गुरुवार, 29 मई 2014

शब्द की ब्रह्ममयता को हमने साक्षात देखा है



शब्द की ब्रह्ममयता को हमने साक्षात देखा है। बिना तीर और तलवार के दस साला दम्भी   शासन को शब्द


 की शक्ति ने -

 जड़मूल से उखाड़ फेंका। हाँ हमने अपने कानों से वह नाद बारहा सुना था।


 वो कहते हैं न रस्सी जल गई बल

नहीं गए अभी भी कांग्रेस का अहंकार कभी अजय माकन के रूप में मुखरित हो रहा है कभी मणिशंकर अइयर

बनके। बताते चले इंदिरा की विरासत कांग्रेस की प्रियदर्शनी का शैक्षणिक स्टेटस :

 Indira was mostly taught at home by tutors, and intermittently attended school until matriculation in 1934.[nb 1] She went on to study at the Viswa Bharati University in Shantiniketan.[12] A year later, however, she had to leave university to attend to her ailing mother inEurope.[13] While there, it was decided that Indira would continue her education at the University of Oxford.[14] After her mother died, she briefly attended the Badminton School before enrolling at Somerville College in 1937 to study history.[15] Indira had to take the entrance examination twice; having failed at her first attempt, with a poor performance in Latin.[15] At Oxford, she did well in history, political science and economics, but her grades in Latin—a compulsory subject—remained poor.[16][17]

Best Answer
  • Nacho answered 8 years ago
Indira Gandhi attended prominent Indian, European and British schools like Santiniketan and Oxford, but her weak academic performance prevented her from obtaining a degree. In her years in continental Europe and the U.K., she met Feroze Gandhi, a young Parsee Congress activist, whom she married in 1942, just before the beginning of the Quit India Movement - the final, all-out national revolt launched by Mahatma Gandhi and the Congress Party. The couple were arrested and detained for several months for their involvement in the movement. In 1944, Gandhi gave birth to Rajiv Gandhi, followed by Sanjay Gandhi two years later .


she failed thrice in Oxford entrance examination for 12 th class so she was 11th failure

कांग्रेसियों की आदत है बर्र के छत्ते में ढेला मार्के भागने की। हंसराज कॉलिज नै दिल्ली को लजाते हुए अब श्री अजय 

माकन ने स्मृति ईरानी को अपने निशाने पर लिया था जिनसे आतंकित होकर आखिर आखिर तक राहुल बाबा अमेठी 

में 

घूमते  रहे.एन  चुनाव वाले दिन लोगों से कहते दिखे -देख लेना भैया ज़रा। 

वो कहते हैं न रंग लाएगी हमारी फाका मस्ती एक दिन : ये वही स्मृति ईरानी है जो फक्र से आज भी कहती है काम  की 
तलाश में मैंने मकडानल्ड का फर्श साफ़ किया था मुंबई में। चायवाला और स्मृति ईरानी यही भारत की खुशबू हैं 
विरासत 
हैं जिसे  अभी भी श्रेष्ठि भाव से ग्रस्त कांग्रेसी क्या जाने। 
  • 1




मणिशंकर एयर ने  हमारे चायवाले का भरपूर मज़ाक उड़ाया था -

चायवाला कहके उपहास किया था। ये वही मणिशंकर अइय्यर थे जिन्होनें पोेर्टब्लेयर (पूर्व में काला

पानी के नाम से विख्यात )सेलुअर जेल के प्रांगण से वीरसावरकर की प्रतिमा उखड़वा दी थी।

अभी तो कोयलों में काग बहुत बाकी हैं ,

अभी कुछ और करो।

ये मात्र शुरुआत है कांग्रेसी दम्भियों से जंग ज़ारी रहेगी।

जय भारत धर्मी समाज। जय भारत।

सन्दर्भ- सामिग्री :

  1. Deccan Chronicle ‎- 1 day ago
    The high-profile portfolio in the previous NDA government was held by M M ... Smriti Zubin Irani takes charge as Union Minister for Human ... (Photo: PTI) ... Irani as the BJP's women's wing chief, she lost the just concluded Lok ...

5 टिप्‍पणियां:

राजेंद्र कुमार ने कहा…

आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (30.05.2014) को "समय का महत्व " (चर्चा अंक-1628)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

madhu singh ने कहा…

सर जी प्रणाम , आप की इस बेबाक प्रस्तुति से मन प्रफुल्लित हो गया,बहुत सुन्दर

गगन शर्मा, कुछ अलग सा ने कहा…

देखा भी है कि लोगों को बकवास नागवार गुजरती है फिर भी अक्ल नहीं आती

Prabodh Kumar Govil ने कहा…

खुद ज्ञान प्राप्त करना और "ज्ञान की व्यवस्था करना" दो अलग-अलग बातें हैं, यदि आपके अनपढ़ किसान पिता आपको इंजीनियरिंग पढ़ाने की व्यवस्था करने में सक्षम हैं, तो आप उनसे पहले ख़ुद इंजीनियरिंग करके आने का बेहूदा और बेवकूफ़ी भरा सवाल नहीं पूछेंगे।

Vaanbhatt ने कहा…

लोगों का काम है कहना...