदि की तो फिर भी सोचते हैं पर इस तरफ ध्यान कम ही जाता है..... अच्छी जानकारी मिली

SM ने कहा…

i was thinking to write on this but now there is no need as you wrote it
excellent post.

mahendra verma ने कहा…

सावधान करता आलेख।
इनसे बचकर रहना होगा।

S.M.HABIB (Sanjay Mishra 'Habib') ने कहा…

बहुत सार्थक सचेतक आलेख...
सादर आभार.

दिगम्बर नासवा ने कहा…

तो क्या ये जो आम ब्रेड मिलती है ... जैसे ब्राउन ब्रेड ... इसमें भी नमक होता है ... या इतना चलता है ...