शनिवार, 16 जनवरी 2016

दिन को दिन रात को रात कहना ,हौसले की बात है , सच को सच कहने वाले आज भी मिले ,ये बड़ी बात है।

दिन को दिन रात को रात कहना ,हौसले की बात है ,

सच को सच कहने वाले आज भी मिले ,ये बड़ी बात है।

बधाई मोहतरमा !

सलामत रहें मलाला यूसुफ़ज़ई आप।


Sach to yahi hai

2 टिप्‍पणियां:

प्रवीण पाण्डेय ने कहा…

सुख के कारण जतन बटोरे,
पाये पर आश्वासन कोरे।

Ashok Saluja ने कहा…

वीरू भाई जी राम राम ....
बच्ची बधाई और आशीर्वाद की सच्ची पात्र है ....रब राखा |