रविवार, 14 दिसंबर 2014

मैं और मोर तोर तह माया , जेहि बस कीन्हें जीव निकाया।



मैं और मोर तोर ,तह माया ,

जेहि बस कीन्हें ,जीव निकाया। 

 I and Mine is Maya .

ये मैं हूँ। ये मेरा है। ये तू है ये तेरा है ,बस ये ही माया है जिसने पूरे जीव संसार 

को 

अपने वश  में कर रखा है। 

ममत्व और अहंकार उस मार्ग की बाधाएं हैं जो भगवान की ओर जाता 

हैऔर उस परम तत्व परब्रह्म (स्वयं अपने सच्चिदानंद स्वरूप का )बोध कराता 

है। 



माया से ही पैदा होता है अहंकार और ममत्व। ममत्व यानी मन का ,मेरा ,ये मेरा  

है का भाव ,माया की  ही संतान है।  



This feeling of I is the main obstacle in our spiritual path .The 

limited sense of I and the concept that something belongs to me is 

all illusion and is only Maya .

It is like in a dream I say ,I am the king ,this is my kingdom .But 

when I wake up the king is not there ,the kingdom is not there .It 

was all the projection of my mind .So is this world ,which rises as a 

thought in my mind and merges back into my mind .This world 

appears and disappears like my thoughts .This is all Maya .It is 

there ,and it is not there .

Whatever belongs to me today belonged to somebody else in the 

past and will belong to somebody else in the future .

I and mine ,it is all an illusion and play .Even today whatever I say 

is mine somebody else is enjoying it .

सब माया का कुनबा है।

The reality is this :

I am the Vibhuti (विभूति )of God tells Bhagvan to Arjuna .I is being 

used here for Arjuna .Arjuna you are also a part of that Vibhuti 

.This whole world is my Vibhuti (विस्तार ),my own expression .

Like me ,you are:

 सत्यम ज्ञानम् अनन्तं। 

But you consider yourself as limited ,this body mind sense complex 

,that is Maya ,ignorance .




5 टिप्‍पणियां:

राजीव कुमार झा ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.
नई पोस्ट : गया से पृथुदक तक

कालीपद "प्रसाद" ने कहा…

भाई वीरेंद्र कुमार जी ,आप ने बहुत सुन्दर और सरल व्याख्या किया हैlइसके लिए बधाई स्वीकार करें !
'कृपया सिद्ध करें कि आप कोई रोबोट नहीं हैं'
को हटा दें तो आसानी होगी !

Upasna Siag ने कहा…

बहुत बढ़िया

Digamber Naswa ने कहा…

माया तेरे कितने रूप ...
सहज और शुद्ध व्याख्या ... राम राम जी ...

Anita ने कहा…

निर्ममो निरंहकार..ममता और अहंता रहित को ही शांति मिलती है...सुंदर बोध देती पोस्ट !